Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Oct 2023 · 1 min read

“नवरात्रि पर्व”

“नवरात्रि पर्व”

पहले दिन माँ शैलपुत्री के रूप में आई,
भक्तों के दुखों को दूर करने धरती पर आई।
दूसरे दिन माँ ब्रह्मचारिणी कहलाई,
आत्मा शुद्धि का संदेश ले आई।।

6 Likes · 2 Comments · 601 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मां के हाथ में थामी है अपने जिंदगी की कलम मैंने
मां के हाथ में थामी है अपने जिंदगी की कलम मैंने
कवि दीपक बवेजा
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
* फागुन की मस्ती *
* फागुन की मस्ती *
surenderpal vaidya
मुनाफे में भी घाटा क्यों करें हम।
मुनाफे में भी घाटा क्यों करें हम।
सत्य कुमार प्रेमी
शहीद -ए -आजम भगत सिंह
शहीद -ए -आजम भगत सिंह
Rj Anand Prajapati
घाव
घाव
अखिलेश 'अखिल'
"सर्वाधिक खुशहाल देश"
Dr. Kishan tandon kranti
सुनो रे सुनो तुम यह मतदाताओं
सुनो रे सुनो तुम यह मतदाताओं
gurudeenverma198
तुम्हारा एक दिन..…........एक सोच
तुम्हारा एक दिन..…........एक सोच
Neeraj Agarwal
everyone run , live and associate life with perception that
everyone run , live and associate life with perception that
पूर्वार्थ
बहू हो या बेटी ,
बहू हो या बेटी ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
जय प्रकाश
जय प्रकाश
Jay Dewangan
■ कन्फेशन
■ कन्फेशन
*Author प्रणय प्रभात*
हमारी दुआ है , आगामी नववर्ष में आपके लिए ..
हमारी दुआ है , आगामी नववर्ष में आपके लिए ..
Vivek Mishra
ख़ून इंसानियत का
ख़ून इंसानियत का
Dr fauzia Naseem shad
2797. *पूर्णिका*
2797. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
Bundeli Doha by Rajeev Namdeo Rana lidhorI
Bundeli Doha by Rajeev Namdeo Rana lidhorI
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
~
~"मैं श्रेष्ठ हूँ"~ यह आत्मविश्वास है... और
Radhakishan R. Mundhra
जीना सिखा दिया
जीना सिखा दिया
Basant Bhagawan Roy
एक परोपकारी साहूकार: ‘ संत तुकाराम ’
एक परोपकारी साहूकार: ‘ संत तुकाराम ’
कवि रमेशराज
Speciality comes from the new arrival .
Speciality comes from the new arrival .
Sakshi Tripathi
Emerging Water Scarcity Problem in Urban Areas
Emerging Water Scarcity Problem in Urban Areas
Shyam Sundar Subramanian
*छाया कैसा  नशा है कैसा ये जादू*
*छाया कैसा नशा है कैसा ये जादू*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
तेरी जुल्फों के साये में भी अब राहत नहीं मिलती।
तेरी जुल्फों के साये में भी अब राहत नहीं मिलती।
Phool gufran
*अपना अंतस*
*अपना अंतस*
Rambali Mishra
*कभी कभी यह भी होता है, साँस न वापस आती (गीत )*
*कभी कभी यह भी होता है, साँस न वापस आती (गीत )*
Ravi Prakash
भुलाया ना जा सकेगा ये प्रेम
भुलाया ना जा सकेगा ये प्रेम
The_dk_poetry
गजल
गजल
Anil Mishra Prahari
जीवन छोटा सा कविता
जीवन छोटा सा कविता
कार्तिक नितिन शर्मा
4) धन्य है सफर
4) धन्य है सफर
पूनम झा 'प्रथमा'
Loading...