Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jul 2023 · 1 min read

नन्हीं परी आई है

नन्हीं परी आई है, सबके मन को भाई है।

मां बाप की गोद में फूल सी बच्ची आई है।

देख कर सबकी ओर वो कैसे मुस्काई है।

चेहरे पर उसके कितनी मासूमियत छाई है।

उसके आने से परिवार में ढेरों खुशियां आई है।

चहक उठी आज हमारी सारी अंगनाई है।

चांद की चांदनी उसके चेहरे पर छाई है।

फूलों सा मुखड़ा लिए बिटिया हमारी आई है।

नन्हीं परी आई है, नन्हीं परी आई है।

✍️ मुकेश कुमार सोनकर “सोनकर जी”
रायपुर,छत्तीसगढ़ मो.नं.9827597473

1 Like · 249 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वर्दी
वर्दी
Satish Srijan
19, स्वतंत्रता दिवस
19, स्वतंत्रता दिवस
Dr Shweta sood
दोस्ती अच्छी हो तो रंग लाती है
दोस्ती अच्छी हो तो रंग लाती है
Swati
I KNOW ...
I KNOW ...
SURYA PRAKASH SHARMA
मेरा एक छोटा सा सपना है ।
मेरा एक छोटा सा सपना है ।
PRATIK JANGID
अर्धांगिनी
अर्धांगिनी
VINOD CHAUHAN
मनुष्य जीवन - एक अनसुलझा यक्ष प्रश्न
मनुष्य जीवन - एक अनसुलझा यक्ष प्रश्न
Shyam Sundar Subramanian
ज़माना इश्क़ की चादर संभारने आया ।
ज़माना इश्क़ की चादर संभारने आया ।
Phool gufran
3299.*पूर्णिका*
3299.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बाल कविता: तितली रानी चली विद्यालय
बाल कविता: तितली रानी चली विद्यालय
Rajesh Kumar Arjun
मुहब्बत ने मुहब्बत से सदाक़त सीख ली प्रीतम
मुहब्बत ने मुहब्बत से सदाक़त सीख ली प्रीतम
आर.एस. 'प्रीतम'
रात बीती चांदनी भी अब विदाई ले रही है।
रात बीती चांदनी भी अब विदाई ले रही है।
surenderpal vaidya
काली स्याही के अनेक रंग....!!!!!
काली स्याही के अनेक रंग....!!!!!
Jyoti Khari
*आंतरिक ऊर्जा*
*आंतरिक ऊर्जा*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Rebel
Rebel
Shekhar Chandra Mitra
Empty pocket
Empty pocket
Bidyadhar Mantry
इक रोज़ हम भी रुखसत हों जाएंगे,
इक रोज़ हम भी रुखसत हों जाएंगे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
एक दिन की बात बड़ी
एक दिन की बात बड़ी
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
शीर्षक - सोच और उम्र
शीर्षक - सोच और उम्र
Neeraj Agarwal
राम के नाम की ताकत
राम के नाम की ताकत
Meera Thakur
शिक्षक हूँ  शिक्षक ही रहूँगा
शिक्षक हूँ शिक्षक ही रहूँगा
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
अपने कार्यों में अगर आप बार बार असफल नहीं हो रहे हैं तो इसका
अपने कार्यों में अगर आप बार बार असफल नहीं हो रहे हैं तो इसका
Paras Nath Jha
ਹਾਸਿਆਂ ਵਿਚ ਲੁਕੇ ਦਰਦ
ਹਾਸਿਆਂ ਵਿਚ ਲੁਕੇ ਦਰਦ
Surinder blackpen
आँशु उसी के सामने बहाना जो आँशु का दर्द समझ सके
आँशु उसी के सामने बहाना जो आँशु का दर्द समझ सके
Rituraj shivem verma
*तन पर करिएगा नहीं, थोड़ा भी अभिमान( नौ दोहे )*
*तन पर करिएगा नहीं, थोड़ा भी अभिमान( नौ दोहे )*
Ravi Prakash
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Dr Archana Gupta
#तेवरी / #देसी_ग़ज़ल
#तेवरी / #देसी_ग़ज़ल
*प्रणय प्रभात*
"मकर संक्रान्ति"
Dr. Kishan tandon kranti
बिछड़कर मुझे
बिछड़कर मुझे
Dr fauzia Naseem shad
याचना
याचना
Suryakant Dwivedi
Loading...