Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Nov 2023 · 1 min read

नज़र मिला के क्या नजरें झुका लिया तूने।

नज़र मिला के क्या नजरें झुका लिया तूने।
हसरतें फिर से सर उठाने लगीं।।
दिल मचलने लगा है जाने क्यूँ।
धड़कने फिर से गुनगुनाने लगीं।।
“कश्यप”

3 Likes · 151 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दिखावा
दिखावा
Swami Ganganiya
"संवाद"
Dr. Kishan tandon kranti
जब घर से दूर गया था,
जब घर से दूर गया था,
भवेश
मुझे न कुछ कहना है
मुझे न कुछ कहना है
प्रेमदास वसु सुरेखा
💐प्रेम कौतुक-376💐
💐प्रेम कौतुक-376💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सवालात कितने हैं
सवालात कितने हैं
Dr fauzia Naseem shad
🌷साथ देते है कौन यहाँ 🌷
🌷साथ देते है कौन यहाँ 🌷
Dr.Khedu Bharti
कुछ दिन से हम दोनों मे क्यों? रहती अनबन जैसी है।
कुछ दिन से हम दोनों मे क्यों? रहती अनबन जैसी है।
अभिनव अदम्य
निरंतर खूब चलना है
निरंतर खूब चलना है
surenderpal vaidya
वो इश्क जो कभी किसी ने न किया होगा
वो इश्क जो कभी किसी ने न किया होगा
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
क्यूँ ख़ामोशी पसरी है
क्यूँ ख़ामोशी पसरी है
हिमांशु Kulshrestha
अपराह्न का अंशुमान
अपराह्न का अंशुमान
Satish Srijan
प्रेम
प्रेम
पंकज कुमार कर्ण
राखी (कुण्डलिया)
राखी (कुण्डलिया)
नाथ सोनांचली
😊#लघु_व्यंग्य
😊#लघु_व्यंग्य
*Author प्रणय प्रभात*
आलसी व्यक्ति
आलसी व्यक्ति
Paras Nath Jha
सुन्दर सलोनी
सुन्दर सलोनी
जय लगन कुमार हैप्पी
हक हैं हमें भी कहने दो
हक हैं हमें भी कहने दो
SHAMA PARVEEN
और भी हैं !!
और भी हैं !!
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
माँ सरस्वती-वंदना
माँ सरस्वती-वंदना
Kanchan Khanna
मातृभाषा
मातृभाषा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
*घूम रहे जो रिश्वत लेकर, अपना काम कराने को (हिंदी गजल)*
*घूम रहे जो रिश्वत लेकर, अपना काम कराने को (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
बढ़ चुकी दुश्वारियों से
बढ़ चुकी दुश्वारियों से
Rashmi Sanjay
यही बस चाह है छोटी, मिले दो जून की रोटी।
यही बस चाह है छोटी, मिले दो जून की रोटी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
सुनो कभी किसी का दिल ना दुखाना
सुनो कभी किसी का दिल ना दुखाना
shabina. Naaz
गाँव की प्यारी यादों को दिल में सजाया करो,
गाँव की प्यारी यादों को दिल में सजाया करो,
Ranjeet kumar patre
नया भारत
नया भारत
दुष्यन्त 'बाबा'
वो जाने क्या कलाई पर कभी बांधा नहीं है।
वो जाने क्या कलाई पर कभी बांधा नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
जिंदगी तेरी हर अदा कातिलाना है।
जिंदगी तेरी हर अदा कातिलाना है।
Surinder blackpen
Loading...