Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Mar 2024 · 1 min read

नारी की स्वतंत्रता

नारी गुलाम है
पुरुष की ,
जाने कितने ही युगों से ।
उसके हाथ में दिखने वाली चूडिय़ां
वास्तव में हैं हथकड़ियाँ।
और पैरों की पायल
उसकी बेड़ियाँ हैं ।
सिंदूर और बिंदी
उसके सुहाग के प्रतीक नहीं, बल्कि
उसकी गुलामी के प्रतीक हैं ।
बुर्का और साड़ियां
उसके चलती- फिरती
कैदखाने है।
मैंने इन कैदखानों में नारियों को
तड़पते नहीं देखा
इसका कारण शायद ये कि —
लंबे अर्से से गुलामी सहन करना
उनकी आदत बन गया है ।
मैं प्रतीक्षा में हूँ कि कब
महिलाओं को अपनी हथकड़ी तोड़ने
और कैदखाने से भाग उठने के लिए
बेचैनी उत्पन्न होगी,
शायद उस दिन से महिलाएँ
स्वतंत्र होने लगेंगी ।

— सूर्या

1 Like · 59 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
संस्कृति वर्चस्व और प्रतिरोध
संस्कृति वर्चस्व और प्रतिरोध
Shashi Dhar Kumar
संभव की हदें जानने के लिए
संभव की हदें जानने के लिए
Dheerja Sharma
23/89.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/89.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बस माटी के लिए
बस माटी के लिए
Pratibha Pandey
माटी में है मां की ममता
माटी में है मां की ममता
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
आपका अनुरोध स्वागत है। यहां एक कविता है जो आपके देश की हवा क
आपका अनुरोध स्वागत है। यहां एक कविता है जो आपके देश की हवा क
कार्तिक नितिन शर्मा
तहजीब राखिए !
तहजीब राखिए !
साहित्य गौरव
वक्त आने पर भ्रम टूट ही जाता है कि कितने अपने साथ है कितने न
वक्त आने पर भ्रम टूट ही जाता है कि कितने अपने साथ है कितने न
Ranjeet kumar patre
हम दुनिया के सभी मच्छरों को तो नहीं मार सकते है तो क्यों न ह
हम दुनिया के सभी मच्छरों को तो नहीं मार सकते है तो क्यों न ह
Rj Anand Prajapati
कहे स्वयंभू स्वयं को ,
कहे स्वयंभू स्वयं को ,
sushil sarna
ऋतु बसंत
ऋतु बसंत
Karuna Goswami
ऐ महबूब
ऐ महबूब
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ज़िंदगी ऐसी
ज़िंदगी ऐसी
Dr fauzia Naseem shad
"मत पूछिए"
Dr. Kishan tandon kranti
बना रही थी संवेदनशील मुझे
बना रही थी संवेदनशील मुझे
Buddha Prakash
कृष्ण जन्म
कृष्ण जन्म
लक्ष्मी सिंह
-- गुरु --
-- गुरु --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
सोच की अय्याशीया
सोच की अय्याशीया
Sandeep Pande
महफ़िल में गीत नहीं गाता
महफ़िल में गीत नहीं गाता
Satish Srijan
प्रेम
प्रेम
Mamta Rani
रिश्तों का एहसास
रिश्तों का एहसास
Dr. Pradeep Kumar Sharma
पूछो हर किसी सेआजकल  जिंदगी का सफर
पूछो हर किसी सेआजकल जिंदगी का सफर
पूर्वार्थ
Mental Health
Mental Health
Bidyadhar Mantry
ज़िन्दगी एक उड़ान है ।
ज़िन्दगी एक उड़ान है ।
Phool gufran
जीभ
जीभ
विजय कुमार अग्रवाल
मैं साहिल पर पड़ा रहा
मैं साहिल पर पड़ा रहा
Sahil Ahmad
इत्तिफ़ाक़न मिला नहीं होता।
इत्तिफ़ाक़न मिला नहीं होता।
सत्य कुमार प्रेमी
#परिहास
#परिहास
*प्रणय प्रभात*
*वर्तमान पल भर में ही, गुजरा अतीत बन जाता है (हिंदी गजल)*
*वर्तमान पल भर में ही, गुजरा अतीत बन जाता है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
अम्बेडकरवादी हाइकु / मुसाफ़िर बैठा
अम्बेडकरवादी हाइकु / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
Loading...