Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Mar 2024 · 1 min read

नहीं बदलते

रोटी सच की खाते हैं,
पर झूठ पोषते है।
ऐसे नर पशु जीवन में,
ईश्वर को कोसते हैं।।

धर्म कथा कोई भी,
इनके लिए व्यर्थ है।
कर्मधर्म यह मोक्ष न माने,
इनका केवल मूल अर्थ है।।

मूल अर्थ होने पर भी,
ये भीखमंगे होते हैं।
शाही वस्त्र पहनकर भी,
ये चरित्र से नंगे होते हैं।।

कर प्रणाम दूरी अपनाएं,
ऐसे मन और मन्तव्यों से।
सुधर नहीं सकते “संजय” ये,
सतचारित्रिक कर्तव्यों से।।

जय श्रीराम
जै हिंद

Language: Hindi
1 Like · 48 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
इक नयी दुनिया दारी तय कर दे
इक नयी दुनिया दारी तय कर दे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
कौन किसकी कहानी सुनाता है
कौन किसकी कहानी सुनाता है
Manoj Mahato
*अध्याय 3*
*अध्याय 3*
Ravi Prakash
आदिशक्ति वन्दन
आदिशक्ति वन्दन
Mohan Pandey
कब तक चाहोगे?
कब तक चाहोगे?
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
लिखे क्या हुजूर, तारीफ में हम
लिखे क्या हुजूर, तारीफ में हम
gurudeenverma198
*दिल में  बसाई तस्वीर है*
*दिल में बसाई तस्वीर है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
जो बिकता है!
जो बिकता है!
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
खूबसूरती एक खूबसूरत एहसास
खूबसूरती एक खूबसूरत एहसास
Dr fauzia Naseem shad
मन ,मौसम, मंजर,ये तीनों
मन ,मौसम, मंजर,ये तीनों
Shweta Soni
Mere papa
Mere papa
Aisha Mohan
सैलाब .....
सैलाब .....
sushil sarna
आओ कृष्णा !
आओ कृष्णा !
Om Prakash Nautiyal
कहनी चाही कभी जो दिल की बात...
कहनी चाही कभी जो दिल की बात...
Sunil Suman
24/240. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/240. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सूर्य देव
सूर्य देव
Bodhisatva kastooriya
सांत्वना
सांत्वना
भरत कुमार सोलंकी
हे मां शारदे ज्ञान दे
हे मां शारदे ज्ञान दे
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
#दोहा-
#दोहा-
*Author प्रणय प्रभात*
"स्वतंत्रता दिवस"
Slok maurya "umang"
जो कर्म किए तूने उनसे घबराया है।
जो कर्म किए तूने उनसे घबराया है।
सत्य कुमार प्रेमी
जन्म हाथ नहीं, मृत्यु ज्ञात नहीं।
जन्म हाथ नहीं, मृत्यु ज्ञात नहीं।
Sanjay ' शून्य'
हिन्दी दिवस
हिन्दी दिवस
Neeraj Agarwal
"रहमत"
Dr. Kishan tandon kranti
आप वो नहीं है जो आप खुद को समझते है बल्कि आप वही जो दुनिया आ
आप वो नहीं है जो आप खुद को समझते है बल्कि आप वही जो दुनिया आ
Rj Anand Prajapati
लोगों के दिलों में बसना चाहते हैं
लोगों के दिलों में बसना चाहते हैं
Harminder Kaur
कह कोई ग़ज़ल
कह कोई ग़ज़ल
Shekhar Chandra Mitra
नेता की रैली
नेता की रैली
Punam Pande
अति मंद मंद , शीतल बयार।
अति मंद मंद , शीतल बयार।
Kuldeep mishra (KD)
भाग्य प्रबल हो जायेगा
भाग्य प्रबल हो जायेगा
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...