Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
10 May 2023 · 1 min read

*नए दौर में पत्नी बोली, बनें फ्लैट सुखधाम【हिंदी गजल/ गीतिका】

नए दौर में पत्नी बोली, बनें फ्लैट सुखधाम【हिंदी गजल/ गीतिका】
■■■■■■■■■■■■■■■■■■■
(1)
नए दौर में पत्नी बोली ,बनें फ्लैट सुखधाम
झाड़ू सुबह लगाए पत्नी ,पोछा पति हर शाम
(2)
पतिदेवों की बढ़ी मुसीबत ,करना पड़ता काम
टाँगे फैलाकर अब घर में ,कब मिलता आराम
(3)
चाय बनाएँ आप टोस्ट मैं बढ़िया-बढ़िया सेंकूँ
मक्खन आप लगाएँ उन पर ,लेकर हरि का नाम
(4) .
आप कमाने का जिम्मा लें ,वेतन लेकर आएँ
मेरे जिम्मे खर्च जेब अब खाली करें तमाम
(5)
सीख रहे पतिदेव कुकर पर ,कैसे दाल चढ़ाते
पत्नी जी को गुरु माना है ,करते रोज प्रणाम
—————————————————-
रचयिता : रवि प्रकाश ,बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश )
मोबाइल 99976 15451

428 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
एक ख्वाब सजाया था मैंने तुमको सोचकर
एक ख्वाब सजाया था मैंने तुमको सोचकर
डॉ. दीपक मेवाती
माँ
माँ
Anju
अपनी मर्ज़ी
अपनी मर्ज़ी
Dr fauzia Naseem shad
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - १)
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - १)
Kanchan Khanna
*तुम और  मै धूप - छाँव  जैसे*
*तुम और मै धूप - छाँव जैसे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
- अपनो का स्वार्थीपन -
- अपनो का स्वार्थीपन -
bharat gehlot
क्या....
क्या....
हिमांशु Kulshrestha
उपहास ~लघु कथा
उपहास ~लघु कथा
Niharika Verma
क्षमा अपनापन करुणा।।
क्षमा अपनापन करुणा।।
Kaushal Kishor Bhatt
ऐसा क्यूं है??
ऐसा क्यूं है??
Kanchan Alok Malu
-: चंद्रयान का चंद्र मिलन :-
-: चंद्रयान का चंद्र मिलन :-
Parvat Singh Rajput
.
.
Shwet Kumar Sinha
जब तुम उसको नहीं पसन्द तो
जब तुम उसको नहीं पसन्द तो
gurudeenverma198
*घर*
*घर*
Dushyant Kumar
आँख
आँख
विजय कुमार अग्रवाल
"चुलबुला रोमित"
Dr Meenu Poonia
जीवन में अँधियारा छाया, दूर तलक सुनसान।
जीवन में अँधियारा छाया, दूर तलक सुनसान।
डॉ.सीमा अग्रवाल
युगांतर
युगांतर
Suryakant Dwivedi
*Nabi* के नवासे की सहादत पर
*Nabi* के नवासे की सहादत पर
Shakil Alam
मूर्ती माँ तू ममता की
मूर्ती माँ तू ममता की
Basant Bhagawan Roy
"उपकार"
Dr. Kishan tandon kranti
बात मेरे मन की
बात मेरे मन की
Sûrëkhâ
जिंदगी इम्तिहानों का सफर
जिंदगी इम्तिहानों का सफर
Neeraj Agarwal
भालू,बंदर,घोड़ा,तोता,रोने वाली गुड़िया
भालू,बंदर,घोड़ा,तोता,रोने वाली गुड़िया
Shweta Soni
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
*प्रणय प्रभात*
मौसम का मिजाज़ अलबेला
मौसम का मिजाज़ अलबेला
Buddha Prakash
महाकाल हैं
महाकाल हैं
Ramji Tiwari
धन से जो सम्पन्न उन्हें ,
धन से जो सम्पन्न उन्हें ,
sushil sarna
कुछ अपनें ऐसे होते हैं,
कुछ अपनें ऐसे होते हैं,
Yogendra Chaturwedi
सारे सब्जी-हाट में, गंगाफल अभिराम (कुंडलिया )
सारे सब्जी-हाट में, गंगाफल अभिराम (कुंडलिया )
Ravi Prakash
Loading...