Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 May 2022 · 1 min read

नया बाजार रिश्ते उधार (मंगनी) बिक रहे जन्मदिन है । हैं कोई खरीदार

अंतिम शेर डॉ. सीमा कुमारी का प्लीज सुन लिजिए।

Language: Hindi
Tag: शेर
3 Likes · 4 Comments · 310 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
महान जन नायक, क्रांति सूर्य,
महान जन नायक, क्रांति सूर्य, "शहीद बिरसा मुंडा" जी को उनकी श
नेताम आर सी
बरगद और बुजुर्ग
बरगद और बुजुर्ग
Dr. Pradeep Kumar Sharma
पिंजरे के पंछी को उड़ने दो
पिंजरे के पंछी को उड़ने दो
Dr Nisha nandini Bhartiya
जीवन के उपन्यास के कलाकार हैं ईश्वर
जीवन के उपन्यास के कलाकार हैं ईश्वर
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
जब शून्य में आकाश को देखता हूँ
जब शून्य में आकाश को देखता हूँ
gurudeenverma198
आत्मा को ही सुनूँगा
आत्मा को ही सुनूँगा
राहुल द्विवेदी 'स्मित'
कहाँवा से तु अइलू तुलसी
कहाँवा से तु अइलू तुलसी
Gouri tiwari
जुगुनूओं की कोशिशें कामयाब अब हो रही,
जुगुनूओं की कोशिशें कामयाब अब हो रही,
Kumud Srivastava
पत्र
पत्र
लक्ष्मी सिंह
जानवर और आदमी में फर्क
जानवर और आदमी में फर्क
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पारिजात छंद
पारिजात छंद
Neelam Sharma
इश्क रोग
इश्क रोग
Dushyant Kumar
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Godambari Negi
ऐ मौत
ऐ मौत
Ashwani Kumar Jaiswal
कड़ियों की लड़ी धीरे-धीरे बिखरने लगती है
कड़ियों की लड़ी धीरे-धीरे बिखरने लगती है
DrLakshman Jha Parimal
वृक्षारोपण का अर्थ केवल पौधे को रोपित करना ही नहीं बल्कि उसक
वृक्षारोपण का अर्थ केवल पौधे को रोपित करना ही नहीं बल्कि उसक
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
"कैसे व्याख्या करूँ?"
Dr. Kishan tandon kranti
Qata
Qata
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
रंग एतबार का
रंग एतबार का
Dr fauzia Naseem shad
क्रोध
क्रोध
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
2788. *पूर्णिका*
2788. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कछु मतिहीन भए करतारी,
कछु मतिहीन भए करतारी,
Arvind trivedi
*कविता कम-बातें अधिक (दोहे)*
*कविता कम-बातें अधिक (दोहे)*
Ravi Prakash
मेरे भगवान
मेरे भगवान
Dr.Priya Soni Khare
"The Deity in Red"
Manisha Manjari
मोहब्बत की दुकान और तेल की पकवान हमेशा ही हानिकारक होती है l
मोहब्बत की दुकान और तेल की पकवान हमेशा ही हानिकारक होती है l
Ashish shukla
फ़ितरत
फ़ितरत
Kavita Chouhan
तुम कहते हो राम काल्पनिक है
तुम कहते हो राम काल्पनिक है
Harinarayan Tanha
मुक़द्दर में लिखे जख्म कभी भी नही सूखते
मुक़द्दर में लिखे जख्म कभी भी नही सूखते
Dr Manju Saini
तुम पलाश मैं फूल तुम्हारा।
तुम पलाश मैं फूल तुम्हारा।
Dr. Seema Varma
Loading...