Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jun 2021 · 1 min read

*”नारी पर अत्याचार”*

क्यों ज़ुल्म करते हो उन पर,
जो सब कुछ छोड़ कर आई हैं।
एक दफा हाल पुछ लेना उस बाप का,
जिसने अपनी बेटी बिहाई‌ हैं।

फेरे ले लिए तो ग़ुलाम समझने लगे,
रानी की तरह वह खुद रहती थी।
इन चंद दुरियों के कारण जो इज्ज़त कम हुई हैं ना उनकी,
इस इज्ज़त पर बादशाहत हमेशा उनकी रहती थी।

लालच के कारण सब ख़त्म कर दिया,
उस लक्ष्मी के लिए इस लक्ष्मी को बेजान कर दिया।
थोड़ी तो कर लेते तुम इस अनमोल की क़ीमत,
क्योंकि तुमने तो सिर्फ़ बहु मगर किसी ने अपना जहां खो़ दिया।

Language: Hindi
1 Like · 2 Comments · 267 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"अकाल"
Dr. Kishan tandon kranti
तू शौक से कर सितम ,
तू शौक से कर सितम ,
शेखर सिंह
3016.*पूर्णिका*
3016.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गिरते-गिरते गिर गया, जग में यूँ इंसान ।
गिरते-गिरते गिर गया, जग में यूँ इंसान ।
Arvind trivedi
मैं किताब हूँ
मैं किताब हूँ
Arti Bhadauria
कहीं वैराग का नशा है, तो कहीं मन को मिलती सजा है,
कहीं वैराग का नशा है, तो कहीं मन को मिलती सजा है,
Manisha Manjari
🌹 वधु बनके🌹
🌹 वधु बनके🌹
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
पश्चाताप
पश्चाताप
DR ARUN KUMAR SHASTRI
तू रुकना नहीं,तू थकना नहीं,तू हारना नहीं,तू मारना नहीं
तू रुकना नहीं,तू थकना नहीं,तू हारना नहीं,तू मारना नहीं
पूर्वार्थ
बदल चुका क्या समय का लय?
बदल चुका क्या समय का लय?
Buddha Prakash
"आंखरी ख़त"
Lohit Tamta
रक्त के परिसंचरण में ॐ ॐ ओंकार होना चाहिए।
रक्त के परिसंचरण में ॐ ॐ ओंकार होना चाहिए।
Rj Anand Prajapati
ये   दुनिया  है  एक  पहेली
ये दुनिया है एक पहेली
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
సంస్థ అంటే సేవ
సంస్థ అంటే సేవ
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
गैरों से क्या गिला करूं है अपनों से गिला
गैरों से क्या गिला करूं है अपनों से गिला
Ajad Mandori
*20वे पुण्य-स्मृति दिवस पर पूज्य पिता जी के श्रीचरणों में श्
*20वे पुण्य-स्मृति दिवस पर पूज्य पिता जी के श्रीचरणों में श्
*प्रणय प्रभात*
आलोचना - अधिकार या कर्तव्य ? - शिवकुमार बिलगरामी
आलोचना - अधिकार या कर्तव्य ? - शिवकुमार बिलगरामी
Shivkumar Bilagrami
*होली*
*होली*
Dr. Priya Gupta
किस दौड़ का हिस्सा बनाना चाहते हो।
किस दौड़ का हिस्सा बनाना चाहते हो।
Sanjay ' शून्य'
खेल खिलाड़ी
खेल खिलाड़ी
Mahender Singh
तारीफ....... तुम्हारी
तारीफ....... तुम्हारी
Neeraj Agarwal
दो शे'र - चार मिसरे
दो शे'र - चार मिसरे
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
ज़िंदगी ऐसी
ज़िंदगी ऐसी
Dr fauzia Naseem shad
गवाह तिरंगा बोल रहा आसमान 🇧🇴
गवाह तिरंगा बोल रहा आसमान 🇧🇴
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
नीची निगाह से न यूँ नये फ़ित्ने जगाइए ।
नीची निगाह से न यूँ नये फ़ित्ने जगाइए ।
Neelam Sharma
नारी तू नारायणी
नारी तू नारायणी
Dr.Pratibha Prakash
तेरी आमद में पूरी जिंदगी तवाफ करु ।
तेरी आमद में पूरी जिंदगी तवाफ करु ।
Phool gufran
*तुम राजा हम प्रजा तुम्हारी, अग्रसेन भगवान (गीत)*
*तुम राजा हम प्रजा तुम्हारी, अग्रसेन भगवान (गीत)*
Ravi Prakash
आया बसंत
आया बसंत
Seema gupta,Alwar
दर्द को मायूस करना चाहता हूँ
दर्द को मायूस करना चाहता हूँ
Sanjay Narayan
Loading...