Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Nov 2023 · 1 min read

नवयुग का भारत

ऐ वतन तेरी इस मिट्टी पर
जब जब भी संकट छाया है
तब तब हम विध्नों को चीर
भारत मां की लाज बचाया…
गढ़ने दो कपटी दुर्योधन को
अभिमन्यु सा चक्र व्यूह
फेंकने दो गंधार नरेश को
उसकी कपटी पासा को
ये पहले वाला दिन नहीं
न ही 1962 वाला भारत है
दुश्मन हमें नैन दिखलाए
उसकी नैन नोच फेंकेंगे हम
ये नया उभरता खिलता हुआ
नव युग का नया भारत है…

राजगुरु , सुखदेव , भगत सिंह
आजाद, बिस्मिल्ला जैसे हमारे वीर
मिट गए निज वतन पर बारी बारी
उन्हीं तमाम वीरों की शहादत से
यह अपना भारत आजाद हुआ
यह वीरों की धरती है संतों की भूमि है
बहादुरों, बगावतों,बलिदानों की भूमि है
इस माटी में हमने जन्म लिया…
यह गर्व से कम नहीं है यह गर्व से कम…
यूं ही जीने और न मरने आए हैं हम
दुनिया को अमिट निशानी देने आए हैं हम…

यह अपना भारत आदिकाल से जगमगाता रहा
सोना, चांदी , ज्ञान, विज्ञान से सदा अलंकृत रहा
जिससे दुश्मन भी हमारी ओर सतत् लुभाता रहा
और इस अलंकृत भारत को बार बार लूटता रहा
भारत को बर्बाद करने की साज़िशों में लगा रहा
अपना भारत विश्व बंधुत्व की राह पर चलता रहा
अब वो समय, वो दौड़, वो युग, वो काल न रहा
दुश्मन हमें नैन दिखलाए,उसकी नैन नोच फेंकेंगे हम
ये नया उभरता खिलता हुआ, नव युग का नया भारत है…

Language: Hindi
4 Likes · 129 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बेटियां
बेटियां
Ram Krishan Rastogi
नौ फेरे नौ वचन
नौ फेरे नौ वचन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
पारिजात छंद
पारिजात छंद
Neelam Sharma
मन बैठ मेरे पास पल भर,शांति से विश्राम कर
मन बैठ मेरे पास पल भर,शांति से विश्राम कर
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दिल तोड़ना ,
दिल तोड़ना ,
Buddha Prakash
मंजिल
मंजिल
Kanchan Khanna
भगवा है पहचान हमारी
भगवा है पहचान हमारी
Dr. Pratibha Mahi
"जोकर"
Dr. Kishan tandon kranti
*
*"मर्यादा पुरूषोत्तम श्री राम"*
Shashi kala vyas
कीमत
कीमत
Paras Nath Jha
सबसे कठिन है
सबसे कठिन है
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
लाभ की इच्छा से ही लोभ का जन्म होता है।
लाभ की इच्छा से ही लोभ का जन्म होता है।
Rj Anand Prajapati
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
लिख सकता हूँ ।।
लिख सकता हूँ ।।
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
सच जिंदा रहे(मुक्तक)
सच जिंदा रहे(मुक्तक)
गुमनाम 'बाबा'
दीप शिखा सी जले जिंदगी
दीप शिखा सी जले जिंदगी
Suryakant Dwivedi
आइए जनाब
आइए जनाब
Surinder blackpen
अब तक मुकम्मल नहीं हो सका आसमां,
अब तक मुकम्मल नहीं हो सका आसमां,
Anil Mishra Prahari
आओ बैठो पियो पानी🌿🇮🇳🌷
आओ बैठो पियो पानी🌿🇮🇳🌷
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
यह तो अब तुम ही जानो
यह तो अब तुम ही जानो
gurudeenverma198
3051.*पूर्णिका*
3051.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कोरा कागज और मेरे अहसास.....
कोरा कागज और मेरे अहसास.....
Santosh Soni
कैसे वोट बैंक बढ़ाऊँ? (हास्य कविता)
कैसे वोट बैंक बढ़ाऊँ? (हास्य कविता)
Dr. Kishan Karigar
🌸प्रकृति 🌸
🌸प्रकृति 🌸
Mahima shukla
// कामयाबी के चार सूत्र //
// कामयाबी के चार सूत्र //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
हमने तूफानों में भी दीपक जलते देखा है
हमने तूफानों में भी दीपक जलते देखा है
कवि दीपक बवेजा
■ संवेदनशील मन अतीत को कभी विस्मृत नहीं करता। उसमें और व्याव
■ संवेदनशील मन अतीत को कभी विस्मृत नहीं करता। उसमें और व्याव
*प्रणय प्रभात*
सज्जन से नादान भी, मिलकर बने महान।
सज्जन से नादान भी, मिलकर बने महान।
आर.एस. 'प्रीतम'
यूं जरूरतें कभी माँ को समझाने की नहीं होती,
यूं जरूरतें कभी माँ को समझाने की नहीं होती,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
जिसने अपनी माँ को पूजा
जिसने अपनी माँ को पूजा
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
Loading...