Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
26 Jun 2023 · 1 min read

नकाबपोश रिश्ता

मैं उस बेवफा से वफा की उम्मीद ही क्या करता,
जब पूछा किसी ने हमारा रिश्ता उससे,
तो अपना भाई बताकर मुझे उसने अपना दामन छिपा लिया..

भले ही पिछली रात हम दोनों ने साथ गुजारी थी,
भले ही उस रात का गवाह चाँद और टिमटिमाते तारे थे,
फिर भी उसने दिन के उजाले में सबकुछ झुठला दिया..

मेरी उम्मीद थी रिश्ते को क्षितिज तक पार लेकर जाने की,
मेरी हर वफा थी समुंदर की उफनती धाराओं में से कस्ती को संभाल कर पार ले जाने की,
मगर उसने चुपके से ही पतवार में छेद कर दिया.।

मैं हैरान हताश होकर उसके पीछे ही खड़ा रहा,
वो झूठ दर झूठ बेखौफ होकर बोलती रही,
उसने हमारी अब तक की कहानी का हर मोड़ ही बदल दिया.।

अब मेरा यकीन मुझसे ही दर किनारा कर गया है,
जो मुझे याद था सब धुंधला हो गया है,
हमारा रिश्ता क्या था और अब क्या हो गया है.।
“प्रशांत सोलंकी”

Language: Hindi
1 Like · 224 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
View all
You may also like:
शब्दों मैं अपने रह जाऊंगा।
शब्दों मैं अपने रह जाऊंगा।
गुप्तरत्न
#लघुव्यंग्य-
#लघुव्यंग्य-
*Author प्रणय प्रभात*
तड़ाग के मुँह पर......समंदर की बात
तड़ाग के मुँह पर......समंदर की बात
सिद्धार्थ गोरखपुरी
अपने आसपास
अपने आसपास "काम करने" वालों की कद्र करना सीखें...
Radhakishan R. Mundhra
चक्षु द्वय काजर कोठरी , मोती अधरन बीच ।
चक्षु द्वय काजर कोठरी , मोती अधरन बीच ।
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
जय महादेव
जय महादेव
Shaily
मौन
मौन
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मुहब्बत कुछ इस कदर, हमसे बातें करती है…
मुहब्बत कुछ इस कदर, हमसे बातें करती है…
Anand Kumar
I love you
I love you
Otteri Selvakumar
गलत लोग, गलत परिस्थितियां,और गलत अनुभव होना भी ज़रूरी है
गलत लोग, गलत परिस्थितियां,और गलत अनुभव होना भी ज़रूरी है
शेखर सिंह
दिल में उम्मीदों का चराग़ लिए
दिल में उम्मीदों का चराग़ लिए
_सुलेखा.
जब तक हयात हो
जब तक हयात हो
Dr fauzia Naseem shad
निरंतर खूब चलना है
निरंतर खूब चलना है
surenderpal vaidya
Beginning of the end
Beginning of the end
Bidyadhar Mantry
पिताजी हमारे
पिताजी हमारे
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
कहां जाके लुकाबों
कहां जाके लुकाबों
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
उम्र के हर एक पड़ाव की तस्वीर क़ैद कर लेना
उम्र के हर एक पड़ाव की तस्वीर क़ैद कर लेना
'अशांत' शेखर
दोहे
दोहे
अशोक कुमार ढोरिया
लगन की पतोहू / MUSAFIR BAITHA
लगन की पतोहू / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
आज, पापा की याद आई
आज, पापा की याद आई
Rajni kapoor
वफ़ा
वफ़ा
shabina. Naaz
दोहा त्रयी. . . .
दोहा त्रयी. . . .
sushil sarna
3097.*पूर्णिका*
3097.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*सुकुं का झरना*... ( 19 of 25 )
*सुकुं का झरना*... ( 19 of 25 )
Kshma Urmila
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
Ranjeet Kumar Shukla
*पाना है अमरत्व अगर तो, जग में सबसे प्यार करो 【मुक्तक】*
*पाना है अमरत्व अगर तो, जग में सबसे प्यार करो 【मुक्तक】*
Ravi Prakash
सांसे केवल आपके जीवित होने की सूचक है जबकि तुम्हारे स्वर्णिम
सांसे केवल आपके जीवित होने की सूचक है जबकि तुम्हारे स्वर्णिम
Rj Anand Prajapati
अगर बात तू मान लेगा हमारी।
अगर बात तू मान लेगा हमारी।
सत्य कुमार प्रेमी
क्या मथुरा क्या काशी जब मन में हो उदासी ?
क्या मथुरा क्या काशी जब मन में हो उदासी ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
आज के रिश्ते: ए
आज के रिश्ते: ए
पूर्वार्थ
Loading...