Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Oct 2022 · 2 min read

नगर विकास राज्यमंत्री श्री महेश गुप्ता की सराहनीय सक्रियता

नगर विकास राज्यमंत्री श्री महेश गुप्ता की सराहनीय सक्रियता
____________________________
आपकी सक्रियता के कारण रामपुर का वातावरण राष्ट्रीय भावनाओं से ओतप्रोत होता जा रहा है। नगर की प्रायः सभी गतिविधियों में आपकी उपस्थिति रहती है। घर- घर जाकर आप नगर के सम्मानित व्यक्तियों के साथ बैठकर चर्चा का आयोजन करते हैं तथा समाज में किस प्रकार की समस्याएं चल रही हैं, उनको समझने तथा उनके निराकरण के लिए प्रयत्नशील रहते हैं।
इसी श्रंखला में नगर के प्रतिष्ठित समाजसेवी तथा सर्राफा व्यवसायी श्री परितोष चाँदीवाला के निवास स्थान कूँचा परमेश्वरी दास, बाजार सर्राफा में दिनांक 11 अक्टूबर 2019 शनिवार को प्रातः 9:30 पर आपकी बैठक हुई ।काफी संख्या में व्यापारी तथा चिंतनशील व्यक्ति उपस्थित हुए। चर्चा में अनौपचारिक रूप से आपसी संवाद स्थापित हुआ । सबकी आत्मीयता महेश गुप्ता जी से बढ़ी।
मैं मुरादाबाद में था। कार्यक्रम में जब मंत्री महोदय पधार चुके थे ,मैं उसके कुछ मिनट बाद पहुँचा । महेश गुप्ता जी ने देखते ही पहचान लिया । सबसे कहने लगे कि “भाई साहब का राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के विजयदशमी उत्सव में अध्यक्षीय संबोधन था । मैं तो समझ रहा था कि अध्यक्षता इस प्रकार के कार्यक्रमों की करने वाले लोग केवल “आपका धन्यवाद ” कहकर बैठ जाएंगे, लेकिन भाई साहब ने तो बड़ा सुंदर संबोधन दिया …मन प्रसन्न हो गया।”…. फिर मुस्कुरा कर यह भी कहा कि मैं केवल आपके मुँह के सामने आपकी प्रशंसा नहीं कर रहा हूं बल्कि आपके पीछे भी आपकी प्रशंसा करूंगा।
मैंने मंत्री जी को सराहना हेतु धन्यवाद दिया । वास्तव में विजयदशमी उत्सव में संघ के सामान्य स्वयंसेवक की भाँति पंक्ति में महेश गुप्ता जी भी पीला कुर्ता पहनकर सामान्य रूप से बैठे हुए थे। पूरे कार्यक्रम में कहीं भी ऐसा आभास नहीं हुआ कि हमारे मध्य कोई मंत्री महोदय विराजमान हैं।संघ की यही तो विशेषता है कि उसका स्वयंसेवक अपने आप को एक सामान्य व्यक्ति के तौर पर ग्रहण करता है तथा अपना श्रेष्ठतम योगदान देने के लिए सदैव आगे रहता है।
श्री परितोष चाँदीवाला जी के निवास पर उपस्थित महानुभावों ने मंत्री महोदय के सामने रामपुर की कुछ समस्याएं रखीं।जिसमें शमशान घाट की ओर जाने वाली सड़क का जीर्णोद्धार करना प्रमुख था। इसके अलावा सर्राफा बाजार में जच्चा बच्चा सेंटर के भीतर शौचालय बनने के बाद भी कई वर्षों से अभी तक चालू नहीं हुआ है, यह समस्या भी रखी गई । सर्राफा बाजार की सड़क खुद अपने आप में उपेक्षित पड़ी हुई है, इस पीड़ा को भी बहुतों ने सामने रखा। मंत्री महोदय ने सब की बातों को ध्यान से सुना। समस्या की गंभीरता को महसूस किया और आश्वासन दिया कि निश्चित रूप से समस्या हल की जाएगी। इसी अवसर पर दर्जा मंत्री श्री सूर्य प्रकाश पाल भी उपस्थित थे ।आपने उसी समय टेलीफोन करके समस्या के निदान के लिए कार्य आरंभ कर दिया तथा मंत्री महोदय की बातचीत भी कराई ।तात्पर्य यह कि समाज के प्रश्नों को हल करने की दिशा में इस प्रकार की अनौपचारिक बैठकें काफी प्रभावी रहती हैं और सरकार का एक अच्छा संदेश समाज में सब के पास जाता है।
“”””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””
लेखक : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर( उत्तर प्रदेश )
मोबाइल 99 97 61 545 1

