Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jul 2016 · 1 min read

नारी की फरियाद — कविता

नारी की फरियाद—- निर्मला कपिला1

मैं पाना चाहती हूँ अपना इक घर
पाना चाहती हूं प्रेम का निर्झर
जहाँ समझी जाऊँ मैं इन्सान
जहाँ मेरी भी हो कोई पहचान
मगर मुझे मिलता है सिर्फ मकान
मिलती है् रिश्तों की दुकान
बाबुल के घर से पती कि चौखट तक
शंका मे पलती मेरी जान
कभी बाबुल् पर भार कहाऊँ
कभी पती की फटकार मैं खाऊँ
कोई जन्म से पहले मारे
को दहेज के लिये मारे
कभी तन्दूर में फेंकी जाऊँ
बलात्कार क दंश मैं खाऊँ
मेरी सहनशीलता का
अब और ना लो इम्तिहान
नही चाहिये दया किसी की
चाहिये अपना स्वाभिमान
बह ना जाऊँ अश्रूधारा मे
दे दो मुझ को भी मुस्कान
अब दे दो मेरा घर मुझ्को
नही चाहिये सिर्फ मकान्
निर्मला कपिला

Language: Hindi
Tag: कविता
1 Comment · 342 Views
You may also like:
कुछ पंक्तियाँ
सोनम राय
वीर शहीदों की कुर्बानी...!!!!
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
आइये, तिरंगा फहरायें....!!
Kanchan Khanna
आजकल के अपने
Anamika Singh
इमोजी है तो सही यार...!
*Author प्रणय प्रभात*
नवगीत: ऐसा दीप कहाँ से लाऊँ
Sushila Joshi
Writing Challenge- जल (Water)
Sahityapedia
एक सुन्दरी है
Varun Singh Gautam
चन्द अशआर (मुख़्तलिफ़ शेर)
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
पूज्य हीरा बा के देवलोकगमन पर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जीनगी हो गइल कांट
Dhirendra Panchal
हार फिर होती नहीं...
मनोज कर्ण
#तिमिर_और_आलोक #कुंडलिया #काव्यcafe #हिंदीहैंहम #आजकाशब्द #कहते_रवि_कविराय #र
Ravi Prakash
# सुप्रभात .....
Chinta netam " मन "
जिन्दगी का क्या भरोसा
Swami Ganganiya
✍️अरमानों की फरमाईश कर बैठे
'अशांत' शेखर
हक
shabina. Naaz
हिंदी
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सूरज का अवतार
Shekhar Chandra Mitra
मिट्टी के दीप जलाना
Yash Tanha Shayar Hu
प्रीत
अमरेश मिश्र 'सरल'
वसुधैव कुटुंबकम् की रीत
अनूप अंबर
मशहूर हो जाऊं
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
अजब-गज़ब शौक होते है।
Taj Mohammad
=*बुराई का अन्त*=
Prabhudayal Raniwal
यह तो हालात है
Dr fauzia Naseem shad
सच वह देखे तो पसीना आ जाए
कवि दीपक बवेजा
बंधन बाधा हर हरो
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
मैं तेरी आशिकी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
उम्र हो गई छप्पन
Kaur Surinder
Loading...