Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Jan 2024 · 1 min read

नता गोता

नता गोता
**********
रचनाकार,, डॉ विजय कुमार कन्नौजे छत्तीसगढ़ रायपुर आरंग अमोदी
*****************************

नता गोता रिस्तादारी ल
मरत ले निभावन ।
गांव बसेरू,दाई दीदी के
गोड़ घलो पखारन।।

का दिन आगे संगवारी
कलजुग है करावत हे।
सग बहिनी बेटी घलो ल
एक नइ पहिचानत हे।।

गांव घर बेटी माई ला
देवय जी सब सम्मान ।
सग भाई बहिनी कस
राखय गांव भर मान।।

मिल जुल के परिवार बन
दुख सुख मा देवय साथ।
का समय आगे संगवारी
अब बेटा चइनहय न बाप।।

तलब सितार आशिकी खजाना
रंग रंग के नशा हर आगे।
नान नान छोकरा पिला मन
दारू गांजा घलो मा समागे।।

बलात्कार छेड़छाड़ मारपीट
अब बुद्धि हा हजागे।
अड़हा जमाना के सुघ्घर मया
अब नरवा में बोहागे।।
===================

Language: Hindi
54 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
** अरमान से पहले **
** अरमान से पहले **
surenderpal vaidya
3034.*पूर्णिका*
3034.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बाल कविता: हाथी की दावत
बाल कविता: हाथी की दावत
Rajesh Kumar Arjun
“दुमका संस्मरण 3” ट्रांसपोर्ट सेवा (1965)
“दुमका संस्मरण 3” ट्रांसपोर्ट सेवा (1965)
DrLakshman Jha Parimal
■ #गीत :-
■ #गीत :-
*Author प्रणय प्रभात*
"असर"
Dr. Kishan tandon kranti
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*** आकांक्षा : एक पल्लवित मन...! ***
*** आकांक्षा : एक पल्लवित मन...! ***
VEDANTA PATEL
अपने जमीर का कभी हम सौदा नही करेगे
अपने जमीर का कभी हम सौदा नही करेगे
shabina. Naaz
आदर्श
आदर्श
Bodhisatva kastooriya
हाथ में कलम और मन में ख्याल
हाथ में कलम और मन में ख्याल
Sonu sugandh
पैर धरा पर हो, मगर नजर आसमां पर भी रखना।
पैर धरा पर हो, मगर नजर आसमां पर भी रखना।
Seema gupta,Alwar
खुदा ने ये कैसा खेल रचाया है ,
खुदा ने ये कैसा खेल रचाया है ,
Sukoon
हमने क्या खोया
हमने क्या खोया
Dr fauzia Naseem shad
हौसला अगर बुलंद हो
हौसला अगर बुलंद हो
Paras Nath Jha
आसमानों को छूने की चाह में निकले थे
आसमानों को छूने की चाह में निकले थे
कवि दीपक बवेजा
ओ मां के जाये वीर मेरे...
ओ मां के जाये वीर मेरे...
Sunil Suman
मेरा गांव
मेरा गांव
Anil "Aadarsh"
मायके से लौटा मन
मायके से लौटा मन
Shweta Soni
तेवरीः शिल्प-गत विशेषताएं +रमेशराज
तेवरीः शिल्प-गत विशेषताएं +रमेशराज
कवि रमेशराज
दीवाली
दीवाली
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
दोस्ती
दोस्ती
Kanchan Alok Malu
प्यार करें भी तो किससे, हर जज़्बात में खलइश है।
प्यार करें भी तो किससे, हर जज़्बात में खलइश है।
manjula chauhan
........,!
........,!
शेखर सिंह
*25_दिसंबर_1982: : प्रथम पुस्तक
*25_दिसंबर_1982: : प्रथम पुस्तक "ट्रस्टीशिप-विचार" का विमोचन
Ravi Prakash
"नवरात्रि पर्व"
Pushpraj Anant
23, मायके की याद
23, मायके की याद
Dr Shweta sood
एक गलत निर्णय हमारे वजूद को
एक गलत निर्णय हमारे वजूद को
Anil Mishra Prahari
टिमटिमाता समूह
टिमटिमाता समूह
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
प्रकृति की गोद खेल रहे हैं प्राणी
प्रकृति की गोद खेल रहे हैं प्राणी
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...