Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Jun 2023 · 1 min read

नज़्म/गीत – वो मधुशाला, अब कहाँ

वो यारों के जत्थे साकियों की अठखेलियाँ,
वो मयकशों की अदब वो उनका अपना जहाँ,
वो प्यालों में महबूब को नजर आते यार के निशाँ,
वो अमन चैन की होती बातें वो फिक्र-ए-गुलिस्ताँ,
वो मयखानों के पैमानों से छलकती मदहोशियाँ,
वो बुजुर्गों को भी जो सदा रखती थी जवाँ,
मैं खोजता हूँ उसे वो मधुशाला है अब कहाँ ?

जहाँ हों रातों ही रौनक चलें मयकशों के तमाशे,
जहाँ ना जातियों के बन्धन ना हों धर्मों के काँटें,
जहाँ ना हो गुफ्तगू ऐसी जो आपस को ही बाँटें,
जिनकी हों जेबें खाली जाम-ए-सहबा उनको भी मिले,
होकर मदमस्त मयकश जब सूनी राहों से गुजरें,
जहाँ सताए ना डर कोई ना पड़े जानों के लाले,
ऐसी मधुशाला ओ रब्बा तू इस जग में बना दे,
वो मयकशों के ठाठ तू फ़िर से सबको दिखा दे।

(सहबा = वाइन)

©✍️ स्वरचित
अनिल कुमार ‘अनिल’
9783597507
9950538427
anilk1604@gmail.com

1 Like · 150 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from अनिल कुमार
View all
You may also like:
سب کو عید مبارک ہو،
سب کو عید مبارک ہو،
DrLakshman Jha Parimal
*बीजेपी समर्थक सामांतर ब्रह्मांड में*🪐✨
*बीजेपी समर्थक सामांतर ब्रह्मांड में*🪐✨
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
बताओगे कैसे, जताओगे कैसे
बताओगे कैसे, जताओगे कैसे
Shweta Soni
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
अभी भी बहुत समय पड़ा है,
अभी भी बहुत समय पड़ा है,
शेखर सिंह
"किस बात का गुमान"
Ekta chitrangini
अपनी तस्वीरों पर बस ईमोजी लगाना सीखा अबतक
अपनी तस्वीरों पर बस ईमोजी लगाना सीखा अबतक
ruby kumari
विज्ञापन
विज्ञापन
Dr. Kishan tandon kranti
मेरे जिंदगी के मालिक
मेरे जिंदगी के मालिक
Basant Bhagawan Roy
थूंक पॉलिस
थूंक पॉलिस
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दो जून की रोटी
दो जून की रोटी
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
मेरे सजदे
मेरे सजदे
Dr fauzia Naseem shad
(16) आज़ादी पर
(16) आज़ादी पर
Kishore Nigam
Orange 🍊 cat
Orange 🍊 cat
Otteri Selvakumar
मधुमास में बृंदावन
मधुमास में बृंदावन
Anamika Tiwari 'annpurna '
राज जिन बातों में था उनका राज ही रहने दिया
राज जिन बातों में था उनका राज ही रहने दिया
कवि दीपक बवेजा
अफसोस मुझको भी बदलना पड़ा जमाने के साथ
अफसोस मुझको भी बदलना पड़ा जमाने के साथ
gurudeenverma198
मन
मन
Sûrëkhâ
■ नि:शुल्क सलाह।।😊
■ नि:शुल्क सलाह।।😊
*प्रणय प्रभात*
मुफलिसों को जो भी हॅंसा पाया।
मुफलिसों को जो भी हॅंसा पाया।
सत्य कुमार प्रेमी
जो दिखता है नहीं सच वो हटा परदा ज़रा देखो
जो दिखता है नहीं सच वो हटा परदा ज़रा देखो
आर.एस. 'प्रीतम'
"स्वप्न".........
Kailash singh
रात क्या है?
रात क्या है?
Astuti Kumari
#मायका #
#मायका #
rubichetanshukla 781
तात
तात
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
*Max Towers in Sector 16B, Noida: A Premier Business Hub 9899920149*
*Max Towers in Sector 16B, Noida: A Premier Business Hub 9899920149*
Juhi Sulemani
हमको इतनी आस बहुत है
हमको इतनी आस बहुत है
Dr. Alpana Suhasini
प्रतिशोध
प्रतिशोध
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
*हिंदी की बिंदी भी रखती है गजब का दम 💪🏻*
*हिंदी की बिंदी भी रखती है गजब का दम 💪🏻*
Radhakishan R. Mundhra
आए हैं रामजी
आए हैं रामजी
SURYA PRAKASH SHARMA
Loading...