Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Feb 2024 · 1 min read

नहीं खुलती हैं उसकी खिड़कियाँ अब

नहीं खुलती हैं उसकी खिड़कियाँ अब
नहीं आतीं वहाँ से सिसकियाँ अब,
अगर तुम याद अब भी कर रहे हो
नहीं आतीं मुझे क्यूँ हिचकियाँ अब,
समझदारी बहुत आयी है उनमें
नहीं खुलती हैं पल में लड़कियाँ अब,
वही जो शोर की ख़ातिर पिटा था
बहुत खलती हैं उसकी चुप्पियाँ अब
किसी गुलशन सा मन मुरझा गया है
नहीं भाती हैं उसको तितलियाँ अब,
न कोई हो ख़लल तन्हाइयों में
शिक़ायत कर रही हैं चूड़ियाँ अब।

53 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
किताबें
किताबें
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वो दिल लगाकर मौहब्बत में अकेला छोड़ गये ।
वो दिल लगाकर मौहब्बत में अकेला छोड़ गये ।
Phool gufran
यहाँ तो सब के सब
यहाँ तो सब के सब
DrLakshman Jha Parimal
#बाउंसर :-
#बाउंसर :-
*Author प्रणय प्रभात*
देश का दुर्भाग्य
देश का दुर्भाग्य
Shekhar Chandra Mitra
तेरा हासिल
तेरा हासिल
Dr fauzia Naseem shad
फर्क नही पड़ता है
फर्क नही पड़ता है
ruby kumari
- ଓଟେରି ସେଲଭା କୁମାର
- ଓଟେରି ସେଲଭା କୁମାର
Otteri Selvakumar
कविता क़िरदार है
कविता क़िरदार है
Satish Srijan
झोली मेरी प्रेम की
झोली मेरी प्रेम की
Sandeep Pande
बाल कहानी- डर
बाल कहानी- डर
SHAMA PARVEEN
दोहे- माँ है सकल जहान
दोहे- माँ है सकल जहान
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
ग़ज़ल एक प्रणय गीत +रमेशराज
ग़ज़ल एक प्रणय गीत +रमेशराज
कवि रमेशराज
कोई उम्मीद किसी से,तुम नहीं करो
कोई उम्मीद किसी से,तुम नहीं करो
gurudeenverma198
तुम बिन आवे ना मोय निंदिया
तुम बिन आवे ना मोय निंदिया
Ram Krishan Rastogi
पुष्पों का पाषाण पर,
पुष्पों का पाषाण पर,
sushil sarna
"लाभ का लोभ”
पंकज कुमार कर्ण
दलित साहित्य / ओमप्रकाश वाल्मीकि और प्रह्लाद चंद्र दास की कहानी के दलित नायकों का तुलनात्मक अध्ययन // आनंद प्रवीण//Anandpravin
दलित साहित्य / ओमप्रकाश वाल्मीकि और प्रह्लाद चंद्र दास की कहानी के दलित नायकों का तुलनात्मक अध्ययन // आनंद प्रवीण//Anandpravin
आनंद प्रवीण
पुनर्जन्म का सत्याधार
पुनर्जन्म का सत्याधार
Shyam Sundar Subramanian
"शब्दों की सार्थकता"
Dr. Kishan tandon kranti
☄️💤 यादें 💤☄️
☄️💤 यादें 💤☄️
Dr Manju Saini
ਮੁੰਦਰੀ ਵਿੱਚ ਨਗ ਮਾਹੀਆ।
ਮੁੰਦਰੀ ਵਿੱਚ ਨਗ ਮਾਹੀਆ।
Surinder blackpen
💐प्रेम कौतुक-340💐
💐प्रेम कौतुक-340💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
खुशियों का दौर गया , चाहतों का दौर गया
खुशियों का दौर गया , चाहतों का दौर गया
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
......तु कोन है मेरे लिए....
......तु कोन है मेरे लिए....
Naushaba Suriya
चौमासा विरहा
चौमासा विरहा
लक्ष्मी सिंह
2707.*पूर्णिका*
2707.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मन कहता है
मन कहता है
Seema gupta,Alwar
हर मुश्किल फिर आसां होगी।
हर मुश्किल फिर आसां होगी।
Taj Mohammad
*राखी के धागे धवल, पावन परम पुनीत  (कुंडलिया)*
*राखी के धागे धवल, पावन परम पुनीत (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
Loading...