Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Jan 2024 · 1 min read

नए साल की नई सुबह पर,

नए साल की नई सुबह पर,
सबको मेरा राम, राम।
सबके जीवन में खुशियाँ बरसे
गम का नही हो नामोनिशान।
सबके दिल में प्यार हो,
सबके लिए हो सम्मान ।
शान्ति का पैगाम फैलाएँ,
युद्ध को दे हम विराम।
हर एक चेहरा खिला हुआ हो
हर एक चेहरे पर हो मुस्कान ।
इस मंगल कामना के साथ,
हम करते है सबको प्रणाम।

~ अनामिका

Language: Hindi
3 Likes · 149 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
■ ज़रूरत है बहाने की। करेंगे वही जो करना है।।
■ ज़रूरत है बहाने की। करेंगे वही जो करना है।।
*Author प्रणय प्रभात*
हिंदुस्तानी है हम सारे
हिंदुस्तानी है हम सारे
Manjhii Masti
#drarunkumarshastri
#drarunkumarshastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
The World at a Crossroad: Navigating the Shadows of Violence and Contemplated World War
The World at a Crossroad: Navigating the Shadows of Violence and Contemplated World War
Shyam Sundar Subramanian
मंटू और चिड़ियाँ
मंटू और चिड़ियाँ
SHAMA PARVEEN
मैं होता डी एम
मैं होता डी एम"
Satish Srijan
चलते जाना
चलते जाना
अनिल कुमार निश्छल
रामकृष्ण परमहंस
रामकृष्ण परमहंस
Indu Singh
भस्मासुर
भस्मासुर
आनन्द मिश्र
आप तो गुलाब है,कभी बबूल न बनिए
आप तो गुलाब है,कभी बबूल न बनिए
Ram Krishan Rastogi
इज़्ज़त
इज़्ज़त
Jogendar singh
महादेव ने समुद्र मंथन में निकले विष
महादेव ने समुद्र मंथन में निकले विष
Dr.Rashmi Mishra
सबने सलाह दी यही मुॅंह बंद रखो तुम।
सबने सलाह दी यही मुॅंह बंद रखो तुम।
सत्य कुमार प्रेमी
अनुभूति
अनुभूति
Punam Pande
एक कहानी है, जो अधूरी है
एक कहानी है, जो अधूरी है
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
नफ़्स
नफ़्स
निकेश कुमार ठाकुर
खुशबू बनके हर दिशा बिखर जाना है
खुशबू बनके हर दिशा बिखर जाना है
VINOD CHAUHAN
कहनी चाही कभी जो दिल की बात...
कहनी चाही कभी जो दिल की बात...
Sunil Suman
"उल्लास"
Dr. Kishan tandon kranti
3232.*पूर्णिका*
3232.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
छटपटाता रहता है आम इंसान
छटपटाता रहता है आम इंसान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
చివరికి మిగిలింది శూన్యమే
చివరికి మిగిలింది శూన్యమే
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
* संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ: दैनिक समीक्षा* दिनांक 6 अप्रैल
* संपूर्ण रामचरितमानस का पाठ: दैनिक समीक्षा* दिनांक 6 अप्रैल
Ravi Prakash
कभी जिस पर मेरी सारी पतंगें ही लटकती थी
कभी जिस पर मेरी सारी पतंगें ही लटकती थी
Johnny Ahmed 'क़ैस'
नये वर्ष का आगम-निर्गम
नये वर्ष का आगम-निर्गम
Ramswaroop Dinkar
सदविचार
सदविचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
नव वर्ष पर सबने लिखा
नव वर्ष पर सबने लिखा
Harminder Kaur
दु:ख का रोना मत रोना कभी किसी के सामने क्योंकि लोग अफसोस नही
दु:ख का रोना मत रोना कभी किसी के सामने क्योंकि लोग अफसोस नही
Ranjeet kumar patre
प्रेम में डूबे रहो
प्रेम में डूबे रहो
Sangeeta Beniwal
. काला काला बादल
. काला काला बादल
Paras Nath Jha
Loading...