Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Mar 2024 · 1 min read

नलिनी छंद /भ्रमरावली छंद

नलिनी छंद 15 वर्ण (इसको भ्रमरावली छंद भी कहते है )
ललगा ×5 , पिंगल सूत्र – स× 5

जिसके दिल का शुभ सुंदर बोल नहीं |
उसका समझो कुछ भी अब मोल नहीं |
कहता दिल से सबसे मिलके रहता –
उसके दर की समझो तब तोल नहीं |

चलते पग जो हित मानव का करते |
सबके दिल में वह साहस है भरते |
अनमोल कहें सब लोग झुकें चरणों –
अभिनंदन में वह शूल सदा हरते |

सुभाष सिंघई

Language: Hindi
69 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हिन्दी ग़ज़लः सवाल सार्थकता का? +रमेशराज
हिन्दी ग़ज़लः सवाल सार्थकता का? +रमेशराज
कवि रमेशराज
मेरी मजबूरी को बेवफाई का नाम न दे,
मेरी मजबूरी को बेवफाई का नाम न दे,
Priya princess panwar
उतर जाती है पटरी से जब रिश्तों की रेल
उतर जाती है पटरी से जब रिश्तों की रेल
हरवंश हृदय
"गहरा रिश्ता"
Dr. Kishan tandon kranti
बापू के संजय
बापू के संजय
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*देश का दर्द (मणिपुर से आहत)*
*देश का दर्द (मणिपुर से आहत)*
Dushyant Kumar
फूल और भी तो बहुत है, महकाने को जिंदगी
फूल और भी तो बहुत है, महकाने को जिंदगी
gurudeenverma198
तुम सात जन्मों की बात करते हो,
तुम सात जन्मों की बात करते हो,
लक्ष्मी सिंह
अतीत
अतीत
Shyam Sundar Subramanian
Not a Choice, But a Struggle
Not a Choice, But a Struggle
पूर्वार्थ
तभी लोगों ने संगठन बनाए होंगे
तभी लोगों ने संगठन बनाए होंगे
Maroof aalam
अफसोस है मैं आजाद भारत बोल रहा हूॅ॑
अफसोस है मैं आजाद भारत बोल रहा हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
काश जन चेतना भरे कुलांचें
काश जन चेतना भरे कुलांचें
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
कहीं ना कहीं कुछ टूटा है
कहीं ना कहीं कुछ टूटा है
goutam shaw
"नए सवेरे की खुशी" (The Joy of a New Morning)
Sidhartha Mishra
*मूलांक*
*मूलांक*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
2775. *पूर्णिका*
2775. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
"इंसान की फितरत"
Yogendra Chaturwedi
दिल से रिश्ते
दिल से रिश्ते
Dr fauzia Naseem shad
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Shweta Soni
आई लो बरसात है, मौसम में आह्लाद (कुंडलिया)
आई लो बरसात है, मौसम में आह्लाद (कुंडलिया)
Ravi Prakash
जुड़ी हुई छतों का जमाना था,
जुड़ी हुई छतों का जमाना था,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सृजन के जन्मदिन पर
सृजन के जन्मदिन पर
Satish Srijan
कैसे वोट बैंक बढ़ाऊँ? (हास्य कविता)
कैसे वोट बैंक बढ़ाऊँ? (हास्य कविता)
Dr. Kishan Karigar
चंद फूलों की खुशबू से कुछ नहीं होता
चंद फूलों की खुशबू से कुछ नहीं होता
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
पहला अहसास
पहला अहसास
Falendra Sahu
#पैरोडी-
#पैरोडी-
*Author प्रणय प्रभात*
जिंदगी की एक मुलाक़ात से मौसम बदल गया।
जिंदगी की एक मुलाक़ात से मौसम बदल गया।
Phool gufran
चाय और गपशप
चाय और गपशप
Seema gupta,Alwar
घरौंदा
घरौंदा
Madhavi Srivastava
Loading...