Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame

नादान परिंदा………..डी. के. निवातियाँ

मैं आया नादान परिंदा अनजान की तरह !
लौट जाऊँगा एक दिन मेहमान की तरह !!

क्या सहरा,क्या गुलिस्ता, हूँ सब से वाकिफ
कट जायेगा ये भी सफर जाते तूफ़ान की तरह !!

ढूंढ कर अन्धकार में भी प्रकाश की किरण
पाउँगा मंजिल मैं मुसाफिर अनजान की तरह !!

ना करो ऐ दुनिया वालो मेरे ईमान को बदनाम
कहि हो न जाऊं मशहूर बेइमान इंसान की तरह !!

आकर चले जाना ही “धर्म” उसूल जिंदगी का
जब तक हो झनको सरगम की तान की तरह !!
!
!
!
डी. के. निवातियाँ ________

235 Views
You may also like:
FATHER IS REAL GOD
KAMAL THAKUR
💐नव ऊर्जा संचार💐
DR ARUN KUMAR SHASTRI
बेकार ही रंग लिए।
Taj Mohammad
अश्रुपात्र ... A glass of tears भाग- 2 और 3
Dr. Meenakshi Sharma
चलो एक पत्थर हम भी उछालें..!
मनोज कर्ण
वार्तालाप….
Piyush Goel
परिंदों से कह दो।
Taj Mohammad
✍️तंगदिली✍️
"अशांत" शेखर
हे गुरू।
Anamika Singh
बेटी का पत्र माँ के नाम (भाग २)
Anamika Singh
ग़ज़ल -
Mahendra Narayan
💐प्रेम की राह पर-22💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
""वक्त ""
Ray's Gupta
धर्म निरपेक्ष चश्मा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पिता
Aruna Dogra Sharma
पुस्तैनी जमीन
आकाश महेशपुरी
बेजुबां जीव
Jyoti Khari
मुरादाबाद स्मारिका* *:* *30 व 31 दिसंबर 1988 को उत्तर...
Ravi Prakash
पिता
Rajiv Vishal
गीत ग़ज़लें सदा गुनगुनाते रहो।
सत्य कुमार प्रेमी
अशक्त परिंदा
AMRESH KUMAR VERMA
माँ क्या लिखूँ।
Anamika Singh
अजनबी
Dr. Alpa H. Amin
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
ज़िन्दगी की धूप...
Dr. Alpa H. Amin
【20】 ** भाई - भाई का प्यार खो गया **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
निद्रा
Vikas Sharma'Shivaaya'
फरियाद
Anamika Singh
*अनुशासन के पर्याय अध्यापक श्री लाल सिंह जी : शत...
Ravi Prakash
दिल टूट करके।
Taj Mohammad
Loading...