Language: Hindi
83 Views
Join our official announcements group on Whatsapp & get all the major updates from Sahityapedia directly on Whatsapp.

Books from Ravi Prakash

You may also like:
क्या विरासत में हिस्सा मिलता है
क्या विरासत में हिस्सा मिलता है
Dr fauzia Naseem shad
इन टिमटिमाते तारों का भी अपना एक वजूद होता है
इन टिमटिमाते तारों का भी अपना एक वजूद होता है
ruby kumari
आया है फागुन आया है
आया है फागुन आया है
gurudeenverma198
हर शय¹ की अहमियत होती है अपनी-अपनी जगह
हर शय¹ की अहमियत होती है अपनी-अपनी जगह
_सुलेखा.
कोई पत्ता कब खुशी से अपनी पेड़ से अलग हुआ है
कोई पत्ता कब खुशी से अपनी पेड़ से अलग हुआ है
कवि दीपक बवेजा
गुलाब-से नयन तुम्हारे
गुलाब-से नयन तुम्हारे
परमार प्रकाश
तुम याद आ रहे हो।
तुम याद आ रहे हो।
Taj Mohammad
सुहाग रात
सुहाग रात
Ram Krishan Rastogi
💐प्रेम कौतुक-281💐
💐प्रेम कौतुक-281💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*चिपकाते पोस्टर दिखे, दल-प्रत्याशी-लोग (कुंडलिया)*
*चिपकाते पोस्टर दिखे, दल-प्रत्याशी-लोग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
'लक्ष्य-1'
'लक्ष्य-1'
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
मेरी बात अलग
मेरी बात अलग
Surinder blackpen
जीवन का अंत है, पर संभावनाएं अनंत हैं
जीवन का अंत है, पर संभावनाएं अनंत हैं
Pankaj Sen
निर्मोही
निर्मोही
Shekhar Chandra Mitra
Today i am thinker
Today i am thinker
Ms.Ankit Halke jha
mujhe needno se jagaya tha tumne
mujhe needno se jagaya tha tumne
Anand.sharma
चिड़िया की बस्ती
चिड़िया की बस्ती
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
उम्मीद
उम्मीद
अभिषेक पाण्डेय ‘अभि ’
मुझे आशीष दो, माँ
मुझे आशीष दो, माँ
gpoddarmkg
चलो मतदान कर आएँ, निभाएँ फर्ज हम अपना।
चलो मतदान कर आएँ, निभाएँ फर्ज हम अपना।
डॉ.सीमा अग्रवाल
ठोकर भी बहुत जरूरी है
ठोकर भी बहुत जरूरी है
Anil Mishra Prahari
आदमी की गाथा
आदमी की गाथा
कृष्ण मलिक अम्बाला
पिता बनाम बाप
पिता बनाम बाप
Sandeep Pande
Tapish hai tujhe pane ki,
Tapish hai tujhe pane ki,
Sakshi Tripathi
डायरी भर गई
डायरी भर गई
Dr. Meenakshi Sharma
*मां चंद्रघंटा*
*मां चंद्रघंटा*
Shashi kala vyas
जुगनू
जुगनू
Gurdeep Saggu
गीतिका
गीतिका "बचाने कौन आएगा"
लक्ष्मीकान्त शर्मा 'रुद्र'
मुझे
मुझे "कुंठित" होने से
*Author प्रणय प्रभात*
कुछ ना करना , कुछ करने से बहुत महंगा हैं
कुछ ना करना , कुछ करने से बहुत महंगा हैं
J_Kay Chhonkar
Loading...