Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Jul 2023 · 1 min read

नादान प्रेम

बेटी! तू जल जायेगी, आग के गलियारों में।
प्यार नहीं बस कामुकता है, यह झूठे बाजारों में।।

जिसके पीछे पागल हो,
वह प्यासा है तेरे तन का।
किया न्यौछावर क्यों सब उस पर,
मेल नहीं था जो मन का।।

जिस दिन मन भर जायेगा उसका, छोड़ देगा बेकारों में।
प्यार नहीं बस कामुकता है,यह झूठे बाजारों में।।

दिखावे का प्रेम है करता,
हवस का वह शिकारी है।
आदत है यह प्यार दिखावा,
यही उसकी बीमारी है।।

दिखता तुझको मीठा वह, शामिल सागर खारों में।
प्यार नहीं बस कामुकता है, यह झूठे बाजारों में।।

पढ़ -लिखकर बेटी तू अपनी,
एक नई पहचान बनाओ।
सूरज बनकर उजाला सा,
जग में अपना नाम कमाओ।।

लुटा न देना स्वाभिमान तू, झूठे प्रेम करारों में।
प्यार नहीं बस कामुकता है, यह झूठे बाजारों में।।

अनिल “आदर्श”

Language: Hindi
1082 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हिज़्र
हिज़्र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
मां की ममता जब रोती है
मां की ममता जब रोती है
Harminder Kaur
"आशा की नदी"
Dr. Kishan tandon kranti
कबीरपंथ से कबीर ही गायब / मुसाफ़िर बैठा
कबीरपंथ से कबीर ही गायब / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
उसे मैं भूल जाऊंगा, ये मैं होने नहीं दूंगा।
उसे मैं भूल जाऊंगा, ये मैं होने नहीं दूंगा।
सत्य कुमार प्रेमी
कबीरा हुआ दीवाना
कबीरा हुआ दीवाना
Shekhar Chandra Mitra
2717.*पूर्णिका*
2717.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आत्मसंवाद
आत्मसंवाद
Shyam Sundar Subramanian
राह हूं या राही हूं या मंजिल हूं राहों की
राह हूं या राही हूं या मंजिल हूं राहों की
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
"चाहत " ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
मात्र एक पल
मात्र एक पल
Ajay Mishra
फकीरी/दीवानों की हस्ती
फकीरी/दीवानों की हस्ती
लक्ष्मी सिंह
मेरा दिन भी आएगा !
मेरा दिन भी आएगा !
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
सपनों के सौदागर बने लोग देश का सौदा करते हैं
सपनों के सौदागर बने लोग देश का सौदा करते हैं
प्रेमदास वसु सुरेखा
कॉलेज वाला प्यार
कॉलेज वाला प्यार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
खंड: 1
खंड: 1
Rambali Mishra
आग हूं... आग ही रहने दो।
आग हूं... आग ही रहने दो।
Anil "Aadarsh"
💐प्रेम कौतुक-207💐
💐प्रेम कौतुक-207💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जो पहले ही कदमो में लडखडा जाये
जो पहले ही कदमो में लडखडा जाये
Swami Ganganiya
अदाकारियां
अदाकारियां
Surinder blackpen
■ चार पंक्तियाँ...
■ चार पंक्तियाँ...
*Author प्रणय प्रभात*
Gazal 25
Gazal 25
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
पिता की नियति
पिता की नियति
Prabhudayal Raniwal
बच्चे पैदा करना बड़ी बात नही है
बच्चे पैदा करना बड़ी बात नही है
Rituraj shivem verma
आँखें दरिया-सागर-झील नहीं,
आँखें दरिया-सागर-झील नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
- ଓଟେରି ସେଲଭା କୁମାର
- ଓଟେରି ସେଲଭା କୁମାର
Otteri Selvakumar
लोग आते हैं दिल के अंदर मसीहा बनकर
लोग आते हैं दिल के अंदर मसीहा बनकर
कवि दीपक बवेजा
माँ सच्ची संवेदना....
माँ सच्ची संवेदना....
डॉ.सीमा अग्रवाल
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
मैं रात भर मैं बीमार थीऔर वो रातभर जागती रही
मैं रात भर मैं बीमार थीऔर वो रातभर जागती रही
Dr Manju Saini
Loading...