Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jul 2016 · 1 min read

नारी की फरियाद — कविता

नारी की फरियाद—- निर्मला कपिला1

मैं पाना चाहती हूँ अपना इक घर
पाना चाहती हूं प्रेम का निर्झर
जहाँ समझी जाऊँ मैं इन्सान
जहाँ मेरी भी हो कोई पहचान
मगर मुझे मिलता है सिर्फ मकान
मिलती है् रिश्तों की दुकान
बाबुल के घर से पती कि चौखट तक
शंका मे पलती मेरी जान
कभी बाबुल् पर भार कहाऊँ
कभी पती की फटकार मैं खाऊँ
कोई जन्म से पहले मारे
को दहेज के लिये मारे
कभी तन्दूर में फेंकी जाऊँ
बलात्कार क दंश मैं खाऊँ
मेरी सहनशीलता का
अब और ना लो इम्तिहान
नही चाहिये दया किसी की
चाहिये अपना स्वाभिमान
बह ना जाऊँ अश्रूधारा मे
दे दो मुझ को भी मुस्कान
अब दे दो मेरा घर मुझ्को
नही चाहिये सिर्फ मकान्
निर्मला कपिला

Language: Hindi
1 Comment · 481 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"उपबन्ध"
Dr. Kishan tandon kranti
कोई उम्मीद किसी से,तुम नहीं करो
कोई उम्मीद किसी से,तुम नहीं करो
gurudeenverma198
*जिंदगी के कुछ कड़वे सच*
*जिंदगी के कुछ कड़वे सच*
Sûrëkhâ Rãthí
जागी जवानी
जागी जवानी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
🌸दे मुझे शक्ति🌸
🌸दे मुझे शक्ति🌸
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
रात का आलम था और ख़ामोशियों की गूंज थी
रात का आलम था और ख़ामोशियों की गूंज थी
N.ksahu0007@writer
■
■ "अ" से "ज्ञ" के बीच सिमटी है दुनिया की प्रत्येक भाषा। 😊
*Author प्रणय प्रभात*
💐Prodigy Love-1💐
💐Prodigy Love-1💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
3020.*पूर्णिका*
3020.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
💫समय की वेदना💫
💫समय की वेदना💫
SPK Sachin Lodhi
*वही निर्धन कहाता है, मनुज जो स्वास्थ्य खोता है (मुक्तक)*
*वही निर्धन कहाता है, मनुज जो स्वास्थ्य खोता है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
प्रकृति का प्रकोप
प्रकृति का प्रकोप
Kanchan verma
अधिकार और पशुवत विचार
अधिकार और पशुवत विचार
ओंकार मिश्र
बेवजह यूं ही
बेवजह यूं ही
Surinder blackpen
शिव शून्य है,
शिव शून्य है,
पूर्वार्थ
प्रेम पर्याप्त है प्यार अधूरा
प्रेम पर्याप्त है प्यार अधूरा
Amit Pandey
दो हज़ार का नोट
दो हज़ार का नोट
Dr Archana Gupta
विविध विषय आधारित कुंडलियां
विविध विषय आधारित कुंडलियां
नाथ सोनांचली
मेरे प्रेम की सार्थकता को, सवालों में भटका जाती हैं।
मेरे प्रेम की सार्थकता को, सवालों में भटका जाती हैं।
Manisha Manjari
मौत की हक़ीक़त है
मौत की हक़ीक़त है
Dr fauzia Naseem shad
अखंड भारत कब तक?
अखंड भारत कब तक?
जय लगन कुमार हैप्पी
चुप
चुप
Ajay Mishra
Kbhi asman me sajti bundo ko , barish kar jate ho
Kbhi asman me sajti bundo ko , barish kar jate ho
Sakshi Tripathi
वो ओस की बूंदे और यादें
वो ओस की बूंदे और यादें
Neeraj Agarwal
एक तुम्हारे होने से....!!!
एक तुम्हारे होने से....!!!
Kanchan Khanna
आज कुछ अजनबी सा अपना वजूद लगता हैं,
आज कुछ अजनबी सा अपना वजूद लगता हैं,
Jay Dewangan
*** हमसफ़र....!!! ***
*** हमसफ़र....!!! ***
VEDANTA PATEL
परिवार के लिए
परिवार के लिए
Dr. Pradeep Kumar Sharma
प्रेम नि: शुल्क होते हुए भी
प्रेम नि: शुल्क होते हुए भी
प्रेमदास वसु सुरेखा
अर्थ  उपार्जन के लिए,
अर्थ उपार्जन के लिए,
sushil sarna
Loading...