Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Dec 2022 · 1 min read

नसीब

जानते हैं सभी ये बात
लिखा है जो नसीब में वही होगा
लिखा है मगर अपना नसीब खुद जिसने
जान लो, वो कभी नहीं रोएगा

नसीब का लिखा मिट नहीं सकता
लेकिन नसीब तो लिख सकते हैं हम अपना
जो होना है वो तो होकर ही रहेगा
लेकिन फर्ज़ तो अदा कर सकते हैं हम अपना

बिन कोशिश रूठ जाता है नसीब
जानी है ये बात, इंसान ने
चांद पर पहुंचना बन गया नसीब
जब कोशिश की इंसान ने

बहती हैं नदियां सदियों से यहां
नहीं बनी बिजली इनसे कभी नसीब से
किए जब जतन इंसान ने हो सका ये चमत्कार भी
देख लो तुम भी इन्हें आकर कभी करीब से

रहता नहीं कुछ एक जैसा
अब थोड़ा आप भी देख लीजिए कुछ बदलकर
कब तक रहेंगे नसीब के भरोसे
तारीख भी वापिस आयेगी मगर साल बदलकर

नसीब को बदल सकते है कर्म
ये बात हमें समझनी ही होगी
है मंज़िल तेरी दूसरे छोर पर अगर
तुझे नदी पार करनी ही होगी

छोड़ दे डर डूबने का
जीत ले मन पानी का
नहीं पड़ेगी नाव की ज़रूरत
सीख ले हुनर तैरने का

चाहता है दिल से अगर
नदियों के रास्ते भी मोड़ सकता है तू
छोड़ अपने नसीब पर रोना
अपना नसीब खुद लिख सकता है तू।

Language: Hindi
7 Likes · 2 Comments · 662 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अनसोई कविता............
अनसोई कविता............
sushil sarna
मारी थी कभी कुल्हाड़ी अपने ही पांव पर ,
मारी थी कभी कुल्हाड़ी अपने ही पांव पर ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
बसंत (आगमन)
बसंत (आगमन)
Neeraj Agarwal
मेरी माटी मेरा देश
मेरी माटी मेरा देश
नूरफातिमा खातून नूरी
हे विश्वनाथ महाराज, तुम सुन लो अरज हमारी
हे विश्वनाथ महाराज, तुम सुन लो अरज हमारी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जलियांवाला बाग,
जलियांवाला बाग,
अनूप अम्बर
भाईचारे का प्रतीक पर्व: लोहड़ी
भाईचारे का प्रतीक पर्व: लोहड़ी
कवि रमेशराज
ग़ज़ल - राना लिधौरी
ग़ज़ल - राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
बूँद बूँद याद
बूँद बूँद याद
Atul "Krishn"
रंगों में रंग जाओ,तब तो होली है
रंगों में रंग जाओ,तब तो होली है
Shweta Soni
धन की खाई कमाई से भर जाएगी। वैचारिक कमी तो शिक्षा भी नहीं भर
धन की खाई कमाई से भर जाएगी। वैचारिक कमी तो शिक्षा भी नहीं भर
Sanjay ' शून्य'
समझ मत मील भर का ही, सृजन संसार मेरा है ।
समझ मत मील भर का ही, सृजन संसार मेरा है ।
Ashok deep
*जल्दी उठना सीखो (बाल कविता)*
*जल्दी उठना सीखो (बाल कविता)*
Ravi Prakash
3064.*पूर्णिका*
3064.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
धरा की प्यास पर कुंडलियां
धरा की प्यास पर कुंडलियां
Ram Krishan Rastogi
ज़िंदगी देती है
ज़िंदगी देती है
Dr fauzia Naseem shad
शेखर सिंह ✍️
शेखर सिंह ✍️
शेखर सिंह
क्या कहना हिन्दी भाषा का
क्या कहना हिन्दी भाषा का
shabina. Naaz
चंद सिक्कों की खातिर
चंद सिक्कों की खातिर
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"तापमान"
Dr. Kishan tandon kranti
श्रृंगारिक दोहे
श्रृंगारिक दोहे
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
यहां
यहां "ट्रेंडिंग रचनाओं" का
*Author प्रणय प्रभात*
कपूत।
कपूत।
Acharya Rama Nand Mandal
विरह
विरह
नवीन जोशी 'नवल'
क्या यह महज संयोग था या कुछ और.... (1)
क्या यह महज संयोग था या कुछ और.... (1)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
"क्या देश आजाद है?"
Ekta chitrangini
मजदूर का बेटा हुआ I.A.S
मजदूर का बेटा हुआ I.A.S
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
हे भगवान तुम इन औरतों को  ना जाने किस मिट्टी का बनाया है,
हे भगवान तुम इन औरतों को ना जाने किस मिट्टी का बनाया है,
Dr. Man Mohan Krishna
"आंखरी ख़त"
Lohit Tamta
Augmented Reality: Unveiling its Transformative Prospects
Augmented Reality: Unveiling its Transformative Prospects
Shyam Sundar Subramanian
Loading...