Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jun 2018 · 1 min read

*नारी का सम्मान*

करो सम्मान नारी का निगाहों में हया रखना!
समर्पण भाव को लेकर ज़हन अपना खुला रखना!!

क़लम की धार से चाहे बदल देना सभी मंज़र!
सदाकत जो अलग करती नहीं ऐसी दया रखना!!

तुम्हारे आशियाने को सजाती रात दिन नारी!
मिले समभाव का दर्ज़ा इरादा ये सदा रखना!!

ज़मीनों आसमां मिलकर गुजारिश आज करते हैं!
हरिक अल्फ़ाज़ को अपने जहानत से भरा रखना!!

सदा मिलजुल रहें सारे तमन्ना है यही दिल की !
बने क़िरदार पाक़ीज़ा लबो पे बस दुआ रखना!!

सभी का दिल लुभा लेना जुदा अंदाज़ से अपने!
मुसाफ़िर गीत ग़ज़लों को हमेशा तुम नया रखना!!

धर्मेंद्र अरोड़ा “मुसाफ़िर”
सर्वाधिकार सुरक्षित

1 Like · 545 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
भाग्य का लिखा
भाग्य का लिखा
Nanki Patre
कुली
कुली
Mukta Rashmi
ग़ज़ल -
ग़ज़ल -
Mahendra Narayan
मत कर
मत कर
Surinder blackpen
"सूनी मांग" पार्ट-2
Radhakishan R. Mundhra
*बुढ़ापे का असर है यह, बिना जो बात अड़ते हो 【 हिंदी गजल/गीतिक
*बुढ़ापे का असर है यह, बिना जो बात अड़ते हो 【 हिंदी गजल/गीतिक
Ravi Prakash
खुश वही है जिंदगी में जिसे सही जीवन साथी मिला है क्योंकि हर
खुश वही है जिंदगी में जिसे सही जीवन साथी मिला है क्योंकि हर
Ranjeet kumar patre
कितना कोलाहल
कितना कोलाहल
Bodhisatva kastooriya
पता ना था के दीवान पे दर्ज़ - जज़बातों  के नाम भी होते हैं 
पता ना था के दीवान पे दर्ज़ - जज़बातों  के नाम भी होते हैं 
Atul "Krishn"
हार मैं मानू नहीं
हार मैं मानू नहीं
Anamika Tiwari 'annpurna '
हमारी काबिलियत को वो तय करते हैं,
हमारी काबिलियत को वो तय करते हैं,
Dr. Man Mohan Krishna
फूल अब शबनम चाहते है।
फूल अब शबनम चाहते है।
Taj Mohammad
"कुछ अनकही"
Ekta chitrangini
मुझे भी अब उनकी फ़िक्र रहती है,
मुझे भी अब उनकी फ़िक्र रहती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
"अमीर"
Dr. Kishan tandon kranti
न जाने कहाँ फिर से, उनसे मुलाकात हो जाये
न जाने कहाँ फिर से, उनसे मुलाकात हो जाये
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अगर युवराज का ब्याह हो चुका होता, तो अमेठी में प्रत्याशी का
अगर युवराज का ब्याह हो चुका होता, तो अमेठी में प्रत्याशी का
*प्रणय प्रभात*
ऐ सूरज तू अपनी ताप को अब कम कर दे
ऐ सूरज तू अपनी ताप को अब कम कर दे
Keshav kishor Kumar
भांथी के विलुप्ति के कगार पर होने के बहाने / मुसाफ़िर बैठा
भांथी के विलुप्ति के कगार पर होने के बहाने / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
नशा और युवा
नशा और युवा
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
हिंदी की भविष्यत्काल की मुख्य क्रिया में हमेशा ऊँगा /ऊँगी (य
हिंदी की भविष्यत्काल की मुख्य क्रिया में हमेशा ऊँगा /ऊँगी (य
कुमार अविनाश 'केसर'
कुंडलिया - गौरैया
कुंडलिया - गौरैया
sushil sarna
राना लिधौरी के बुंदेली दोहे बिषय-खिलकट (झिक्की)
राना लिधौरी के बुंदेली दोहे बिषय-खिलकट (झिक्की)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
यह जो तुम कानो मे खिचड़ी पकाते हो,
यह जो तुम कानो मे खिचड़ी पकाते हो,
Ashwini sharma
अनुशासन या अफ़सोस: जीवन का एक चुनाव
अनुशासन या अफ़सोस: जीवन का एक चुनाव
पूर्वार्थ
Maine
Maine "Takdeer" ko,
SPK Sachin Lodhi
अंतरंग प्रेम
अंतरंग प्रेम
Paras Nath Jha
3359.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3359.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
भीतर से तो रोज़ मर ही रहे हैं
भीतर से तो रोज़ मर ही रहे हैं
Sonam Puneet Dubey
प्रकृति की ओर
प्रकृति की ओर
जगदीश लववंशी
Loading...