Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Settings

नारी की फरियाद — कविता

नारी की फरियाद—- निर्मला कपिला1

मैं पाना चाहती हूँ अपना इक घर
पाना चाहती हूं प्रेम का निर्झर
जहाँ समझी जाऊँ मैं इन्सान
जहाँ मेरी भी हो कोई पहचान
मगर मुझे मिलता है सिर्फ मकान
मिलती है् रिश्तों की दुकान
बाबुल के घर से पती कि चौखट तक
शंका मे पलती मेरी जान
कभी बाबुल् पर भार कहाऊँ
कभी पती की फटकार मैं खाऊँ
कोई जन्म से पहले मारे
को दहेज के लिये मारे
कभी तन्दूर में फेंकी जाऊँ
बलात्कार क दंश मैं खाऊँ
मेरी सहनशीलता का
अब और ना लो इम्तिहान
नही चाहिये दया किसी की
चाहिये अपना स्वाभिमान
बह ना जाऊँ अश्रूधारा मे
दे दो मुझ को भी मुस्कान
अब दे दो मेरा घर मुझ्को
नही चाहिये सिर्फ मकान्
निर्मला कपिला

1 Comment · 279 Views
You may also like:
मन
शेख़ जाफ़र खान
हर एक रिश्ता निभाता पिता है –गीतिका
रकमिश सुल्तानपुरी
सिद्धार्थ से वह 'बुद्ध' बने...
Buddha Prakash
यादें वो बचपन के
Khushboo Khatoon
उलझनें_जिन्दगी की
मनोज कर्ण
ग़ज़ल- मज़दूर
आकाश महेशपुरी
श्रीराम गाथा
मनोज कर्ण
रंग हरा सावन का
श्री रमण 'श्रीपद्'
महँगाई
आकाश महेशपुरी
पिता अब बुढाने लगे है
n_upadhye
चुनिंदा अशआर
Dr fauzia Naseem shad
साधु न भूखा जाय
श्री रमण 'श्रीपद्'
जब भी तन्हाईयों में
Dr fauzia Naseem shad
पिताजी
विनोद शर्मा सागर
ऐसे थे मेरे पिता
Minal Aggarwal
Kavita Nahi hun mai
Shyam Pandey
मिसाले हुस्न का
Dr fauzia Naseem shad
*पापा … मेरे पापा …*
Neelam Chaudhary
पिता का दर्द
Nitu Sah
"समय का पहिया"
Ajit Kumar "Karn"
ओ मेरे !....
ईश्वर दयाल गोस्वामी
रूठ गई हैं बरखा रानी
Dr Archana Gupta
✍️इतने महान नही ✍️
Vaishnavi Gupta
*!* "पिता" के चरणों को नमन *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
आदमी कितना नादान है
Ram Krishan Rastogi
बुद्ध भगवान की शिक्षाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दर्द इनका भी
Dr fauzia Naseem shad
रबीन्द्रनाथ टैगोर पर तीन मुक्तक
Anamika Singh
आज मस्ती से जीने दो
Anamika Singh
मुँह इंदियारे जागे दद्दा / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...