Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Mar 2017 · 1 min read

नारी तुम अपनी पहचान करो ।

नारी तुम अपनी पहचान करो ।
उठकर अपना सम्मान करो ।
अबला नहीं तुम तो सबला हो
शक्ति हो तुम ये तो ध्यान करो।
नारी तुम अपनी पहचान करो।
उठकर अपना सम्मान करो।
*
ममता की तो मूरत हो तुम ।
प्रेम भाव की सूरत हो तुम ।
सबके लिए तो तुम जीती हो
पर तुम भी हो कुछ ज्ञान करो।
नारी तुम अपनी पहचान करो।
उठकर अपना सम्मान करो।
*
सबकी खुशी में खुश हो लेती हो।
अपने आंसू को तो पी लेती हो ।
अबला हो ये क्यों दर्शाती हो तुम
जागो और अपना उत्थान करो।
नारी तुम अपनी पहचान करो ।
उठकर अपना सम्मान करो ।
@पूनम झा। कोटा,राजस्थान।
#######################

Language: Hindi
Tag: गीत
3 Likes · 1 Comment · 855 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अंतिम सत्य
अंतिम सत्य
विजय कुमार अग्रवाल
झील बनो
झील बनो
Dr. Kishan tandon kranti
नज़र को नज़रिए की तलाश होती है,
नज़र को नज़रिए की तलाश होती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
बेचैनी तब होती है जब ध्यान लक्ष्य से हट जाता है।
बेचैनी तब होती है जब ध्यान लक्ष्य से हट जाता है।
Rj Anand Prajapati
ईर्ष्या, द्वेष और तृष्णा
ईर्ष्या, द्वेष और तृष्णा
ओंकार मिश्र
आपकी सादगी ही आपको सुंदर बनाती है...!
आपकी सादगी ही आपको सुंदर बनाती है...!
Aarti sirsat
समय संवाद को लिखकर कभी बदला नहीं करता
समय संवाद को लिखकर कभी बदला नहीं करता
Shweta Soni
*नारी कब पीछे रही, नर से लेती होड़ (कुंडलिया)*
*नारी कब पीछे रही, नर से लेती होड़ (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
सावन और साजन
सावन और साजन
Ram Krishan Rastogi
बुंदेली दोहा- जंट (मजबूत)
बुंदेली दोहा- जंट (मजबूत)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
3338.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3338.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
ग़ज़ल/नज़्म - दस्तूर-ए-दुनिया तो अब ये आम हो गया
ग़ज़ल/नज़्म - दस्तूर-ए-दुनिया तो अब ये आम हो गया
अनिल कुमार
सब्जी के दाम
सब्जी के दाम
Sushil Pandey
नया मानव को होता दिख रहा है कुछ न कुछ हर दिन।
नया मानव को होता दिख रहा है कुछ न कुछ हर दिन।
सत्य कुमार प्रेमी
मोहब्बत का पैगाम
मोहब्बत का पैगाम
Ritu Asooja
चीरता रहा
चीरता रहा
sushil sarna
मूर्ख बनाकर काक को, कोयल परभृत नार।
मूर्ख बनाकर काक को, कोयल परभृत नार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
ख़ास तो बहुत थे हम भी उसके लिए...
ख़ास तो बहुत थे हम भी उसके लिए...
Dr Manju Saini
सत्य कभी निरभ्र नभ-सा
सत्य कभी निरभ्र नभ-सा
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
मैं
मैं
Vivek saswat Shukla
ईश्वर के प्रतिरूप
ईश्वर के प्रतिरूप
Dr. Pradeep Kumar Sharma
तलाशती रहती हैं
तलाशती रहती हैं
हिमांशु Kulshrestha
अफसोस मेरे दिल पे ये रहेगा उम्र भर ।
अफसोस मेरे दिल पे ये रहेगा उम्र भर ।
Phool gufran
दिल से निभाती हैं ये सारी जिम्मेदारियां
दिल से निभाती हैं ये सारी जिम्मेदारियां
Ajad Mandori
पारिजात छंद
पारिजात छंद
Neelam Sharma
अभिमान
अभिमान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कुदरत है बड़ी कारसाज
कुदरत है बड़ी कारसाज
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
42 °C
42 °C
शेखर सिंह
#आलेख
#आलेख
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...