Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Mar 2024 · 1 min read

नारी है नारायणी

नारी है नारायणी,दुर्गा काली रूप।
मर्यादा इसकी रखें,जनता हो या भूप।
जनता हो या भूप,ध्यान सबका हीं रखतीं।
करके अतिशय त्याग,सर्वहित उर से लखतीं।
कहता कविवर ओम,सृष्टि रचना यह प्यारी।
लिंग भेद को त्याग,ज्ञान पाए हर नारी।।

नारी होती है प्रबल,रखो सदा ही ध्यान।
कोमल बनती प्रेम में,ईश्वर रचित विधान।
ईश्वर रचित विधान,भाव ममता उर रखतीं।
कर पति सुत हित त्याग,स्वाद कष्टों का चखतीं।
कहता कविवर ओम,रखें धीरज भी भारी।
बनकर लक्ष्मी रूप,बसे हर घर में नारी।।

ओम प्रकाश श्रीवास्तव ओम

1 Like · 60 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
इश्क़—ए—काशी
इश्क़—ए—काशी
Astuti Kumari
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
🚩🚩 कृतिकार का परिचय/
🚩🚩 कृतिकार का परिचय/ "पं बृजेश कुमार नायक" का परिचय
Pt. Brajesh Kumar Nayak
शमशान की राख देखकर मन में एक खयाल आया
शमशान की राख देखकर मन में एक खयाल आया
शेखर सिंह
सुख - डगर
सुख - डगर
Sandeep Pande
"YOU ARE GOOD" से शुरू हुई मोहब्बत "YOU
nagarsumit326
Three handfuls of rice
Three handfuls of rice
कार्तिक नितिन शर्मा
मुझसे  नज़रें  मिलाओगे  क्या ।
मुझसे नज़रें मिलाओगे क्या ।
Shah Alam Hindustani
20. सादा
20. सादा
Rajeev Dutta
"मैं सोच रहा था कि तुम्हें पाकर खुश हूं_
Rajesh vyas
!! फिर तात तेरा कहलाऊँगा !!
!! फिर तात तेरा कहलाऊँगा !!
Akash Yadav
प्यासा के कुंडलियां (झूठा)
प्यासा के कुंडलियां (झूठा)
Vijay kumar Pandey
■ जीवन मूल्य।
■ जीवन मूल्य।
*Author प्रणय प्रभात*
3271.*पूर्णिका*
3271.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मेरी तकलीफ़
मेरी तकलीफ़
Dr fauzia Naseem shad
तूफान सी लहरें मेरे अंदर है बहुत
तूफान सी लहरें मेरे अंदर है बहुत
कवि दीपक बवेजा
"बचपन"
Dr. Kishan tandon kranti
भाई बहन का प्रेम
भाई बहन का प्रेम
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
चूड़ियां
चूड़ियां
Madhavi Srivastava
औरों के संग
औरों के संग
Punam Pande
*जख्मी मुस्कुराहटें*
*जख्मी मुस्कुराहटें*
Krishna Manshi
आजकल की औरते क्या क्या गजब ढा रही (हास्य व्यंग)
आजकल की औरते क्या क्या गजब ढा रही (हास्य व्यंग)
Ram Krishan Rastogi
बचपन
बचपन
नन्दलाल सुथार "राही"
दीपावली २०२३ की हार्दिक शुभकामनाएं
दीपावली २०२३ की हार्दिक शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नज़र का फ्लू
नज़र का फ्लू
आकाश महेशपुरी
संजय सनातन की कविता संग्रह गुल्लक
संजय सनातन की कविता संग्रह गुल्लक
Paras Nath Jha
मुहब्बत
मुहब्बत
बादल & बारिश
रुई-रुई से धागा बना
रुई-रुई से धागा बना
TARAN VERMA
एक मशाल जलाओ तो यारों,
एक मशाल जलाओ तो यारों,
नेताम आर सी
ऊँचाई .....
ऊँचाई .....
sushil sarna
Loading...