Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jul 18, 2016 · 1 min read

नयना ! बिन कहे सब कह जाता .

नयना ! बिन कहे सब कह जाता .
ठेस लगे तो छलक पड़े ,और खुश हो तो मुसकाता .
नयना ! बिन कहे सब कह जाता .
कितनी हसीं है दुनिया सारी , कुदरत की हर शै है न्यारी .
चाँद सितारे , धरती – गगन ,और सुंदर मुरति – सूरत प्यारी .
सब कुछ है आंखों की बदौलत ,नयन बिना क्या होता .
नयना ! बिन कहे सब कह जाता .
देने वाले ! क्या कर डाला ,आँख दिया पर ज्योति न डाला.
इनके लिए क्या दिन -क्या रातें ,कैसा अँधेरा – कैसा उजाला .
जानें कुछ लोगों को रब क्यूँ ,ऐसा दिन दिखलाता .
नयना ! बिन कहे सब कह जाता .
जाते -जाते काम जो कर गये ,अंधों पर एहसान जो कर गये .
ऐसे लोग मरेंगे कैसे , अपनी आँखें दान जो कर गये .
काश ! सभी ऐसे हो जाते ,अंधापन मिट जाता .
नयना ! बिन कहे सब कह जाता .
ठेस लगे तो छलक पड़े ,और खुश हो तो मुसकाता .
नयना ! बिन कहे सब कह जाता .
—— सतीश मापतपुरी

104 Views
You may also like:
सुधारने का वक्त
AMRESH KUMAR VERMA
खोकर के अपनो का विश्वास ।......(भाग- 2)
Buddha Prakash
ये चिड़िया
Anamika Singh
बस करो अब मत तड़फाओ ना
Krishan Singh
पिता एक विश्वास - डी के निवातिया
डी. के. निवातिया
उपहार (फ़ादर्स डे पर विशेष)
drpranavds
मैं बहती गंगा बन जाऊंगी।
Taj Mohammad
कोई हल नहीं मिलता रोने और रुलाने से।
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
कविता की महत्ता
Rj Anand Prajapati
** दर्द की दास्तान **
Dr. Alpa H. Amin
माँ तुम सबसे खूबसूरत हो
Anamika Singh
शांति....
Dr. Alpa H. Amin
डाक्टर भी नहीं दवा देंगे।
सत्य कुमार प्रेमी
कितनी पीड़ा कितने भागीरथी
सूर्यकांत द्विवेदी
आइसक्रीम लुभाए
Buddha Prakash
दोस्ती अपनी जगह है आशिकी अपनी जगह
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
सबको हार्दिक शुभकामनाएं !
Prabhudayal Raniwal
हिंदी से प्यार करो
Pt. Brajesh Kumar Nayak
अपनी क़िस्मत को फिर बदल कर देखते हैं
Muhammad Asif Ali
अहसासों से भर जाता हूं।
Taj Mohammad
मेहनत
Arjun Chauhan
हंँसना तुम सीखो ।
Buddha Prakash
पिता घर की पहचान
vivek.31priyanka
धारण कर सत् कोयल के गुण
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सुकून सा ऐहसास...
Dr. Alpa H. Amin
गंगा अवतरण
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
किसी को गिराया नहीं मैनें।
Taj Mohammad
Time never returns
Buddha Prakash
कुछ नहीं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
क्यों कहाँ चल दिये
gurudeenverma198
Loading...