Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Feb 2024 · 1 min read

नहीं आती कुछ भी समझ में तेरी कहानी जिंदगी

नहीं आती कुछ भी समझ में, तेरी कहानी जिंदगी।
अबूझ एक पहेली है, सबके लिए तू जिंदगी।।
नहीं आती कुछ भी समझ में———————–।।

रहती है बचपन में तू , नादान और बेखबर।
हो जाती है गुमनाम तू , जवानी में जिंदगी।।
नहीं आती कुछ भी समझ में——————।।

संवार देती है तकदीर को, तू बेनसीबों की।
बना देती है मुफ़लिस तू , अमीरों की जिंदगी।।
नहीं आती कुछ भी समझ में——————।।

ख्वाब बुनता है आदमी, खुश रखने को तुम्हें सदा।
लेकिन सबसे हटकर है, तेरी चाहत जिंदगी।।
नहीं आती कुछ भी समझ में——————।।

किसी का नहीं छोड़े साथ, तू निभाये अपनी वफ़ा।
छोड़ जाती है रुलाकर सभी को, अंत में तू जिंदगी।।
नहीं आती कुछ भी समझ में——————–।।

शिक्षक एवं साहित्यकार
गुरुदीन वर्मा उर्फ़ जी.आज़ाद
तहसील एवं जिला- बारां(राजस्थान)

129 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आंखें मूंदे हैं
आंखें मूंदे हैं
इंजी. संजय श्रीवास्तव
-- आगे बढ़ना है न ?--
-- आगे बढ़ना है न ?--
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
कान्हा को समर्पित गीतिका
कान्हा को समर्पित गीतिका "मोर पखा सर पर सजे"
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
एक सरकारी सेवक की बेमिसाल कर्मठता / MUSAFIR BAITHA
एक सरकारी सेवक की बेमिसाल कर्मठता / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
॥ संकटमोचन हनुमानाष्टक ॥
॥ संकटमोचन हनुमानाष्टक ॥
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
जब कभी तुमसे इश्क़-ए-इज़हार की बात आएगी,
जब कभी तुमसे इश्क़-ए-इज़हार की बात आएगी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*माना के आज मुश्किल है पर वक्त ही तो है,,
*माना के आज मुश्किल है पर वक्त ही तो है,,
Vicky Purohit
मझधार
मझधार
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
में इंसान हुँ इंसानियत की बात करता हूँ।
में इंसान हुँ इंसानियत की बात करता हूँ।
Anil chobisa
बाल कविता: चूहे की शादी
बाल कविता: चूहे की शादी
Rajesh Kumar Arjun
👍संदेश👍
👍संदेश👍
*प्रणय प्रभात*
केशव तेरी दरश निहारी ,मन मयूरा बन नाचे
केशव तेरी दरश निहारी ,मन मयूरा बन नाचे
पं अंजू पांडेय अश्रु
"इस रोड के जैसे ही _
Rajesh vyas
हमारी दोस्ती अजीब सी है
हमारी दोस्ती अजीब सी है
Keshav kishor Kumar
जीवन
जीवन
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
भ्रम
भ्रम
Dr.Priya Soni Khare
सुन लो दुष्ट पापी अभिमानी
सुन लो दुष्ट पापी अभिमानी
Vishnu Prasad 'panchotiya'
*जख्मी मुस्कुराहटें*
*जख्मी मुस्कुराहटें*
Krishna Manshi
23/86.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/86.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
घड़ी
घड़ी
SHAMA PARVEEN
विश्व पुस्तक दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं।।
विश्व पुस्तक दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं।।
Lokesh Sharma
कुछ एक आशू, कुछ एक आखों में होगा,
कुछ एक आशू, कुछ एक आखों में होगा,
goutam shaw
7) पूछ रहा है दिल
7) पूछ रहा है दिल
पूनम झा 'प्रथमा'
वक्त के थपेड़ो ने जीना सीखा दिया
वक्त के थपेड़ो ने जीना सीखा दिया
Pramila sultan
कोई चोर है...
कोई चोर है...
Srishty Bansal
एक तूही दयावान
एक तूही दयावान
Basant Bhagawan Roy
"नजरिया"
Dr. Kishan tandon kranti
गंगनाँगना छंद विधान ( सउदाहरण )
गंगनाँगना छंद विधान ( सउदाहरण )
Subhash Singhai
ज़िंदगी तो ज़िंदगी
ज़िंदगी तो ज़िंदगी
Dr fauzia Naseem shad
Loading...