Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Dec 2022 · 1 min read

नम पड़ी आँखों में सवाल फिर वही है, क्या इस रात की सुबह होने को नहीं है?

नम पड़ी आँखों में सवाल फिर वही है,
क्या इस रात की सुबह होने को नहीं है?
उमीदों की कश्ती के आगे तूफ़ान फिर वही है,
पर इस बार पतवार उठाने की ताक़त मुझमें नहीं है।
जो मुझको डूबो दे, सैलाब चाहतों का वही है,
पर धड़कनों को अब फिर से उबारने की चाहत मुझमें नहीं है।
ख़्वाहिशों में रंग शिद्दतों का फिर वही है,
पर इंद्रधनुषी सपनों की जगह, इन आँखों में अब नहीं है।
मंजिलें तो नयी हैं, पर रास्ते फिर वही हैं,
जिनपर चलने की हिम्मत, थक चुके क़दमों में अब नहीं हैं।
बहारों ने बिछाये, फूलों के गलीचे वही है,
पर फूलों को कुचलने की, आदत मेरी फ़ितरत में नहीं है।
आँखों से दिल तक पहुंचे, मुस्कुराहटें ये वही है,
पर मुस्कुराहट से इन आँखों का रिश्ता कभी क़ायम हुआ हीं नहीं है।
अक्स शीशे में ख़ुद का आज भी दिखता वही है,
पर इस अनजान शख़्स की पहचान मुझसे अब तक हुई हीं नहीं है।

3 Likes · 4 Comments · 472 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Manisha Manjari
View all
You may also like:
All your thoughts and
All your thoughts and
Dhriti Mishra
# विचार
# विचार
DrLakshman Jha Parimal
राजकुमारी
राजकुमारी
Johnny Ahmed 'क़ैस'
लगाव का चिराग बुझता नहीं
लगाव का चिराग बुझता नहीं
Seema gupta,Alwar
मुक्तक
मुक्तक
कृष्णकांत गुर्जर
अपनी धरती कितनी सुन्दर
अपनी धरती कितनी सुन्दर
Buddha Prakash
धारण कर सत् कोयल के गुण
धारण कर सत् कोयल के गुण
Pt. Brajesh Kumar Nayak
दिल ए तकलीफ़
दिल ए तकलीफ़
Dr fauzia Naseem shad
इश्क पहली दफा
इश्क पहली दफा
साहित्य गौरव
■ हाइकू पर हाइकू।।
■ हाइकू पर हाइकू।।
*प्रणय प्रभात*
हिसाब हुआ जब संपत्ति का मैंने अपने हिस्से में किताबें मांग ल
हिसाब हुआ जब संपत्ति का मैंने अपने हिस्से में किताबें मांग ल
Lokesh Sharma
The Magical Darkness
The Magical Darkness
Manisha Manjari
जिंदगी में दो ही लम्हे,
जिंदगी में दो ही लम्हे,
Prof Neelam Sangwan
हर दिन के सूर्योदय में
हर दिन के सूर्योदय में
Sangeeta Beniwal
शब्द भावों को सहेजें शारदे माँ ज्ञान दो।
शब्द भावों को सहेजें शारदे माँ ज्ञान दो।
Neelam Sharma
आम आदमी की दास्ताँ
आम आदमी की दास्ताँ
Dr. Man Mohan Krishna
2529.पूर्णिका
2529.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जिसका मिज़ाज़ सच में, हर एक से जुदा है,
जिसका मिज़ाज़ सच में, हर एक से जुदा है,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
Yaade tumhari satane lagi h
Yaade tumhari satane lagi h
Kumar lalit
नग मंजुल मन मन भावे🌺🪵☘️🍁🪴
नग मंजुल मन मन भावे🌺🪵☘️🍁🪴
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
सरस्वती वंदना
सरस्वती वंदना
MEENU SHARMA
सदद्विचार
सदद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
ये घड़ी की टिक-टिक को मामूली ना समझो साहब
ये घड़ी की टिक-टिक को मामूली ना समझो साहब
शेखर सिंह
एक मुलाकात अजनबी से
एक मुलाकात अजनबी से
Mahender Singh
ज़िंदगी के सौदागर
ज़िंदगी के सौदागर
Shyam Sundar Subramanian
जल प्रदूषित थल प्रदूषित वायु के दूषित चरण ( मुक्तक)
जल प्रदूषित थल प्रदूषित वायु के दूषित चरण ( मुक्तक)
Ravi Prakash
जय महादेव
जय महादेव
Shaily
निर्माण विध्वंस तुम्हारे हाथ
निर्माण विध्वंस तुम्हारे हाथ
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
मंज़र
मंज़र
अखिलेश 'अखिल'
"अच्छे इंसान"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...