Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jan 2024 · 2 min read

नया से भी नया

, नया से भी नया
–‌—————————————————–
प्रकृति को मत छेड़िए,ये तो बहुत नायाब है !
है भले भौतिक-अभौतिक किन्तु ये नायाब है!!

सुन रहे हैं कुछ दिनों से साल तेइस जा रहा है-
पुष्प स्वागत को लिए हैं वर्ष चौबिस आ रहा है!

तीन सौ पैंसठ दिवस दिन पूर्व ये दिन भी नया था-
क्या हुआ जो हो पुराना हेय समझा जा रहा है!

प्रकृति भी ना जाने कब से आ रही व्यवहार में है-
यह भी तो होकर पुरानी क्यों न फेंकी जा रही है!

क्यों न कहते भोगते जो ऊबता है मन एक दिन –
यहाँ नये की ललक होगी मन में भी एक तो दिन !

किन्तु कुदरत में पुराना यूँ तो कुछ कुछ भी नहीं है,
जो नहीं तुमने जो देखा बस नया तुम को वही है !

क्या पुराना जो गया है सच में वो निर्मूल्य धा –
कर लिया उपयोग जी भर कहते अब निर्मूल्य धा !

आने दो नववर्ष आखिर वह नया कब तक रहेगा –
पर नया हो या पुराना बात तो अपनी कहेगा !

छोड़ दो सब वक्त पर ही क्रमिक संचालन करेगा-
मान्यताएँ पूर्ण होंगी तब कोई परिणाम होगा !

साधु बन जाओ अ-भागे जो दिखे वो सब नया है –
और आगे सोच रख्खो यहाँ नया से भी नया है !

बात है वो अलग जब तुम काम कर थक जाओ तब –
ढूँढ़ लेना कुछ बहाना दोष दे के गत को दे के तुम !

हाँ में हाँ कर हम तुम्हारी नव वरस स्वागत करें-
मन वही ही तन वही ही सब का सब स्वागत करें !

कूछ भी नया नहीं है जग में कुछ भी नहीं पुराना !
स्वारथ से सब नया-नया है स्वारथ गये पुराना !!
——————————————————–
C/R ,स्वरूप दिनकर , आगरा ।
31/12/2923
——————————————————

65 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ramswaroop Dinkar
View all
You may also like:
🍁अंहकार🍁
🍁अंहकार🍁
Dr. Vaishali Verma
लोगों के रिश्तों में अक्सर
लोगों के रिश्तों में अक्सर "मतलब" का वजन बहुत ज्यादा होता है
Jogendar singh
पहला कदम
पहला कदम
प्रकाश जुयाल 'मुकेश'
****माता रानी आई ****
****माता रानी आई ****
Kavita Chouhan
"जेब्रा"
Dr. Kishan tandon kranti
खूबसूरत पड़ोसन का कंफ्यूजन
खूबसूरत पड़ोसन का कंफ्यूजन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बिछड़ के नींद से आँखों में बस जलन होगी।
बिछड़ के नींद से आँखों में बस जलन होगी।
Prashant mishra (प्रशान्त मिश्रा मन)
मैं आदमी असरदार हूं - हरवंश हृदय
मैं आदमी असरदार हूं - हरवंश हृदय
हरवंश हृदय
जागता हूँ क्यों ऐसे मैं रातभर
जागता हूँ क्यों ऐसे मैं रातभर
gurudeenverma198
#संस्मरण
#संस्मरण
*Author प्रणय प्रभात*
*याद है  हमको हमारा  जमाना*
*याद है हमको हमारा जमाना*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
शहीदों के लिए (कविता)
शहीदों के लिए (कविता)
गुमनाम 'बाबा'
अन्तर्मन की विषम वेदना
अन्तर्मन की विषम वेदना
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
सारी जिंदगी कुछ लोगों
सारी जिंदगी कुछ लोगों
shabina. Naaz
ग़ज़ल/नज़्म - प्यार के ख्वाबों को दिल में सजा लूँ तो क्या हो
ग़ज़ल/नज़्म - प्यार के ख्वाबों को दिल में सजा लूँ तो क्या हो
अनिल कुमार
नवम्बर की सर्दी
नवम्बर की सर्दी
Dr fauzia Naseem shad
2487.पूर्णिका
2487.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कोई यहां अब कुछ नहीं किसी को बताता है,
कोई यहां अब कुछ नहीं किसी को बताता है,
manjula chauhan
जिंदगी बेहद रंगीन है और कुदरत का करिश्मा देखिए लोग भी रंग बद
जिंदगी बेहद रंगीन है और कुदरत का करिश्मा देखिए लोग भी रंग बद
Rekha khichi
पर्वत दे जाते हैं
पर्वत दे जाते हैं
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
खुशियों का दौर गया , चाहतों का दौर गया
खुशियों का दौर गया , चाहतों का दौर गया
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अमृत वचन
अमृत वचन
Dinesh Kumar Gangwar
"मिलते है एक अजनबी बनकर"
Lohit Tamta
प्रेरणा और पराक्रम
प्रेरणा और पराक्रम
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सावन
सावन
Madhavi Srivastava
दरकती ज़मीं
दरकती ज़मीं
Namita Gupta
*मन न जाने कहां कहां भटकते रहता है स्थिर नहीं रहता है।चंचल च
*मन न जाने कहां कहां भटकते रहता है स्थिर नहीं रहता है।चंचल च
Shashi kala vyas
हटा 370 धारा
हटा 370 धारा
लक्ष्मी सिंह
सफलता यूं ही नहीं मिल जाती है।
सफलता यूं ही नहीं मिल जाती है।
नेताम आर सी
प्राणवल्लभा 2
प्राणवल्लभा 2
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
Loading...