Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jun 2023 · 1 min read

नारी क्या है

नारी क्या है
********

नारी तुम, स्वयं सुधा हो,
जीवन भर बूँद बूँद कर,
गरल का पान करती हो,
स्वयं पीती हो विष ,
अमृत का दान करती हो ।

नारी तुम ,स्वयं श्रद्धा हो,
पर स्वयं जीवन भर ,
तिल तिल अपमान सहती हो,
स्वयं पीती हो ,अपमानित घूँट,
सबको सम्मान देती हो ।

नारी तुम ,स्वयं स्नेहा हो,
पर स्वयं जीवन भर ,
बूँद बूँद स्नेह से वंचित रहती हो,
स्वयं ढूँढती हो नेह,
सबको स्नेह देती हो ।

नारी तुम ,स्वयं आशा हो,
पर स्वयं जीवन भर ,
आशा की किरणों से दूर रहती हो,
स्वयं रहती हो निराशा के भँवर में,
दूसरों मे आशा भरती हो ।

नारी तुम, स्वयं सुमन हो,
पर तुम स्वयं कली की तरह,
हर पल मसली जाती हो,
बाँटती हो सबको सुगंध,
दूसरों को खिलना सिखाती हो!!

नारी तुम्हारा क्या गुणगान करू,
तुम ही नर को जन्म देती हो
स्वयं नर्क में रहकर तुम,
सबको स्वर्ग का सुख देती हो।

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 407 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ram Krishan Rastogi
View all
You may also like:
तेरे मेरे बीच में
तेरे मेरे बीच में
नेताम आर सी
*मुर्गा की बलि*
*मुर्गा की बलि*
Dushyant Kumar
गति साँसों की धीमी हुई, पर इंतज़ार की आस ना जाती है।
गति साँसों की धीमी हुई, पर इंतज़ार की आस ना जाती है।
Manisha Manjari
जब निहत्था हुआ कर्ण
जब निहत्था हुआ कर्ण
Paras Nath Jha
यूनिवर्सल सिविल कोड
यूनिवर्सल सिविल कोड
Dr. Harvinder Singh Bakshi
I want my beauty to be my identity
I want my beauty to be my identity
Ankita Patel
कुछ तो उन्होंने भी कहा होगा
कुछ तो उन्होंने भी कहा होगा
पूर्वार्थ
अति-उताक्ली नई पीढ़ी
अति-उताक्ली नई पीढ़ी
*Author प्रणय प्रभात*
नदी से जल सूखने मत देना, पेड़ से साख गिरने मत देना,
नदी से जल सूखने मत देना, पेड़ से साख गिरने मत देना,
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
हमारी भारतीय संस्कृति और सभ्यता
हमारी भारतीय संस्कृति और सभ्यता
SPK Sachin Lodhi
माँ तो आखिर माँ है
माँ तो आखिर माँ है
Dr. Kishan tandon kranti
काजल
काजल
Neeraj Agarwal
जिद कहो या आदत क्या फर्क,
जिद कहो या आदत क्या फर्क,"रत्न"को
गुप्तरत्न
लेखक
लेखक
Shweta Soni
गाँव पर ग़ज़ल
गाँव पर ग़ज़ल
नाथ सोनांचली
क्या हुआ गर नहीं हुआ, पूरा कोई एक सपना
क्या हुआ गर नहीं हुआ, पूरा कोई एक सपना
gurudeenverma198
लोगो को उनको बाते ज्यादा अच्छी लगती है जो लोग उनके मन और रुच
लोगो को उनको बाते ज्यादा अच्छी लगती है जो लोग उनके मन और रुच
Rj Anand Prajapati
तुम रंगदारी से भले ही,
तुम रंगदारी से भले ही,
Dr. Man Mohan Krishna
ज़ब जीवन मे सब कुछ सही चल रहा हो ना
ज़ब जीवन मे सब कुछ सही चल रहा हो ना
शेखर सिंह
रिश्तों में...
रिश्तों में...
Shubham Pandey (S P)
मगर अब मैं शब्दों को निगलने लगा हूँ
मगर अब मैं शब्दों को निगलने लगा हूँ
VINOD CHAUHAN
* थके पथिक को *
* थके पथिक को *
surenderpal vaidya
नए मुहावरे में बुरी औरत / MUSAFIR BAITHA
नए मुहावरे में बुरी औरत / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
मुस्कुराहटे जैसे छीन सी गई है
मुस्कुराहटे जैसे छीन सी गई है
Harminder Kaur
*हटता है परिदृश्य से, अकस्मात इंसान (कुंडलिया)*
*हटता है परिदृश्य से, अकस्मात इंसान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
खुद से ज्यादा अहमियत
खुद से ज्यादा अहमियत
Dr Manju Saini
Remembering that winter Night
Remembering that winter Night
Bidyadhar Mantry
उन कचोटती यादों का क्या
उन कचोटती यादों का क्या
Atul "Krishn"
*हैं जिनके पास अपने*,
*हैं जिनके पास अपने*,
Rituraj shivem verma
उनके ही नाम
उनके ही नाम
Bodhisatva kastooriya
Loading...