Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 May 2018 · 1 min read

नसीब आपन आपन (भोजपुरी)

नसीब आपन आपन
*******************
रोज ही विष के पान करीला
सगरे दिन हम काम करीला
सुख नइखे बस आश करीला
भगवन होईं सहाय।

जीवन बा ई विष के प्याला
निकल रहल बा मोर दिवाला
अब दुख तनिको नाहीं सहाला
कुछ त करीं उपाय।

आपन – आन ना केहू लऊँके
अबर जान सियारो फऊँके
दूरदीन रोज कपारे छऊँके
हमका लेयो बचाय।

नसीब बुरा जो होई बुराई
पोसल कुकुर काटी खाई
बिना नसीबा के का पाई
दीहीं नसीबवे बनाय।
****
✍ ✍ पं.संजीव शुक्ल “सचिन”
मुसहरवा (मंशानगर)
पश्चिमी चम्पारण
बिहार……८४५४५५

शब्दार्थ
…………
करीला = करते हैं
सगरे = संपूर्ण
नइखे= नहीं हैं
होंईं = हो जाईये
मोर = मेरा
दिवाला निकला = हालात बहुत बुरा
तनिको = थोड़ा भी
नाहीं = नहीं
सहाला= बरदाश्त होना
करीं = कीजिए
आपन – आन = अपना पराया
केहू = कोई
लऊँके = दिखाई देना
अबर जान = कमजोर जानकर
सियारो = श्रृंगाल सियार
फऊँके = धृष्टता दिखाना
दूरदीन = बहुत बूरा दिन
कपारे छऊँके = सर पे ताण्डव
हमका = हमें, लेयो = लीजिये
बचाय = मुसीबत से छुटकारा
नसीब = भाग्य
पोसल कुकर = पालतू कुत्ता
काटी खाई = काटना खाना
के पाईं = कौन पायेगा

483 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from संजीव शुक्ल 'सचिन'
View all
You may also like:
पुजारी शांति के हम, जंग को भी हमने जाना है।
पुजारी शांति के हम, जंग को भी हमने जाना है।
सत्य कुमार प्रेमी
करते बर्बादी दिखे , भोजन की हर रोज (कुंडलिया)
करते बर्बादी दिखे , भोजन की हर रोज (कुंडलिया)
Ravi Prakash
भारत देश महान है।
भारत देश महान है।
शालिनी राय 'डिम्पल'✍️
इज़हार करके देखो
इज़हार करके देखो
Surinder blackpen
रामकृष्ण परमहंस
रामकृष्ण परमहंस
Indu Singh
*चलो नई जिंदगी की शुरुआत करते हैं*.....
*चलो नई जिंदगी की शुरुआत करते हैं*.....
Harminder Kaur
मन
मन
SATPAL CHAUHAN
मुझे हर वो बच्चा अच्छा लगता है जो अपनी मां की फ़िक्र करता है
मुझे हर वो बच्चा अच्छा लगता है जो अपनी मां की फ़िक्र करता है
Mamta Singh Devaa
टेढ़ी ऊंगली
टेढ़ी ऊंगली
Dr. Pradeep Kumar Sharma
# लोकतंत्र .....
# लोकतंत्र .....
Chinta netam " मन "
अबके तीजा पोरा
अबके तीजा पोरा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
चश्मा
चश्मा
लक्ष्मी सिंह
ना होगी खता ऐसी फिर
ना होगी खता ऐसी फिर
gurudeenverma198
मेरे कफन को रहने दे बेदाग मेरी जिंदगी
मेरे कफन को रहने दे बेदाग मेरी जिंदगी
VINOD CHAUHAN
"महत्वाकांक्षा"
Dr. Kishan tandon kranti
स्वीकारोक्ति :एक राजपूत की:
स्वीकारोक्ति :एक राजपूत की:
AJAY AMITABH SUMAN
जिंदगी के तराने
जिंदगी के तराने
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
एहसास
एहसास
Kanchan Khanna
तख्तापलट
तख्तापलट
Shekhar Chandra Mitra
Tea Lover Please Come 🍟☕️
Tea Lover Please Come 🍟☕️
Urmil Suman(श्री)
खींचो यश की लम्बी रेख।
खींचो यश की लम्बी रेख।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
नव प्रस्तारित सवैया : भनज सवैया
नव प्रस्तारित सवैया : भनज सवैया
Sushila joshi
ऋण चुकाना है बलिदानों का
ऋण चुकाना है बलिदानों का
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
नारी शक्ति.....एक सच
नारी शक्ति.....एक सच
Neeraj Agarwal
Dard-e-Madhushala
Dard-e-Madhushala
Tushar Jagawat
नाम उल्फत में तेरे जिंदगी कर जाएंगे।
नाम उल्फत में तेरे जिंदगी कर जाएंगे।
Phool gufran
बाजार
बाजार
PRADYUMNA AROTHIYA
"जलाओ दीप घंटा भी बजाओ याद पर रखना
आर.एस. 'प्रीतम'
क्या हो, अगर कोई साथी न हो?
क्या हो, अगर कोई साथी न हो?
Vansh Agarwal
3390⚘ *पूर्णिका* ⚘
3390⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
Loading...