Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Aug 2023 · 1 min read

नागपंचमी……..एक पर्व

नागपंचमी पर्व भी हम मनाते हैं।
वासुकी नाग पंचमी पर पूजते हैं।

धरती और पताल में नाग रहते हैं।
जीवन के साथ हम सभी मानते हैं।

भगवान शंकर के गले विराजते हैं।
भक्ति के साथ हम सभी पूजते हैं।

नाग देवता को हम सभी दूध चढ़ाते हैं।
हम सभी जीवन में खुशियां मांगते हैं।

नागपंचमी को वर्ष में त्यौहार हम मनाते हैं।
नाग देवता को हम सभी नागपंचम पर मनाते हैं।

नीरज अग्रवाल चंदौसी उ.प्र

Language: Hindi
267 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"गुलामगिरी"
Dr. Kishan tandon kranti
गुजरते लम्हों से कुछ पल तुम्हारे लिए चुरा लिए हमने,
गुजरते लम्हों से कुछ पल तुम्हारे लिए चुरा लिए हमने,
Hanuman Ramawat
आधुनिक युग और नशा
आधुनिक युग और नशा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सार्थकता
सार्थकता
Neerja Sharma
मेरी तकलीफ़
मेरी तकलीफ़
Dr fauzia Naseem shad
मातु शारदे वंदना
मातु शारदे वंदना
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
#दोहा-
#दोहा-
*प्रणय प्रभात*
जिंदगी की खोज
जिंदगी की खोज
CA Amit Kumar
बुझा दीपक जलाया जा रहा है
बुझा दीपक जलाया जा रहा है
कृष्णकांत गुर्जर
🌱मैं कल न रहूँ...🌱
🌱मैं कल न रहूँ...🌱
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
प्रदूषण
प्रदूषण
Pushpa Tiwari
पलकों में शबाब रखता हूँ।
पलकों में शबाब रखता हूँ।
sushil sarna
I lose myself in your love,
I lose myself in your love,
Shweta Chanda
सामाजिक बहिष्कार हो
सामाजिक बहिष्कार हो
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
जीवन बरगद कीजिए
जीवन बरगद कीजिए
Mahendra Narayan
तुझे जब फुर्सत मिले तब ही याद करों
तुझे जब फुर्सत मिले तब ही याद करों
Keshav kishor Kumar
मजदूर का बेटा हुआ I.A.S
मजदूर का बेटा हुआ I.A.S
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
तुम्हारे बिन कहां मुझको कभी अब चैन आएगा।
तुम्हारे बिन कहां मुझको कभी अब चैन आएगा।
सत्य कुमार प्रेमी
हां राम, समर शेष है
हां राम, समर शेष है
Suryakant Dwivedi
3531.🌷 *पूर्णिका*🌷
3531.🌷 *पूर्णिका*🌷
Dr.Khedu Bharti
विनय
विनय
Kanchan Khanna
"राजनीति में जोश, जुबाँ, ज़मीर, जज्बे और जज्बात सब बदल जाते ह
डॉ.एल. सी. जैदिया 'जैदि'
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
दुनिया कितनी निराली इस जग की
दुनिया कितनी निराली इस जग की
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
औरत की हँसी
औरत की हँसी
Dr MusafiR BaithA
Charlie Chaplin truly said:
Charlie Chaplin truly said:
Vansh Agarwal
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
युवा संवाद
युवा संवाद
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
ख़त्म हुईं सब दावतें, मस्ती यारो संग
ख़त्म हुईं सब दावतें, मस्ती यारो संग
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हवन - दीपक नीलपदम्
हवन - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
Loading...