Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Oct 2022 · 2 min read

नगर विकास राज्यमंत्री श्री महेश गुप्ता की सराहनीय सक्रियता

नगर विकास राज्यमंत्री श्री महेश गुप्ता की सराहनीय सक्रियता
____________________________
आपकी सक्रियता के कारण रामपुर का वातावरण राष्ट्रीय भावनाओं से ओतप्रोत होता जा रहा है। नगर की प्रायः सभी गतिविधियों में आपकी उपस्थिति रहती है। घर- घर जाकर आप नगर के सम्मानित व्यक्तियों के साथ बैठकर चर्चा का आयोजन करते हैं तथा समाज में किस प्रकार की समस्याएं चल रही हैं, उनको समझने तथा उनके निराकरण के लिए प्रयत्नशील रहते हैं।
इसी श्रंखला में नगर के प्रतिष्ठित समाजसेवी तथा सर्राफा व्यवसायी श्री परितोष चाँदीवाला के निवास स्थान कूँचा परमेश्वरी दास, बाजार सर्राफा में दिनांक 11 अक्टूबर 2019 शनिवार को प्रातः 9:30 पर आपकी बैठक हुई ।काफी संख्या में व्यापारी तथा चिंतनशील व्यक्ति उपस्थित हुए। चर्चा में अनौपचारिक रूप से आपसी संवाद स्थापित हुआ । सबकी आत्मीयता महेश गुप्ता जी से बढ़ी।
मैं मुरादाबाद में था। कार्यक्रम में जब मंत्री महोदय पधार चुके थे ,मैं उसके कुछ मिनट बाद पहुँचा । महेश गुप्ता जी ने देखते ही पहचान लिया । सबसे कहने लगे कि “भाई साहब का राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के विजयदशमी उत्सव में अध्यक्षीय संबोधन था । मैं तो समझ रहा था कि अध्यक्षता इस प्रकार के कार्यक्रमों की करने वाले लोग केवल “आपका धन्यवाद ” कहकर बैठ जाएंगे, लेकिन भाई साहब ने तो बड़ा सुंदर संबोधन दिया …मन प्रसन्न हो गया।”…. फिर मुस्कुरा कर यह भी कहा कि मैं केवल आपके मुँह के सामने आपकी प्रशंसा नहीं कर रहा हूं बल्कि आपके पीछे भी आपकी प्रशंसा करूंगा।
मैंने मंत्री जी को सराहना हेतु धन्यवाद दिया । वास्तव में विजयदशमी उत्सव में संघ के सामान्य स्वयंसेवक की भाँति पंक्ति में महेश गुप्ता जी भी पीला कुर्ता पहनकर सामान्य रूप से बैठे हुए थे। पूरे कार्यक्रम में कहीं भी ऐसा आभास नहीं हुआ कि हमारे मध्य कोई मंत्री महोदय विराजमान हैं।संघ की यही तो विशेषता है कि उसका स्वयंसेवक अपने आप को एक सामान्य व्यक्ति के तौर पर ग्रहण करता है तथा अपना श्रेष्ठतम योगदान देने के लिए सदैव आगे रहता है।
श्री परितोष चाँदीवाला जी के निवास पर उपस्थित महानुभावों ने मंत्री महोदय के सामने रामपुर की कुछ समस्याएं रखीं।जिसमें शमशान घाट की ओर जाने वाली सड़क का जीर्णोद्धार करना प्रमुख था। इसके अलावा सर्राफा बाजार में जच्चा बच्चा सेंटर के भीतर शौचालय बनने के बाद भी कई वर्षों से अभी तक चालू नहीं हुआ है, यह समस्या भी रखी गई । सर्राफा बाजार की सड़क खुद अपने आप में उपेक्षित पड़ी हुई है, इस पीड़ा को भी बहुतों ने सामने रखा। मंत्री महोदय ने सब की बातों को ध्यान से सुना। समस्या की गंभीरता को महसूस किया और आश्वासन दिया कि निश्चित रूप से समस्या हल की जाएगी। इसी अवसर पर दर्जा मंत्री श्री सूर्य प्रकाश पाल भी उपस्थित थे ।आपने उसी समय टेलीफोन करके समस्या के निदान के लिए कार्य आरंभ कर दिया तथा मंत्री महोदय की बातचीत भी कराई ।तात्पर्य यह कि समाज के प्रश्नों को हल करने की दिशा में इस प्रकार की अनौपचारिक बैठकें काफी प्रभावी रहती हैं और सरकार का एक अच्छा संदेश समाज में सब के पास जाता है।
“”””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””””
लेखक : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर( उत्तर प्रदेश )
मोबाइल 99 97 61 545 1

