Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Nov 2022 · 1 min read

*नारियों को आजकल, खुद से कमाना आ गया (हिंदी गजल/ गीतिका)*

नारियों को आजकल, खुद से कमाना आ गया (हिंदी गजल/ गीतिका)
_________________________
1
नारियों को आजकल, खुद से कमाना आ गया
स्वाबलंबी बन गई हैं, सिर उठाना आ गया
2
घर-गृहस्थी इस समय, दो की कमाई पर टिकी
अर्धनारीश्वर को ऐसे, मुस्कुराना आ गया
3
नारियॉं घर में हैं तो, नारियॉं बाहर भी हैं
मेल दोनों कार्य में, इनको मिलाना आ गया
4
दफ्तर से लौटी पत्नियॉं, हारी-थकी जब भी
चाय पतिदेवों को तब, इनको पिलाना आ गया
5
सभ्य शिक्षित हैं सुसंस्कृत, आज की यह नारियॉं
अब विचार-विमर्श सब, इन को बढ़ाना आ गया
6
पाल सकती हैंं स्वयं, परिवार अपना शान से
नारियों को जेब, कुर्ते में लगाना आ गया
—————————————-
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

148 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
*उठा जो देह में जादू, समझ लो आई होली है (मुक्तक)*
*उठा जो देह में जादू, समझ लो आई होली है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
शौक करने की उम्र मे
शौक करने की उम्र मे
KAJAL NAGAR
जीवन का आत्मबोध
जीवन का आत्मबोध
ओंकार मिश्र
■ सियासी नाटक
■ सियासी नाटक
*Author प्रणय प्रभात*
मेरे हमसफ़र 💗💗🙏🏻🙏🏻🙏🏻
मेरे हमसफ़र 💗💗🙏🏻🙏🏻🙏🏻
Seema gupta,Alwar
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मेरे होंठों पर
मेरे होंठों पर
Surinder blackpen
"कविता और प्रेम"
Dr. Kishan tandon kranti
जाने कितने ख़त
जाने कितने ख़त
Ranjana Verma
हक जता तो दू
हक जता तो दू
Swami Ganganiya
चार दिन की ज़िंदगी
चार दिन की ज़िंदगी
कार्तिक नितिन शर्मा
गीत
गीत
Shiva Awasthi
प्रेम क्या है...
प्रेम क्या है...
हिमांशु Kulshrestha
!! एक ख्याल !!
!! एक ख्याल !!
Swara Kumari arya
यूं जो उसको तकते हो।
यूं जो उसको तकते हो।
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
23/159.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/159.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
“Mistake”
“Mistake”
पूर्वार्थ
धरा की प्यास पर कुंडलियां
धरा की प्यास पर कुंडलियां
Ram Krishan Rastogi
एक व्यथा
एक व्यथा
Shweta Soni
नई तरह का कारोबार है ये
नई तरह का कारोबार है ये
shabina. Naaz
अमर शहीद चंद्रशेखर आजाद
अमर शहीद चंद्रशेखर आजाद
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
शिक्षा का महत्व
शिक्षा का महत्व
Dinesh Kumar Gangwar
लत / MUSAFIR BAITHA
लत / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
जितना खुश होते है
जितना खुश होते है
Vishal babu (vishu)
हे राम ।
हे राम ।
Anil Mishra Prahari
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बात-बात पर क्रोध से, बढ़ता मन-संताप।
बात-बात पर क्रोध से, बढ़ता मन-संताप।
डॉ.सीमा अग्रवाल
गुरु की पूछो ना जात!
गुरु की पूछो ना जात!
जय लगन कुमार हैप्पी
हीरा जनम गंवाएगा
हीरा जनम गंवाएगा
Shekhar Chandra Mitra
Loading...