Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Apr 2017 · 1 min read

नादांन

???एक मुक्तक.
नादांन????

सनम रूठो न हमसे यू.
सुनो दिल टूट जायेगा
न छोडो हाथ तुम मेरा.
अजी संग छूट जायेगा.
बहुत नादांन है देखो.
नही पहचान दुनियाँ की.
मनाते है जिसे जितना.
वही फिर रूठ जाता है .
???
संगीता शर्मा
???6/3/2017

Language: Hindi
419 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बेवक्त बारिश होने से ..
बेवक्त बारिश होने से ..
Keshav kishor Kumar
हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
हिन्दी दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
लोकेश शर्मा 'अवस्थी'
💐अज्ञात के प्रति-18💐
💐अज्ञात के प्रति-18💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
विनम्रता
विनम्रता
Bodhisatva kastooriya
बदल कर टोपियां अपनी, कहीं भी पहुंच जाते हैं।
बदल कर टोपियां अपनी, कहीं भी पहुंच जाते हैं।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जो पहली ही ठोकर में यहाँ लड़खड़ा गये
जो पहली ही ठोकर में यहाँ लड़खड़ा गये
'अशांत' शेखर
*मुख काला हो गया समूचा, मरण-पाश से लड़ने में (हिंदी गजल)*
*मुख काला हो गया समूचा, मरण-पाश से लड़ने में (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
*ख़ास*..!!
*ख़ास*..!!
Ravi Betulwala
जोशीला
जोशीला
RAKESH RAKESH
मेरे सजदे
मेरे सजदे
Dr fauzia Naseem shad
मेरा शहर
मेरा शहर
विजय कुमार अग्रवाल
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
हर इंसान वो रिश्ता खोता ही है,
हर इंसान वो रिश्ता खोता ही है,
Rekha khichi
आश्रय
आश्रय
goutam shaw
मिला जो इक दफा वो हर दफा मिलता नहीं यारों - डी के निवातिया
मिला जो इक दफा वो हर दफा मिलता नहीं यारों - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
"स्मरणीय"
Dr. Kishan tandon kranti
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
लिखे क्या हुजूर, तारीफ में हम
लिखे क्या हुजूर, तारीफ में हम
gurudeenverma198
सिर्फ पार्थिव शरीर को ही नहीं बल्कि जो लोग जीते जी मर जाते ह
सिर्फ पार्थिव शरीर को ही नहीं बल्कि जो लोग जीते जी मर जाते ह
पूर्वार्थ
कभी
कभी
Ranjana Verma
कितना अच्छा है मुस्कुराते हुए चले जाना
कितना अच्छा है मुस्कुराते हुए चले जाना
Rohit yadav
पति-पत्नी, परिवार का शरीर होते हैं; आत्मा तो बच्चे और बुजुर्
पति-पत्नी, परिवार का शरीर होते हैं; आत्मा तो बच्चे और बुजुर्
विमला महरिया मौज
17. बेखबर
17. बेखबर
Rajeev Dutta
कौन कहता ये यहां नहीं है ?🙏
कौन कहता ये यहां नहीं है ?🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
पहले भागने देना
पहले भागने देना
*Author प्रणय प्रभात*
सर्दियों का मौसम - खुशगवार नहीं है
सर्दियों का मौसम - खुशगवार नहीं है
Atul "Krishn"
कदम पीछे हटाना मत
कदम पीछे हटाना मत
surenderpal vaidya
श्रद्धांजलि
श्रद्धांजलि
Arti Bhadauria
" आज भी है "
Aarti sirsat
Loading...