Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Oct 2023 · 2 min read

नज़्म

वही एक दुःख भरी शायरी,
जिसे सुनाकर रोते थे तुम।
जिसको सुनकर रोते थे हम।
बहुत दिनों से सुनी नहीं है
नहीं! आँख में नमी नहीं है
तुम्हें याद है! तुमने आखिर
कब मुझसे “वो नज़्म” कही थी ?
वही नज़्म, जिसमें कहता है
शायर, “कुन ही काफी नई!
देखभाल भी कर बंदों की।”
या फिर गीत “भरत भूषण” का,
जिसमेें “बाँह चाह का अंतर”
आँख तुम्हारी भर देता था।
और, “अमृता की वो कविता
जिसमें फिर मिलने का दावा…”
कैनवास पर किसी रेख सी,
मेरे मन में खींची हुई है।

लगभग समसामायिक शायर
तुमको ऐसे रटे हुए थे,
जैसे कोयल, “पंचम सरगम।”
“शिव बटालवी” का इंटरव्यू,
हमने कितनी बार सुना था!
तुम्हें याद है ?
आँखें मूंदे, वो ऊँचा स्वर!
“रंगा दा हि नां तस्वीरा है।”
वो भोला चेहरा, मेरा कहना-
“शिव मेरे प्रेमी होते, यदि
तब होती मैं, या अब होते वो।”
और तुम्हारा हँसकर कहना,
“मैं ही शिव हूँ! पुनर्जनम है।”
तुम्हें याद है ?

देर रात “चकमक, “सारंगा” प्रेम कहानी
तुमने मुझे सुनाकर बारिश करवाई थी।
मन भीगा था
“धर्मवीर के चंदन” से, हम “ओशो” तक
कैसे जाते थे, तुम्हें याद है ?
“कितना आत्ममुग्ध रहती हो!”
तुम, मुझसे अक्सर कहते थे।
और कभी हम दोनों
मिलकर अपनी ही कमियाँ गिनते थे।
वो सब कितना सहज सुखद था
बोलो! था न ?

ये सब जो मैं याद कर रही,
याद तुम्हें भी आता होगा !
देर रात मेरे नंबर पर,
ध्यान तुम्हारा जाता होगा!
गर, हाँ! तो फिर फोन लगाओ।
अब भी रात जागती हूँ मैं।
तुम ही छलके हो आँखों से,
जब भी, कुछ भी पढ़ती हूँ मैं।
तुम कहते थे “दवा किताबें।”
मैं कहती “संवाद शहद हैं।”
तुम्हें याद है ?

अब, टेबल पर कई किताबें,
और जुबान पर कड़वापन है।
कहने को हम अलग हो गए,
मन में कितना अपनापन है।
अब तो देर रात मैं अक्सर,
“मैं” से “तुम” भी हो जाती हूँ।
खुद ही खुद को सुन लेती हूँ।
खुद ही खुद से बतियाती हूँ।
इस एकल अभिनय नाटक का
यूँ तो अंत सुखद रहता है।
लेकिन खुद से संवादों में,
उतना शहद नहीं मिलता है।
यूँ तो हम अब एक नहीं है।
दुनिया हमको को दो गिनती है।
जिसे दिया है सबने मिलकर,
इक तस्वीर साथ रहती है।
वो तस्वीर बदन छूती है,
मैं भी केवल तन होती हूँ।
रात गए रौशनी ढले जब,
तब उसके रंग छुप जाते हैं।
और मेरी आँखों के भीतर,
रंग तुम्हारे मुस्काते हैं।
उस पल तुमको दोहराती हूँ,
फिर मैं कविता हो जाती हूँ।

सोच रहीं हूँ, अहम छोड़कर
तुमको अगर मना पाती, तो ?
सोच रहीं हूँ, वहम छोड़कर
यदि तुम मुझको सुन लेते, तो ?
क्या तुम भी ये सोच रहे हो ?
क्या अब भी हूँ याद तुम्हें मैं…. ?

वही एक दुःख भरी कहानी…..!
शिवा अवस्थी

1 Like · 115 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मयस्सर नहीं अदब..
मयस्सर नहीं अदब..
Vijay kumar Pandey
बदलाव
बदलाव
Shyam Sundar Subramanian
तुम सात जन्मों की बात करते हो,
तुम सात जन्मों की बात करते हो,
लक्ष्मी सिंह
आयी ऋतु बसंत की
आयी ऋतु बसंत की
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
आए गए महान
आए गए महान
Dr MusafiR BaithA
मेरा प्यारा भाई
मेरा प्यारा भाई
Neeraj Agarwal
👍👍👍
👍👍👍
*Author प्रणय प्रभात*
 मैं गोलोक का वासी कृष्ण
 मैं गोलोक का वासी कृष्ण
Pooja Singh
अब तुझे रोने न दूँगा।
अब तुझे रोने न दूँगा।
Anil Mishra Prahari
पुश्तैनी दौलत
पुश्तैनी दौलत
Satish Srijan
" मटको चिड़िया "
Dr Meenu Poonia
2720.*पूर्णिका*
2720.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
14, मायका
14, मायका
Dr Shweta sood
"New year की बधाई "
Yogendra Chaturwedi
एक महिला तब ज्यादा रोती है जब उसके परिवार में कोई बाधा या फि
एक महिला तब ज्यादा रोती है जब उसके परिवार में कोई बाधा या फि
Rj Anand Prajapati
खूबसूरत लम्हें जियो तो सही
खूबसूरत लम्हें जियो तो सही
Harminder Kaur
खुर्पेची
खुर्पेची
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
"कैसा सवाल है नारी?"
Dr. Kishan tandon kranti
तूफ़ान और मांझी
तूफ़ान और मांझी
DESH RAJ
मेरी पहली चाहत था तू
मेरी पहली चाहत था तू
Dr Manju Saini
💐अज्ञात के प्रति-95💐
💐अज्ञात के प्रति-95💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
जीत से बातचीत
जीत से बातचीत
Sandeep Pande
कभी ना अपने लिए जीया मैं…..
कभी ना अपने लिए जीया मैं…..
AVINASH (Avi...) MEHRA
*धन्य-धन्य वे वीर, लक्ष्य जिनका आजादी* *(कुंडलिया)*
*धन्य-धन्य वे वीर, लक्ष्य जिनका आजादी* *(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
स्वाधीनता के घाम से।
स्वाधीनता के घाम से।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
हजार आंधियां आये
हजार आंधियां आये
shabina. Naaz
हम कुर्वतों में कब तक दिल बहलाते
हम कुर्वतों में कब तक दिल बहलाते
AmanTv Editor In Chief
आदमी सा आदमी_ ये आदमी नही
आदमी सा आदमी_ ये आदमी नही
कृष्णकांत गुर्जर
तेरे संग ये जिंदगी बिताने का इरादा था।
तेरे संग ये जिंदगी बिताने का इरादा था।
Surinder blackpen
Loading...