Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Dec 2023 · 1 min read

नहीं चाहता मैं किसी को साथी अपना बनाना

नहीं चाहता मैं किसी को, अपना साथी बनाना।
अपनी आजादी खोकर, खुद पर बंदिश लगाना।।
नहीं चाहता मैं किसी को—————–।।

मैं तो अकेला अच्छा हूँ, मुझको इससे शिकायत नहीं।
लेकिन मुझको पसंद नहीं, खुद को गुलाम बनाना।।
नहीं चाहता मैं किसी को——————।।

नहीं है वह ऐसा जो, बदल दे मेरे नसीब को।
मंजूर नहीं है लेकिन, किसी को तकदीर बनाना।।
नहीं चाहता मैं किसी को—————–।।

नहीं मनाओ मुझको तुम, उसको करुँ मैं मोहब्बत।
नहीं सौंपना है हाथ उसको, नहीं यार उसको बनाना।।
नहीं चाहता मैं किसी को—————–।।

मुझको कम करनी नहीं है, अपनी खुशी और हंसी।
दिल मेरा भी चाहता नहीं है, हमराह किसी को बनाना।।
नहीं चाहता मैं किसी को—————–।।

शिक्षक एवं साहित्यकार
गुरुदीन वर्मा उर्फ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

186 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सुकरात के मुरीद
सुकरात के मुरीद
Shekhar Chandra Mitra
तुम्हारी आँखें...।
तुम्हारी आँखें...।
Awadhesh Kumar Singh
गुरु से बडा न कोय🌿🙏🙏
गुरु से बडा न कोय🌿🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
दूसरों को समझने से बेहतर है खुद को समझना । फिर दूसरों को समझ
दूसरों को समझने से बेहतर है खुद को समझना । फिर दूसरों को समझ
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
एक एहसास
एक एहसास
Dr fauzia Naseem shad
Don't bask in your success
Don't bask in your success
सिद्धार्थ गोरखपुरी
💐अज्ञात के प्रति-52💐
💐अज्ञात के प्रति-52💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पास आएगा कभी
पास आएगा कभी
surenderpal vaidya
माँ दया तेरी जिस पर होती
माँ दया तेरी जिस पर होती
Basant Bhagawan Roy
रिश्तों में परीवार
रिश्तों में परीवार
Anil chobisa
हक़ीक़त
हक़ीक़त
Shyam Sundar Subramanian
परिपक्वता
परिपक्वता
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
दिल का हर अरमां।
दिल का हर अरमां।
Taj Mohammad
पेट लव्हर
पेट लव्हर
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हिन्दी पर हाइकू .....
हिन्दी पर हाइकू .....
sushil sarna
दोस्ती गहरी रही
दोस्ती गहरी रही
Rashmi Sanjay
तुम्हें पाने के लिए
तुम्हें पाने के लिए
Surinder blackpen
जाने कैसी इसकी फ़ितरत है
जाने कैसी इसकी फ़ितरत है
Shweta Soni
!! वीणा के तार !!
!! वीणा के तार !!
Chunnu Lal Gupta
जो न कभी करते हैं क्रंदन, भले भोगते भोग
जो न कभी करते हैं क्रंदन, भले भोगते भोग
महेश चन्द्र त्रिपाठी
#विजय_के_23_साल
#विजय_के_23_साल
*Author प्रणय प्रभात*
संस्कार संस्कृति सभ्यता
संस्कार संस्कृति सभ्यता
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
संत गोस्वामी तुलसीदास
संत गोस्वामी तुलसीदास
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जब भी बुलाओ बेझिझक है चली आती।
जब भी बुलाओ बेझिझक है चली आती।
Ahtesham Ahmad
हिन्दी की दशा
हिन्दी की दशा
श्याम लाल धानिया
स्वार्थ से परे !!
स्वार्थ से परे !!
Seema gupta,Alwar
"You can still be the person you want to be, my love. Mistak
पूर्वार्थ
जीवन है पीड़ा, क्यों द्रवित हो
जीवन है पीड़ा, क्यों द्रवित हो
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
"प्यार के दीप" गजल-संग्रह और उसके रचयिता ओंकार सिंह ओंकार
Ravi Prakash
सर्दियों की धूप
सर्दियों की धूप
Vandna Thakur
Loading...