Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jul 2016 · 3 min read

नदी के दो किनारे (लघु कथा)

जीवन संध्या में दोनों एक दूसरे के लिए नदी की धारा
थे। जब एक बिस्तर में जिन्दगी की सांसे गिनता है तो दूसरा उसको
सम्बल प्रदान करता है, जीवन की आस दिलाता है।
दोनों जानते थे
कि जीवन का अन्त निश्चित है, फिर भी जीवन की चाह दोनों में
है। होती भी क्यों न हो, जीवन के आरम्भ से दोनों के लिए
एक मित्र, सहपाठी और जीवनसाथी एवं बहुत कुछ थे।
बचपन में एक
दूसरे के साथ खेलना, आँख मिचौली खेलना, हाथ में हाथ
लेकर दौड़ लगाना आदि खेलों ने जीवन में खूब आनन्द
घोला। धूप-छाँव की तरह साथ-साथ समय बिताते थे। माँ
चिल्लाती कहाँ गया छोरे! तो रामू चिल्ला जवाब देता था आया
माँ! फिर अन्तराल पश्चात माँ ने आकर देखा कि रामू और उसकी
बालिका सहचारी सीतू आम की बड़ी डाली पर बैठे-बैठे आम
खाते-खाते बतिया रहे हैं, फुदकते हुए नज़र आते हैं।
स्कूली दिनों में बस्ता लादकर दोनों भाग रहे होते
थे। सीतू जब भागते हुए थक जाती थी तो रामू उसका बस्ता ले
हाथ पकड़ उसे अपने साथ दौड़ा रहा होता था। तभी से सीतू
के लिए वह जीवन साथी, पति परमेश्वर सब कुछ था। एकबार सीतू ने रोते
हुए कहा-हाथ पकड़कर जो तुम स्कूल ले जाते हो, इसे ऐसे ही
पकड़े रहना कह कर सीतू राम की छाती से लिपट उसके कपोल पर चुम्बन
लेती लिपट भावविभोर हो गयी। रामू के गम्भीर चेहरे पर बस एक
स्वीकारोक्ति होती थी। होती भी क्यों न रामू प्यार करने
लगा था। उसे अपनी अर्द्धागिंनी मानने लगा था।जवानी
उनमे घर करने लगी थी।
तो जमाने की दीवार बीच में थी, समाज
में स्वीकार न था उसका रिश्ता पर जहाँ चाह होती है वहाँ राह
होती है। दोनों ने भागकर ब्याह किया और घर छोड़ दिया।
उतार-चढ़ाव आए मगर दोनों ने एक-दूसरे का हाथ कसकर जो
पकड़ रखा था।
रामू दिन भर मालिक के यहाँ रहता वहीं खाता बना हिसाब लगाता था तो सीतू घर का सारा काम करती थी,शाम घर के चौक पर
बैठी रामू के आने की राह तका करती थी, कितना स्नेह था उसके
तकने में जो आज भी दोनों को स्थिर रूप से बाँधे था।
आज जब रामू निसहाय बिस्तर में था, याद कर रहा है सीतू उसके
पास समीप बैठी उसको अपने आँचल का सम्बल प्रदान कर रही है और
रामू एक टक लेटा जैसा आकाश के तारे गिन रहा हो। शरीर साथ
नहीं दे रहा था, साँसे उखड़ रही थी, देखते-देखते कुछ भी
शेष न रहेगा। ऐसा लग रहा था सीतू को। सीतू के पास अब और
कोई जीवन जीने का सहारा न था केवल रामू के। अतः सीतू यह
सोचकर की राम ठीक हो जाए हर सम्भव प्रयास कर रही थी, नीम हकीम से
लेकर डॉक्टर्स के घर तक दस्तक दे, मन्दिर, मस्ज़िदों में माथा
टेक आयी थी, संसार भी कितना निष्ठुर है। एक के रूठने पर दूसरा
स्वयं रूठ जाता है, लेकिन सीतू की निष्ठा पति परायणता एवं पत्नी धर्म
ने इस निष्ठुरता पर विजय पा ली थी।
सीतू और राजू एक
नदी के किनारे थे फिर से एक दूसरे के साथ थे।
सीतू को एक स्त्रियोंचित्त लक्षण प्रदान करने की कोशिश
थी, माँ कहती थी खाना अच्छा बनाना पड़ोसी ज़मीदार और
उनका बेटा तेरा रिश्ता जोड़ने आने को हैं। साड़ी उल्टे
पल्ले की पहन खाना अच्छा खिलाना। सीतू को ये बातें माँ की एक कटोक्ति मात्र लगती थी। रामू जो उसका हो चुका था। प्रेम भी
अजीब चीज है वह राजू की चुम्बनें लेती ऐसी प्रेम डोर में
बंधी चली जा रही थी। जिसका कोई छोर न था।
सीतू और रामू आलिंगनबद्ध थे ।एक दूसरे का स्पर्श करते हुए भावविह्वल है। देखकर ऐसा लगता था
मानो खुदा ने प्रेम को इन्हीं दोनों के रूप में जीवित रखा
है।

