Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Jul 2016 · 1 min read

नयना ! बिन कहे सब कह जाता .

नयना ! बिन कहे सब कह जाता .
ठेस लगे तो छलक पड़े ,और खुश हो तो मुसकाता .
नयना ! बिन कहे सब कह जाता .
कितनी हसीं है दुनिया सारी , कुदरत की हर शै है न्यारी .
चाँद सितारे , धरती – गगन ,और सुंदर मुरति – सूरत प्यारी .
सब कुछ है आंखों की बदौलत ,नयन बिना क्या होता .
नयना ! बिन कहे सब कह जाता .
देने वाले ! क्या कर डाला ,आँख दिया पर ज्योति न डाला.
इनके लिए क्या दिन -क्या रातें ,कैसा अँधेरा – कैसा उजाला .
जानें कुछ लोगों को रब क्यूँ ,ऐसा दिन दिखलाता .
नयना ! बिन कहे सब कह जाता .
जाते -जाते काम जो कर गये ,अंधों पर एहसान जो कर गये .
ऐसे लोग मरेंगे कैसे , अपनी आँखें दान जो कर गये .
काश ! सभी ऐसे हो जाते ,अंधापन मिट जाता .
नयना ! बिन कहे सब कह जाता .
ठेस लगे तो छलक पड़े ,और खुश हो तो मुसकाता .
नयना ! बिन कहे सब कह जाता .
—— सतीश मापतपुरी

Language: Hindi
Tag: गीत
167 Views
You may also like:
बंदिशे तमाम मेरे हक़ में ...........
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
हिन्दी दिवस
Aditya Prakash
साथ भी दूंगा नहीं यार मैं नफरत के लिए।
सत्य कुमार प्रेमी
*मेरे देश का सैनिक*
Prabhudayal Raniwal
✍️हम भी कुछ थे✍️
'अशांत' शेखर
बनारस की गलियों की शाम हो तुम।
Gouri tiwari
✍️वो अच्छे से समझता है ✍️
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
शायरी हिंदी
श्याम सिंह बिष्ट
परिंदे को गम सता रहा है।
Taj Mohammad
मिट्टी के दीप जलाना
Yash Tanha Shayar Hu
💐💐धर्मो रक्षति रक्षित:💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
समीक्षा सॉनेट संग्रह
Pakhi Jain
मौसम की गर्मी
Seema 'Tu hai na'
दिल है या दिल्ली?
Shekhar Chandra Mitra
मेरी मातृभाषा हिन्दी है
gurudeenverma198
“ जन्माष्टमी की एक झलक आर्मी में ” (संस्मरण)
DrLakshman Jha Parimal
*मुस्कुराना सीखिए (गीतिका)*
Ravi Prakash
ना होता कुलनाश, चले धर्म-कर्म से जो
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नव दीपोत्सव कामना
Shyam Sundar Subramanian
नववर्ष
Vandana Namdev
ठान लिया है
Buddha Prakash
*नीम का पेड़* कहानी - लेखक: राधाकिसन मूंदड़ा
radhakishan Mundhra
दूर हमसे
Dr fauzia Naseem shad
आसमाँ के परिंदे
VINOD KUMAR CHAUHAN
एक बात है
Varun Singh Gautam
" हालात ए इश्क़ " ( चंद अश'आर )
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
Book of the day: अर्चना की कुण्डलियाँ (भाग-2)
Sahityapedia
राधा
सूर्यकांत द्विवेदी
फिर भी वो मासूम है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
शिक्षक को शिक्षण करने दो
Sanjay Narayan
Loading...