Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Jan 2024 · 1 min read

ना कहीं के हैं हम – ना कहीं के हैं हम

हार दुनियाँ से मैं, तेरे दर आ गया
ले लो अपनी शरण – ले लो अपनी शरण।
एक तूही सहारा, मेरी अम्बे माँ
ना कहीं के हैं हम – ना कहीं के हैं हम।।

हर गालियों में ठोकर, लगी है मुझे
छोर कर है ना जाना, कहीं अब तुझे
तेरी आँचल में छुपके, है रहना मुझे
डर लगता गर, रहते अकेले में हम।
हार दुनियाँ से मैं, तेरे दर आ गया
ले लो अपनी शरण – ले लो अपनी शरण।।

खुश रहता, तेरे दर पे मैं हर घड़ी
तूही मेरे लिए है, माँ सबसे बड़ी
मुझे मौक दो, मै तेरी सेवा करू
तेरी सेवा में, हरपल रहेगें मगन।
हार दुनियाँ से मैं, तेरे दर आ गया
ले लो अपनी शरण – ले लो अपनी शरण।।

✍️ बसंत भगवान राय
(धुन: हाल क्या है दिलों का ना पूछो सनम)

Language: Hindi
Tag: गीत
89 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Basant Bhagawan Roy
View all
You may also like:
परमेश्वर दूत पैगम्बर💐🙏
परमेश्वर दूत पैगम्बर💐🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
माफ करना, कुछ मत कहना
माफ करना, कुछ मत कहना
gurudeenverma198
वृक्षारोपण का अर्थ केवल पौधे को रोपित करना ही नहीं बल्कि उसक
वृक्षारोपण का अर्थ केवल पौधे को रोपित करना ही नहीं बल्कि उसक
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
ये जो लोग दावे करते हैं न
ये जो लोग दावे करते हैं न
ruby kumari
संत हृदय से मिले हो कभी
संत हृदय से मिले हो कभी
Damini Narayan Singh
Life through the window during lockdown
Life through the window during lockdown
ASHISH KUMAR SINGH
*वकीलों की वकीलगिरी*
*वकीलों की वकीलगिरी*
Dushyant Kumar
घबरा के छोड़ दें
घबरा के छोड़ दें
Dr fauzia Naseem shad
मोदी को सुझाव
मोदी को सुझाव
बिमल तिवारी “आत्मबोध”
■ हिंदी सप्ताह के समापन पर ■
■ हिंदी सप्ताह के समापन पर ■
*प्रणय प्रभात*
आज वही दिन आया है
आज वही दिन आया है
डिजेन्द्र कुर्रे
वह तोड़ती पत्थर / ©मुसाफ़िर बैठा
वह तोड़ती पत्थर / ©मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
भाव - श्रृँखला
भाव - श्रृँखला
Shyam Sundar Subramanian
सियासत
सियासत
हिमांशु Kulshrestha
एक दोहा...
एक दोहा...
डॉ.सीमा अग्रवाल
रूप जिसका आयतन है, नेत्र जिसका लोक है
रूप जिसका आयतन है, नेत्र जिसका लोक है
महेश चन्द्र त्रिपाठी
मेरा देश एक अलग ही रसते पे बढ़ रहा है,
मेरा देश एक अलग ही रसते पे बढ़ रहा है,
नेताम आर सी
कैसे अम्बर तक जाओगे
कैसे अम्बर तक जाओगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
"आईने पे कहर"
Dr. Kishan tandon kranti
समझ
समझ
Dinesh Kumar Gangwar
दोस्ती और प्यार पर प्रतिबन्ध
दोस्ती और प्यार पर प्रतिबन्ध
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
"" *माँ के चरणों में स्वर्ग* ""
सुनीलानंद महंत
मौसम
मौसम
surenderpal vaidya
!! कुद़रत का संसार !!
!! कुद़रत का संसार !!
Chunnu Lal Gupta
*किसी से भीख लेने से, कहीं अच्छा है मर जाना (हिंदी गजल)*
*किसी से भीख लेने से, कहीं अच्छा है मर जाना (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
अप कितने भी बड़े अमीर सक्सेस हो जाओ आपके पास पैसा सक्सेस सब
अप कितने भी बड़े अमीर सक्सेस हो जाओ आपके पास पैसा सक्सेस सब
पूर्वार्थ
बयार
बयार
Sanjay ' शून्य'
3004.*पूर्णिका*
3004.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तूफान सी लहरें मेरे अंदर है बहुत
तूफान सी लहरें मेरे अंदर है बहुत
कवि दीपक बवेजा
राज़ बता कर जाते
राज़ बता कर जाते
Monika Arora
Loading...