Language: Hindi
200 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
आप किससे प्यार करते हैं?
आप किससे प्यार करते हैं?
Otteri Selvakumar
अंबेडकर की रक्तहीन क्रांति
अंबेडकर की रक्तहीन क्रांति
Shekhar Chandra Mitra
जहर मिटा लो दर्शन कर के नागेश्वर भगवान के।
जहर मिटा लो दर्शन कर के नागेश्वर भगवान के।
सत्य कुमार प्रेमी
"ईर्ष्या"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरी निजी जुबान है, हिन्दी ही दोस्तों
मेरी निजी जुबान है, हिन्दी ही दोस्तों
SHAMA PARVEEN
आहिस्ता आहिस्ता मैं अपने दर्द मे घुलने लगा हूँ ।
आहिस्ता आहिस्ता मैं अपने दर्द मे घुलने लगा हूँ ।
Ashwini sharma
संभव कब है देखना ,
संभव कब है देखना ,
sushil sarna
नज़ारे स्वर्ग के लगते हैं
नज़ारे स्वर्ग के लगते हैं
Neeraj Agarwal
नैन खोल मेरी हाल देख मैया
नैन खोल मेरी हाल देख मैया
Basant Bhagawan Roy
ज़िंदगी एक पहेली...
ज़िंदगी एक पहेली...
Srishty Bansal
रमेशराज की माँ विषयक मुक्तछंद कविताएँ
रमेशराज की माँ विषयक मुक्तछंद कविताएँ
कवि रमेशराज
समय
समय
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*Love filters down the soul*
*Love filters down the soul*
Poonam Matia
नील पदम् NEEL PADAM
नील पदम् NEEL PADAM
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
दरअसल बिहार की तमाम ट्रेनें पलायन एक्सप्रेस हैं। यह ट्रेनों
दरअसल बिहार की तमाम ट्रेनें पलायन एक्सप्रेस हैं। यह ट्रेनों
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
// ॐ जाप //
// ॐ जाप //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
जिस दिन हम ज़मी पर आये ये आसमाँ भी खूब रोया था,
जिस दिन हम ज़मी पर आये ये आसमाँ भी खूब रोया था,
Ranjeet kumar patre
लाचार जन की हाय
लाचार जन की हाय
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*इस वसंत में मौन तोड़कर, आओ मन से गीत लिखें (गीत)*
*इस वसंत में मौन तोड़कर, आओ मन से गीत लिखें (गीत)*
Ravi Prakash
पत्थर (कविता)
पत्थर (कविता)
Pankaj Bindas
मोल नहीं होता है देखो, सुन्दर सपनों का कोई।
मोल नहीं होता है देखो, सुन्दर सपनों का कोई।
surenderpal vaidya
2367.पूर्णिका
2367.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सपने
सपने
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
मेरे अल्फाज याद रखना
मेरे अल्फाज याद रखना
VINOD CHAUHAN
फादर्स डे ( Father's Day )
फादर्स डे ( Father's Day )
Atul "Krishn"
"I’m now where I only want to associate myself with grown p
पूर्वार्थ
जिसनें जैसा चाहा वैसा अफसाना बना दिया
जिसनें जैसा चाहा वैसा अफसाना बना दिया
Sonu sugandh
🚩 वैराग्य
🚩 वैराग्य
Pt. Brajesh Kumar Nayak
गर्मी की छुट्टियां
गर्मी की छुट्टियां
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
9) “जीवन एक सफ़र”
9) “जीवन एक सफ़र”
Sapna Arora
Loading...