Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 Nov 2022 · 1 min read

*नकली छत अच्छी लगती है(गीतिका)*

नकली छत अच्छी लगती है(गीतिका)
■■■■■■■■■■■■■■■■■■
(1)
असली छत से सबको नकली छत अच्छी लगती है
कहा “फाल्स सीलिंग” ने अब किस्मत अच्छी लगती है

(2)

उठकर सुबह ध्यान की मस्ती की मदिरा को पीना
आदत एक बनी है यह जो ,लत अच्छी लगती है

(3)

जिनको पैसा ही प्यारा है , पूज रहे पैसे को
पैसा ज्यादा ,कम उनको इज्जत अच्छी लगती है

(4)

बीच सड़क पर मेरी गलती को खुलकर कह देना
खरी-खरी कहने की यह आदत अच्छी लगती है

(5)

अकड़ी गर्दन हो या हो अकड़ा शरीर लोगों का
मुर्दों जैसी किसको यह हालत अच्छी लगती है
■■■■■■■■■■■■■■■■■■■■
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश )
मोबाइल 99976 15451

89 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
जाने क्यूं मुझ पर से
जाने क्यूं मुझ पर से
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
क्षणिका :  ऐश ट्रे
क्षणिका : ऐश ट्रे
sushil sarna
विभीषण का दुःख
विभीषण का दुःख
Dr MusafiR BaithA
सभी भगवान को प्यारे हो जाते हैं,
सभी भगवान को प्यारे हो जाते हैं,
Manoj Mahato
जितना सच्चा प्रेम है,
जितना सच्चा प्रेम है,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
माॅ प्रकृति
माॅ प्रकृति
Jeewan Singh 'जीवनसवारो'
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हनुमान जी वंदना ।। अंजनी सुत प्रभु, आप तो विशिष्ट हो ।।
हनुमान जी वंदना ।। अंजनी सुत प्रभु, आप तो विशिष्ट हो ।।
Kuldeep mishra (KD)
ग़ज़ल- तू फितरत ए शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है- डॉ तबस्सुम जहां
ग़ज़ल- तू फितरत ए शैतां से कुछ जुदा तो नहीं है- डॉ तबस्सुम जहां
Dr Tabassum Jahan
एक हसीं ख्वाब
एक हसीं ख्वाब
Mamta Rani
23/204. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/204. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मुफलिसों को जो भी हॅंसा पाया।
मुफलिसों को जो भी हॅंसा पाया।
सत्य कुमार प्रेमी
जब मित्र बने हो यहाँ तो सब लोगों से खुलके जुड़ना सीख लो
जब मित्र बने हो यहाँ तो सब लोगों से खुलके जुड़ना सीख लो
DrLakshman Jha Parimal
अतीत
अतीत
Shyam Sundar Subramanian
थोड़ा विश्राम चाहता हू,
थोड़ा विश्राम चाहता हू,
Umender kumar
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
*संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ/ दैनिक रिपोर्ट*
Ravi Prakash
★गहने ★
★गहने ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
हैरान था सारे सफ़र में मैं, देख कर एक सा ही मंज़र,
हैरान था सारे सफ़र में मैं, देख कर एक सा ही मंज़र,
पूर्वार्थ
किधर चले हो यूं मोड़कर मुँह मुझे सनम तुम न अब सताओ
किधर चले हो यूं मोड़कर मुँह मुझे सनम तुम न अब सताओ
Dr Archana Gupta
💐प्रेम कौतुक-338💐
💐प्रेम कौतुक-338💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
याद तो हैं ना.…...
याद तो हैं ना.…...
Dr Manju Saini
■ आत्मावलोकन।
■ आत्मावलोकन।
*Author प्रणय प्रभात*
"नया साल में"
Dr. Kishan tandon kranti
मौसम खराब है
मौसम खराब है
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
सुप्रभात
सुप्रभात
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
*प्यार या एहसान*
*प्यार या एहसान*
Harminder Kaur
हर एक सब का हिसाब कोंन रक्खे...
हर एक सब का हिसाब कोंन रक्खे...
कवि दीपक बवेजा
अपनी मनमानियां _ कब तक करोगे ।
अपनी मनमानियां _ कब तक करोगे ।
Rajesh vyas
जो भूल गये हैं
जो भूल गये हैं
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
Loading...