Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 May 2024 · 1 min read

*नई मुलाकात *

डॉ अरुण कुमार शास्त्री
*नई मुलाकात *

तुम जब से खफा हुये हमसे जिंदगी रूठ गई ।
कोशिश मेरी तमाम इसको सँवारने की बेकार हो गई ।

सोच से परे स्वप्न थे भरे यौवन की तरंग में भीग हम रहे ।
ये दिन भी आएगा हमको पड़ेगा रोना था सोच से परे ।

वो था पहला दिन कॉलेज का और तुमसे हुई मुलाकात ।
हैरान थे हम परेशान से बिना रस्सी की गाय से भटके हुये ।

सब कुछ नया – नया अजनबी सा माहौल लेकिन रोमांच से भरा ।
फिर हुई बारिश तपिश मिट गई , बंजर जमीन पर कली खिल गई ।

सोच से परे स्वप्न थे भरे यौवन की तरंग में भीग हम रहे ।
पानी ही पानी था क्या अंदर क्या बाहर – एक जुनून खुशगंवार ।

तुम जब से खफा हुये हमसे जिंदगी रूठ गई ।
कोशिश मेरी तमाम इसको सँवारने की बेकार हो गई ।

रंग बदला , हवा बदली , मौसम ने अपनी दिशा बदली ।
तुम्हारे सोच के साथ – साथ तल्खी ने भी नरमी अपना ली ।

तेवर बदल गए हो सकता है तनहाई में हम याद या गए ।
पहले प्यार का आलम अजीब सा दोपहर की गुलाबी धूप सा ।

तुमने मुझे पुकारा जब मेरे तो सोये जज़्बात हिल गए ।
बादल सभी छटने लगे फिर से और इंद्रधनुष खिल गए ।

वो था पहला दिन कॉलेज का और तुमसे हुई मुलाकात ।
हैरान थे हम परेशान से बिना रस्सी की गाय से भटके हुये ।

30 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
होंठ को छू लेता है सबसे पहले कुल्हड़
होंठ को छू लेता है सबसे पहले कुल्हड़
सिद्धार्थ गोरखपुरी
हाइकु
हाइकु
अशोक कुमार ढोरिया
ज़ख़्म ही देकर जाते हो।
ज़ख़्म ही देकर जाते हो।
Taj Mohammad
मजदूर हैं हम मजबूर नहीं
मजदूर हैं हम मजबूर नहीं
नेताम आर सी
दिव्य दर्शन है कान्हा तेरा
दिव्य दर्शन है कान्हा तेरा
Neelam Sharma
देश भक्त का अंतिम दिन
देश भक्त का अंतिम दिन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
"हैसियत"
Dr. Kishan tandon kranti
सरस्वती वंदना-4
सरस्वती वंदना-4
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
*रामपुर रियासत को कायम रखने का अंतिम प्रयास और रामभरोसे लाल सर्राफ का ऐतिहासिक विरोध*
*रामपुर रियासत को कायम रखने का अंतिम प्रयास और रामभरोसे लाल सर्राफ का ऐतिहासिक विरोध*
Ravi Prakash
यूं कीमतें भी चुकानी पड़ती है दोस्तों,
यूं कीमतें भी चुकानी पड़ती है दोस्तों,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
सबसे प्यारा माॅ॑ का ऑ॑चल
सबसे प्यारा माॅ॑ का ऑ॑चल
VINOD CHAUHAN
23/166.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/166.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बूढ़ी मां
बूढ़ी मां
Sûrëkhâ
गुरु पूर्णिमा आ वर्तमान विद्यालय निरीक्षण आदेश।
गुरु पूर्णिमा आ वर्तमान विद्यालय निरीक्षण आदेश।
Acharya Rama Nand Mandal
लोककवि रामचरन गुप्त एक देशभक्त कवि - डॉ. रवीन्द्र भ्रमर
लोककवि रामचरन गुप्त एक देशभक्त कवि - डॉ. रवीन्द्र भ्रमर
कवि रमेशराज
🌸प्रकृति 🌸
🌸प्रकृति 🌸
Mahima shukla
42 °C
42 °C
शेखर सिंह
कभी जिस पर मेरी सारी पतंगें ही लटकती थी
कभी जिस पर मेरी सारी पतंगें ही लटकती थी
Johnny Ahmed 'क़ैस'
मकरंद
मकरंद
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
राही
राही
RAKESH RAKESH
दीपों की माला
दीपों की माला
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
विश्व पर्यटन दिवस
विश्व पर्यटन दिवस
Neeraj Agarwal
पर्यायवरण (दोहा छन्द)
पर्यायवरण (दोहा छन्द)
नाथ सोनांचली
पढ़ते है एहसासों को लफ्जो की जुबानी...
पढ़ते है एहसासों को लफ्जो की जुबानी...
पूर्वार्थ
सौ बार मरता है
सौ बार मरता है
sushil sarna
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
फेसबुक
फेसबुक
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
चाय पीने से पिलाने से नहीं होता है
चाय पीने से पिलाने से नहीं होता है
Manoj Mahato
स्वाल तुम्हारे-जवाब हमारे
स्वाल तुम्हारे-जवाब हमारे
Ravi Ghayal
***कृष्णा ***
***कृष्णा ***
Kavita Chouhan
Loading...