Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Jul 2016 · 1 min read

**** नमन करगिल के वीरों को *****

**** नमन करगिल के वीरों को *****
करगिल के वीर जवानें का , दिल से अभिनंदन करते हैं,
जान हथेली पर रखकर जो , कभी नहीं क्रन्दन करते हैं,
हर-हर बम-बम बोल जिन्होंने , कहर शत्रु पर बरपाया था,
भारत माँ के उन बेटों का, सच्चे मन वंदन करते हैं ।
******* सुरेशपाल वर्मा जसाला

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 402 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हे राघव अभिनन्दन है
हे राघव अभिनन्दन है
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
2607.पूर्णिका
2607.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ग़ज़ल/नज़्म - फितरत-ए-इंसा...आज़ कोई सामान बिक गया नाम बन के
ग़ज़ल/नज़्म - फितरत-ए-इंसा...आज़ कोई सामान बिक गया नाम बन के
अनिल कुमार
"सुस्त होती जिंदगी"
Dr Meenu Poonia
अहमियत
अहमियत
Dr fauzia Naseem shad
सब कुछ हमारा हमी को पता है
सब कुछ हमारा हमी को पता है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
तुम क्या चाहते हो
तुम क्या चाहते हो
gurudeenverma198
रक्षा है उस मूल्य की,
रक्षा है उस मूल्य की,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
साझ
साझ
Bodhisatva kastooriya
जय माता दी -
जय माता दी -
Raju Gajbhiye
#प्रभात_वंदन
#प्रभात_वंदन
*Author प्रणय प्रभात*
खेत खलिहनवा पसिनवा चुवाइ के सगिरिउ सिन्वर् लाहराइ ला हो भैया
खेत खलिहनवा पसिनवा चुवाइ के सगिरिउ सिन्वर् लाहराइ ला हो भैया
Rituraj shivem verma
*राज दिल के वो हम से छिपाते रहे*
*राज दिल के वो हम से छिपाते रहे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
ऐ भाई - दीपक नीलपदम्
ऐ भाई - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
हाल-ए-दिल जब छुपा कर रखा, जाने कैसे तब खामोशी भी ये सुन जाती है, और दर्द लिए कराहे तो, चीखों को अनसुना कर मुँह फेर जाती है।
हाल-ए-दिल जब छुपा कर रखा, जाने कैसे तब खामोशी भी ये सुन जाती है, और दर्द लिए कराहे तो, चीखों को अनसुना कर मुँह फेर जाती है।
Manisha Manjari
10 Habits of Mentally Strong People
10 Habits of Mentally Strong People
पूर्वार्थ
🌹 वधु बनके🌹
🌹 वधु बनके🌹
सुरेश अजगल्ले"इंद्र"
आंखों की भाषा
आंखों की भाषा
Mukesh Kumar Sonkar
अंजीर बर्फी
अंजीर बर्फी
Ms.Ankit Halke jha
इंसानियत का कोई मजहब नहीं होता।
इंसानियत का कोई मजहब नहीं होता।
Rj Anand Prajapati
सुना है सपनों की हाट लगी है , चलो कोई उम्मीद खरीदें,
सुना है सपनों की हाट लगी है , चलो कोई उम्मीद खरीदें,
Manju sagar
बड़े इत्मीनान से सो रहे हो,
बड़े इत्मीनान से सो रहे हो,
Buddha Prakash
पप्पू कौन?
पप्पू कौन?
Shekhar Chandra Mitra
विषय--विजयी विश्व तिरंगा
विषय--विजयी विश्व तिरंगा
रेखा कापसे
दाना
दाना
Satish Srijan
किंकर्तव्यविमुढ़
किंकर्तव्यविमुढ़
पूनम झा 'प्रथमा'
*सजती हाथों में हिना, मना तीज-त्यौहार (कुंडलिया)*
*सजती हाथों में हिना, मना तीज-त्यौहार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
कर्म से विश्वाश जन्म लेता है,
कर्म से विश्वाश जन्म लेता है,
Sanjay ' शून्य'
राम लला की हो गई,
राम लला की हो गई,
sushil sarna
शुद्धता का नया पाठ / MUSAFIR BAITHA
शुद्धता का नया पाठ / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
Loading...