Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 May 2024 · 2 min read

नायक कैसा हो? (छंदमुक्त काव्य )

नायक जिसका जीवन , हर कर्म ऐसा हो,
दूसरों के लिए जीने का वह उदाहरण हो।

उसका व्यवहार दूसरों को अपनी तरफ,
सदैव आकर्षित करने वाला चुंबकीय हो।

उसकी वाणी स्पष्ट व मीठास परिपूर्ण,
झूठ फरेब से परे, सत्यवादी आत्मग्राही हो।

कर्तव्यनिष्ठा नायक में कूट-कूट कर भरी हो,
देश अपना परिवार हो ,कर्म कर्तव्य पूरित हों।

कुशल नेता,अथक देशहित प्रयास हों,
देश के लिए जी – जान भी कुर्बान हो।

दावपेच से ऊपर समाज का संरक्षक हो,
समभाव व्यवहार हर जीव का रक्षक हो।

अपने पेट से पहले, गरीब का पेट भरने वाला,
गरीबी रेखा से ऊपर उठाने का जिसमे दम हो।

पैसे वाले का सेवक नहीं, पूरे देश का सेवक बने,
सशक्त चौकसी हर दिशा में देश की करे।

आम आदमी या दुष्ट की, बात सुन सात्विक भाव सुनवाई करे,
देश हित सदैव कदम नित आगे ही आगे बढ़े।

नायक इंसान है, अपनी क्षमता का परिचय दे,
जनता में अपने प्रति श्रद्धा विश्वास पैदा करे।

असंभव वादों का सहारा न ले, सत्कर्म करे,
सत्य की राह चल देश सेवा सर्वोपरि धरे।

अनुशासित, विवेकशील ,ज्ञानी ,विज्ञानी,
संस्कारी , स्फुट वक्ता, पर छलकपट से दूर रहे।

नायक ऐसा हो जिसके चर्चे देश विदेश हर जगह हों,
हर मिलने वाला उनसे मिलकर स्वयं भी गर्वित हो।

बात अगर देश की हो , नायक सबसे ऊपर देश को ले जाए,
विश्व में अपने देश की ख्याति का परचम फहराये।

माना वह इंसान है, पर जनता का विश्वास पात्र हो,
भगवान सा तो नहीं पर सर्वश्रेष्ठ जग में सम्मानित हो।

जन जन का उसमे व उसकी सरकार में विश्वास हो,
जनता का हर क्षेत्र में सहयोग तरक्की का आधार हो।

नीरजा शर्मा

Language: Hindi
1 Like · 13 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Neerja Sharma
View all
You may also like:
उसे खो देने का डर रोज डराता था,
उसे खो देने का डर रोज डराता था,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सारी जिंदगी कुछ लोगों
सारी जिंदगी कुछ लोगों
shabina. Naaz
बेपरवाह
बेपरवाह
Omee Bhargava
संगीत विहीन
संगीत विहीन
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
समान आचार संहिता
समान आचार संहिता
Bodhisatva kastooriya
आसान होती तो समझा लेते
आसान होती तो समझा लेते
रुचि शर्मा
आतंक, आत्मा और बलिदान
आतंक, आत्मा और बलिदान
Suryakant Dwivedi
होली
होली
लक्ष्मी सिंह
रामभक्त संकटमोचक जय हनुमान जय हनुमान
रामभक्त संकटमोचक जय हनुमान जय हनुमान
gurudeenverma198
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
■ एक ही सलाह...
■ एक ही सलाह...
*प्रणय प्रभात*
कमबख़्त इश़्क
कमबख़्त इश़्क
Shyam Sundar Subramanian
कहने को तो इस जहां में अपने सब हैं ,
कहने को तो इस जहां में अपने सब हैं ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
जिंदगी कंही ठहरी सी
जिंदगी कंही ठहरी सी
A🇨🇭maanush
" संगत "
Dr. Kishan tandon kranti
चांदनी की झील में प्यार का इज़हार हूँ ।
चांदनी की झील में प्यार का इज़हार हूँ ।
sushil sarna
किसान
किसान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बेहिचक बिना नजरे झुकाए वही बात कर सकता है जो निर्दोष है अक्स
बेहिचक बिना नजरे झुकाए वही बात कर सकता है जो निर्दोष है अक्स
Rj Anand Prajapati
3284.*पूर्णिका*
3284.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
समझ मत मील भर का ही, सृजन संसार मेरा है ।
समझ मत मील भर का ही, सृजन संसार मेरा है ।
Ashok deep
Destiny's epic style.
Destiny's epic style.
Manisha Manjari
"पूनम का चांद"
Ekta chitrangini
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Surya Barman
विश्वास
विश्वास
धर्मेंद्र अरोड़ा मुसाफ़िर
बाल कविता: हाथी की दावत
बाल कविता: हाथी की दावत
Rajesh Kumar Arjun
*सपना देखो हिंदी गूँजे, सारे हिंदुस्तान में(गीत)*
*सपना देखो हिंदी गूँजे, सारे हिंदुस्तान में(गीत)*
Ravi Prakash
वक्त का क्या है
वक्त का क्या है
Surinder blackpen
माँ-बाप का मोह, बच्चे का अंधेरा
माँ-बाप का मोह, बच्चे का अंधेरा
पूर्वार्थ
चाय (Tea)
चाय (Tea)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
मन का जादू
मन का जादू
Otteri Selvakumar
Loading...