Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Apr 2020 · 1 min read

नया साल

साल नया है, हाल नया हो,
मुबारक लो!

लिहाजा गिनती बढ़ी है, खुमारी चढ़ी है,
दिन जो ग़ुजरे हैं, इंतजाम बस दूसरे हैं!
बेहतरी की चाह है, हौसलों की थाह है,
ख्वाबों की पतंग है, तूफानों से जंग है!
मुल्क अपना है, नींद अपनी हो,
मुबारक लो!

खटखटा रहा वक़्त है, पर्व की दस्तक है,
कई चीजों से मोह है, कुछेक की टोह है!
मंज़िलों का कद है, मुस्तैदी रही बेहद है,
भावी कई मुराद हैं, बीती यादें आबाद हैं!
हाथ साथ है, लकीरें साथ हों,
मुबारक लो!

लम्बा ये सफर है, सौगातों की चादर है,
बदलाव के आसार हैं, स्वप्निल कगार है!
मुफलिसी है जुआ है, अपनों की दुआ है,
नूतनता की धूम है, रंजिशें सारी गुम हैं!
हबीब क़रीब हैं, रक़ीब करीब हों,
मुबारक लो!

न्यू वाला साल हैप्पी हो!☺☺

Language: Hindi
375 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बढ़कर बाणों से हुई , मृगनयनी की मार(कुंडलिया)
बढ़कर बाणों से हुई , मृगनयनी की मार(कुंडलिया)
Ravi Prakash
जीवन संघर्ष
जीवन संघर्ष
Omee Bhargava
जब कभी तुम्हारा बेटा ज़बा हों, तो उसे बताना ज़रूर
जब कभी तुम्हारा बेटा ज़बा हों, तो उसे बताना ज़रूर
The_dk_poetry
जमात
जमात
AJAY AMITABH SUMAN
अग्नि परीक्षा सहने की एक सीमा थी
अग्नि परीक्षा सहने की एक सीमा थी
Shweta Soni
नन्दी बाबा
नन्दी बाबा
Anil chobisa
माँ
माँ
Dinesh Kumar Gangwar
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – गर्भ और जन्म – 04
असुर सम्राट भक्त प्रह्लाद – गर्भ और जन्म – 04
Kirti Aphale
ईश्वर
ईश्वर
Neeraj Agarwal
क्या हुआ गर तू है अकेला इस जहां में
क्या हुआ गर तू है अकेला इस जहां में
gurudeenverma198
अंधेरे के आने का खौफ,
अंधेरे के आने का खौफ,
Buddha Prakash
आज के बच्चों की बदलती दुनिया
आज के बच्चों की बदलती दुनिया
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मै थक गया हु
मै थक गया हु
भरत कुमार सोलंकी
*कोई भी ना सुखी*
*कोई भी ना सुखी*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
2442.पूर्णिका
2442.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मैं नहीं मधु का उपासक
मैं नहीं मधु का उपासक
नवीन जोशी 'नवल'
साधना से सिद्धि.....
साधना से सिद्धि.....
Santosh Soni
हम कहाँ जा रहे हैं...
हम कहाँ जा रहे हैं...
Radhakishan R. Mundhra
■ बड़ा सच...
■ बड़ा सच...
*प्रणय प्रभात*
जब जलियांवाला काण्ड हुआ
जब जलियांवाला काण्ड हुआ
Satish Srijan
💐💐मरहम अपने जख्मों पर लगा लेते खुद ही...
💐💐मरहम अपने जख्मों पर लगा लेते खुद ही...
Priya princess panwar
बूँद-बूँद से बनता सागर,
बूँद-बूँद से बनता सागर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नफ़रतों की बर्फ़ दिल में अब पिघलनी चाहिए।
नफ़रतों की बर्फ़ दिल में अब पिघलनी चाहिए।
सत्य कुमार प्रेमी
उल्फ़त का  आगाज़ हैं, आँखों के अल्फाज़ ।
उल्फ़त का आगाज़ हैं, आँखों के अल्फाज़ ।
sushil sarna
कठपुतली ( #नेपाली_कविता)
कठपुतली ( #नेपाली_कविता)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
इतिहास गवाह है
इतिहास गवाह है
शेखर सिंह
कविता
कविता
Rambali Mishra
हँसकर जीना दस्तूर है ज़िंदगी का;
हँसकर जीना दस्तूर है ज़िंदगी का;
पूर्वार्थ
शब का आँचल है मेरे दिल की दुआएँ,
शब का आँचल है मेरे दिल की दुआएँ,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सत्यता और शुचिता पूर्वक अपने कर्तव्यों तथा दायित्वों का निर्
सत्यता और शुचिता पूर्वक अपने कर्तव्यों तथा दायित्वों का निर्
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
Loading...