डॉ० मधु त्रिवेदी
प्राचार्य
शान्ति निकेतन कॉलेज ऑफ बिज़नेस
मैनेजमेन्ट एण्ड कम्प्यूटर साइन्स आगरा।

Language: Hindi
73 Likes · 5 Comments · 792 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR.MDHU TRIVEDI
View all
You may also like:
जीवन में ईमानदारी, सहजता और सकारात्मक विचार कभीं मत छोड़िए य
जीवन में ईमानदारी, सहजता और सकारात्मक विचार कभीं मत छोड़िए य
Damodar Virmal | दामोदर विरमाल
क्या कहना हिन्दी भाषा का
क्या कहना हिन्दी भाषा का
shabina. Naaz
"तुम्हें याद करना"
Dr. Kishan tandon kranti
देश का दुर्भाग्य
देश का दुर्भाग्य
Shekhar Chandra Mitra
तुम्हारी छवि...
तुम्हारी छवि...
उमर त्रिपाठी
भर गया होगा
भर गया होगा
Dr fauzia Naseem shad
फिर हो गया सबेरा,सारी रात खत्म,
फिर हो गया सबेरा,सारी रात खत्म,
Vishal babu (vishu)
चले हैं छोटे बच्चे
चले हैं छोटे बच्चे
कवि दीपक बवेजा
2282.पूर्णिका
2282.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
रार बढ़े तकरार हो,
रार बढ़े तकरार हो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
विरही
विरही
लक्ष्मी सिंह
कौन ?
कौन ?
साहिल
संघर्ष से‌ लड़ती
संघर्ष से‌ लड़ती
Arti Bhadauria
■ आज की बात...
■ आज की बात...
*Author प्रणय प्रभात*
खुद से ही बातें कर लेता हूं , तुम्हारी
खुद से ही बातें कर लेता हूं , तुम्हारी
श्याम सिंह बिष्ट
नादान प्रेम
नादान प्रेम
Anil "Aadarsh"
हमारे हाथ से एक सबक:
हमारे हाथ से एक सबक:
पूर्वार्थ
फिर क्यूँ मुझे?
फिर क्यूँ मुझे?
Pratibha Pandey
अक्स आंखों में तेरी है प्यार है जज्बात में। हर तरफ है जिक्र में तू,हर ज़ुबां की बात में।
अक्स आंखों में तेरी है प्यार है जज्बात में। हर तरफ है जिक्र में तू,हर ज़ुबां की बात में।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ६)
सुनो पहाड़ की.....!!! (भाग - ६)
Kanchan Khanna
साहिल समंदर के तट पर खड़ी हूँ,
साहिल समंदर के तट पर खड़ी हूँ,
Sahil Ahmad
निज़ाम
निज़ाम
अखिलेश 'अखिल'
प्यार की बात है कैसे कहूं तुम्हें
प्यार की बात है कैसे कहूं तुम्हें
Er. Sanjay Shrivastava
हमेशा गिरगिट माहौल देखकर रंग बदलता है
हमेशा गिरगिट माहौल देखकर रंग बदलता है
शेखर सिंह
कुछ लोग बहुत पास थे,अच्छे नहीं लगे,,
कुछ लोग बहुत पास थे,अच्छे नहीं लगे,,
Shweta Soni
चंदा तुम मेरे घर आना
चंदा तुम मेरे घर आना
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
*शाही दरवाजों की उपयोगिता (हास्य व्यंग्य)*
*शाही दरवाजों की उपयोगिता (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
तूं ऐसे बर्ताव करोगी यें आशा न थी
तूं ऐसे बर्ताव करोगी यें आशा न थी
Keshav kishor Kumar
"A Dance of Desires"
Manisha Manjari
खाली मन...... एक सच
खाली मन...... एक सच
Neeraj Agarwal
Loading...