Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 May 2024 · 1 min read

नव प्रस्तारित सवैया : भनज सवैया

भनज –सवैया
नगण जगण जगण, भगण जगण नगण गा
१११ १२१ १२१, २११ १२१ १११ २

निखर गया वह रूप, प्रेमिल हुलास छुवन से।
प्रखर हुई उर धूप, आकुल विलास चुभन से।।
विकल बसी उर पीर, वैभव उदास प्रबलता।
बहन लगा जब नीर, अंतस प्रवास सबलता।।

वरद वरेण्य प्रसार, आनन विहास विकलता।
अद्भुत दर्पण प्रहार, नेहिल अरूप सजलता।।
नत रहती हर डाल, पल्लवित गंध वहनता।
हुलस रहे सब लोग, अर्पित प्रसाद प्रवणता।।

सजग रहे दरबार, निर्धन दबाव सहनता।
धन बिन कौन अमोल, बादल सुजात दहलता।।
कब तक हो फरियाद, कानन विराट विरलता।
बिखर रूप सब जाय, धूसरित पाँव विचरता।।

सजल सुकाम ललाम, बिम्ब परिधान पहनते।।
सगुण सरूप विलास , प्रेम अविकार चहकता।
अमल अनंत दुलार, चाहत निकाम झलकता।।
हुलसित काम विलास, देह सब नाम महकता ll

सुशीला जोशी
9719260777

Language: Hindi
1 Like · 28 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
" ठिठक गए पल "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
2911.*पूर्णिका*
2911.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
फुटपाथ की ठंड
फुटपाथ की ठंड
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
मुझे गर्व है अलीगढ़ पर #रमेशराज
मुझे गर्व है अलीगढ़ पर #रमेशराज
कवि रमेशराज
हमारे बिना तुम, जी नहीं सकोगे
हमारे बिना तुम, जी नहीं सकोगे
gurudeenverma198
किताबें
किताबें
Dr. Pradeep Kumar Sharma
वट सावित्री अमावस्या
वट सावित्री अमावस्या
नवीन जोशी 'नवल'
मृत्यु संबंध की
मृत्यु संबंध की
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Love's Burden
Love's Burden
Vedha Singh
टूटे बहुत है हम
टूटे बहुत है हम
The_dk_poetry
*भूल कर इसकी मीठी बातों में मत आना*
*भूल कर इसकी मीठी बातों में मत आना*
sudhir kumar
मां
मां
Sûrëkhâ
तेरी गोरी चमड़ी काली, मेरी काली गोरी है।
तेरी गोरी चमड़ी काली, मेरी काली गोरी है।
*प्रणय प्रभात*
कैलाश चन्द्र चौहान की यादों की अटारी / मुसाफ़िर बैठा
कैलाश चन्द्र चौहान की यादों की अटारी / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
* प्रेम पथ पर *
* प्रेम पथ पर *
surenderpal vaidya
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
जीने की राह
जीने की राह
Madhavi Srivastava
'अहसास' आज कहते हैं
'अहसास' आज कहते हैं
Meera Thakur
अपना अपना कर्म
अपना अपना कर्म
Mangilal 713
गुस्सा दिलाकर ,
गुस्सा दिलाकर ,
Umender kumar
बेटियाँ
बेटियाँ
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
दरक जाती हैं दीवारें  यकीं ग़र हो न रिश्तों में
दरक जाती हैं दीवारें यकीं ग़र हो न रिश्तों में
Mahendra Narayan
सच की माया
सच की माया
Lovi Mishra
बेटियाँ
बेटियाँ
विजय कुमार अग्रवाल
रफ्ता रफ्ता हमने जीने की तलब हासिल की
रफ्ता रफ्ता हमने जीने की तलब हासिल की
कवि दीपक बवेजा
समर कैम्प (बाल कविता )
समर कैम्प (बाल कविता )
Ravi Prakash
"बागबान"
Dr. Kishan tandon kranti
1. चाय
1. चाय
Rajeev Dutta
हर शक्स की नजरो से गिर गए जो इस कदर
हर शक्स की नजरो से गिर गए जो इस कदर
कृष्णकांत गुर्जर
।। धन तेरस ।।
।। धन तेरस ।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
Loading...