Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Mar 2017 · 1 min read

****नारी ईश्वर की सर्वश्रेष्ठ रचना*****

****—-****—-****

१.
***नारी दे ,नारी को मान
तभी बनेगा वंश विशाल
नारी को दें पूर्ण सम्मान
नारी है ममता की खान

२.
***नारी तू शक्ति है ,सत है
सृष्टि की रचनाकर है
मातृभूमि को पावन करती
नारी तू पालक ,दुखहारक है

३.
*** जो तुझको ना समझे
बुद्धिहीन वह मानव है
बिगड़े काम तुझी से बनते
सुर, देव भी जानत हैं

Language: Hindi
1 Like · 961 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
यह कौन सी तहजीब है, है कौन सी अदा
यह कौन सी तहजीब है, है कौन सी अदा
VINOD CHAUHAN
जरूरी तो नहीं
जरूरी तो नहीं
Madhavi Srivastava
जो घर जारै आपनो
जो घर जारै आपनो
Dr MusafiR BaithA
ये खुदा अगर तेरे कलम की स्याही खत्म हो गई है तो मेरा खून लेल
ये खुदा अगर तेरे कलम की स्याही खत्म हो गई है तो मेरा खून लेल
Ranjeet kumar patre
*सुंदर दिखना अगर चाहते, भजो राम का नाम (गीत)*
*सुंदर दिखना अगर चाहते, भजो राम का नाम (गीत)*
Ravi Prakash
दो शे'र ( मतला और इक शे'र )
दो शे'र ( मतला और इक शे'र )
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
वन उपवन हरित खेत क्यारी में
वन उपवन हरित खेत क्यारी में
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
माशा अल्लाह, तुम बहुत लाजवाब हो
माशा अल्लाह, तुम बहुत लाजवाब हो
gurudeenverma198
"हँसिया"
Dr. Kishan tandon kranti
बंसत पचंमी
बंसत पचंमी
Ritu Asooja
परम प्रकाश उत्सव कार्तिक मास
परम प्रकाश उत्सव कार्तिक मास
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बोझ लफ़्ज़ों के दिल पे होते हैं
बोझ लफ़्ज़ों के दिल पे होते हैं
Dr fauzia Naseem shad
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
2386.पूर्णिका
2386.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
संस्कार मनुष्य का प्रथम और अपरिहार्य सृजन है। यदि आप इसका सृ
संस्कार मनुष्य का प्रथम और अपरिहार्य सृजन है। यदि आप इसका सृ
Sanjay ' शून्य'
◆ आप भी सोचिए।
◆ आप भी सोचिए।
*प्रणय प्रभात*
आंगन की किलकारी बेटी,
आंगन की किलकारी बेटी,
Vindhya Prakash Mishra
उस रात .....
उस रात .....
sushil sarna
शक
शक
Paras Nath Jha
"भोर की आस" हिन्दी ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
कब मरा रावण
कब मरा रावण
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
यदि कोई सास हो ललिता पवार जैसी,
यदि कोई सास हो ललिता पवार जैसी,
ओनिका सेतिया 'अनु '
कुछ लोग
कुछ लोग
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
तनाव ना कुछ कर पाने या ना कुछ पाने की जनतोजहत  का नही है ज्य
तनाव ना कुछ कर पाने या ना कुछ पाने की जनतोजहत का नही है ज्य
पूर्वार्थ
गरीबी और लाचारी
गरीबी और लाचारी
Mukesh Kumar Sonkar
# जय.….जय श्री राम.....
# जय.….जय श्री राम.....
Chinta netam " मन "
वफ़ा
वफ़ा
shabina. Naaz
गुरु अंगद देव
गुरु अंगद देव
कवि रमेशराज
जो दिखाते हैं हम वो जताते नहीं
जो दिखाते हैं हम वो जताते नहीं
Shweta Soni
सोच
सोच
Shyam Sundar Subramanian
Loading...