Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Mar 2024 · 1 min read

नारी के हर रूप को

इस तरह इस फ़र्ज़ को
अंजाम दीजिएगा।
नारी के हर रूप को
सम्मान दीजिएगा ।।
तुमसे नहीं, उससे
अस्तित्व है तुम्हारा ।
हृदय से इस सत्य को
स्वीकार लीजिएगा।।
जो अंजाम देखना हो,
तो इतिहास देखिएगा।
भूल कर भी नारी का
न अपमान कीजिएगा।।
खुल कर अभिव्यक्त
वह खुद को कर सके ।
संकीर्णता से मुक्त
उसे संसार दीजिएगा ।।
डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
3 Likes · 60 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
बाल कविता: तितली
बाल कविता: तितली
Rajesh Kumar Arjun
मानसिक तनाव
मानसिक तनाव
Sunil Maheshwari
हर सांस की गिनती तय है - रूख़सती का भी दिन पहले से है मुक़र्रर
हर सांस की गिनती तय है - रूख़सती का भी दिन पहले से है मुक़र्रर
Atul "Krishn"
"रिश्ते"
Dr. Kishan tandon kranti
जीवन एक मैराथन है ।
जीवन एक मैराथन है ।
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हमें जीना सिखा रहे थे।
हमें जीना सिखा रहे थे।
Buddha Prakash
शाश्वत प्रेम
शाश्वत प्रेम
Bodhisatva kastooriya
चैत्र नवमी शुक्लपक्ष शुभ, जन्में दशरथ सुत श्री राम।
चैत्र नवमी शुक्लपक्ष शुभ, जन्में दशरथ सुत श्री राम।
Neelam Sharma
चलो दो हाथ एक कर ले
चलो दो हाथ एक कर ले
Sûrëkhâ
मेरे प्रेम पत्र 3
मेरे प्रेम पत्र 3
विजय कुमार नामदेव
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
धर्मराज
धर्मराज
Vijay Nagar
तेरे नयनों ने यह क्या जादू किया
तेरे नयनों ने यह क्या जादू किया
gurudeenverma198
दो पंक्तियां
दो पंक्तियां
Vivek saswat Shukla
इश्क बेहिसाब कीजिए
इश्क बेहिसाब कीजिए
साहित्य गौरव
हम शिक्षक
हम शिक्षक
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
रमेशराज के मौसमविशेष के बालगीत
रमेशराज के मौसमविशेष के बालगीत
कवि रमेशराज
जी हां मजदूर हूं
जी हां मजदूर हूं
Anamika Tiwari 'annpurna '
*बदकिस्मत थे, जेल हो गई 【हिंदी गजल/गीतिका】*
*बदकिस्मत थे, जेल हो गई 【हिंदी गजल/गीतिका】*
Ravi Prakash
3054.*पूर्णिका*
3054.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अपनी सोच
अपनी सोच
Ravi Maurya
इतनी भी
इतनी भी
Santosh Shrivastava
हमनें ख़ामोश
हमनें ख़ामोश
Dr fauzia Naseem shad
ओ लहर बहती रहो …
ओ लहर बहती रहो …
Rekha Drolia
पिता की याद।
पिता की याद।
Kuldeep mishra (KD)
अंतर
अंतर
Dr. Mahesh Kumawat
यादों में
यादों में
Shweta Soni
Anxiety fucking sucks.
Anxiety fucking sucks.
पूर्वार्थ
■ मिसाल अटारी-वाघा बॉर्डर दे ही चुका है। रोज़ की तरह आज भी।।
■ मिसाल अटारी-वाघा बॉर्डर दे ही चुका है। रोज़ की तरह आज भी।।
*Author प्रणय प्रभात*
संग रहूँ हरपल सदा,
संग रहूँ हरपल सदा,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...