Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jun 2023 · 2 min read

नई बहू

नई बहू

“बेटा रमेश, मेरे चश्मे का ग्लास घिसकर बहुत खराब हो गया है। आज ऑफिस से लौटते समय याद से एक नया चश्मा लेते आना।”

“हां दादी, सॉरी मैं कल लाना भूल गया था। आज याद से लेते आऊंगा। सुमन, प्लीज़ मुझे आज शाम को ठीक साढ़े पांच बजे के आसपास फोन कर के याद दिला देना कि दादी मां के लिए नया चश्मा लाना है।”

“ठीक है, पर आप बिना डॉक्टर को दिखाए कैसे चश्मा लाएंगे।”

“अरी बहू, इसकी कोई जरूरत नहीं है। दो साल पहले ही डॉक्टर को दिखाया था। उसी नंबर का चश्मा लगाने से मेरा काम चल जाता है। और फिर रमेश के पास इतना समय कहां है कि मुझे डॉक्टर को दिखा सके।”

“ठीक है दादी मां। रमेश जी के पास समय नहीं है, पर आपके और मेरे पास तो है। मैं ले चलूंगी आपको डॉक्टर के पास। यूं बिना डॉक्टर को दिखाए कई साल एक ही नंबर का चश्मा पहना ठीक नहीं है।”

“क्या कहा ? मुझे तुम लेकर जाओगी डॉक्टर के पास ?”

“हां दादी मां, इसमें इतने आश्चर्य की क्या बात है ? मैं अपने मायके में कई बार अपनी दादी मां, नानी मां, मां को हॉस्पिटल ले जा चुकी हूं। अब आपको भी ले जा सकती हूं।”

“क्या सोच रही हो दादी। सुमन तुम्हें बड़े ही आराम से डॉक्टर के पास ले जा सकती है। वह पढ़ी-लिखी और आज के जमाने की लड़की है। मैं तो चाहता हूं कि सुमन के साथ तुम और मां भी हर दूसरे-तीसरे दिन सब्जी मार्केट जाकर ताजी सब्जियां भी लेती आओ। इससे मुझे भी थोड़ा-सा आराम मिलेगा और कुछ देर बाहर घूमने-फिरने से आप लोगों का भी मूड फ्रेश रहेगा‌।”

“हां बेटा, तुम सही कह रहे हो। ये बात तो मेरे दिमाग में कभी आई ही नहीं। सुमन बेटा, तुम डॉक्टर से आज ही दादी मां के लिए अपाइंटमेंट ले लो। लौटते समय सब्जी मार्केट से कुछ ताजी सब्जियां भी लेती आना।”

सबके चेहरे खुशी से चमक रहे थे।

-डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

Language: Hindi
2 Likes · 151 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*कितनी भी चालाकी चल लो, समझ लोग सब जाते हैं (हिंदी गजल)*
*कितनी भी चालाकी चल लो, समझ लोग सब जाते हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
मानवता
मानवता
विजय कुमार अग्रवाल
"समय का भरोसा नहीं है इसलिए जब तक जिंदगी है तब तक उदारता, वि
डॉ कुलदीपसिंह सिसोदिया कुंदन
समुद्रर से गेहरी लहरे मन में उटी हैं साहब
समुद्रर से गेहरी लहरे मन में उटी हैं साहब
Sampada
कृतिकार का परिचय/
कृतिकार का परिचय/"पं बृजेश कुमार नायक" का परिचय
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जनैत छी हमर लिखबा सँ
जनैत छी हमर लिखबा सँ
DrLakshman Jha Parimal
गवर्नमेंट जॉब में ऐसा क्या होता हैं!
गवर्नमेंट जॉब में ऐसा क्या होता हैं!
शेखर सिंह
अधूरेपन की बात अब मुझसे न कीजिए,
अधूरेपन की बात अब मुझसे न कीजिए,
सिद्धार्थ गोरखपुरी
रंग ही रंगमंच के किरदार है
रंग ही रंगमंच के किरदार है
Neeraj Agarwal
मत मन को कर तू उदास
मत मन को कर तू उदास
gurudeenverma198
सम्मान से सम्मान
सम्मान से सम्मान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
इशारों इशारों में ही, मेरा दिल चुरा लेते हो
इशारों इशारों में ही, मेरा दिल चुरा लेते हो
Ram Krishan Rastogi
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
खुद के होते हुए भी
खुद के होते हुए भी
Dr fauzia Naseem shad
ईर्ष्या
ईर्ष्या
Sûrëkhâ
Don't leave anything for later.
Don't leave anything for later.
पूर्वार्थ
फ़र्ज़ ...
फ़र्ज़ ...
Shaily
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
साहिल पर खड़े खड़े हमने शाम कर दी।
साहिल पर खड़े खड़े हमने शाम कर दी।
Sahil Ahmad
जिंदगी का यह दौर भी निराला है
जिंदगी का यह दौर भी निराला है
Ansh
यूं ही नहीं कहलाते, चिकित्सक/भगवान!
यूं ही नहीं कहलाते, चिकित्सक/भगवान!
Manu Vashistha
"अन्तरात्मा की पथिक "मैं"
शोभा कुमारी
सरस्वती वंदना-6
सरस्वती वंदना-6
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
रेल यात्रा संस्मरण
रेल यात्रा संस्मरण
Prakash Chandra
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
नज़्म
नज़्म
Neelofar Khan
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
■ कड़ा सवाल ■
■ कड़ा सवाल ■
*प्रणय प्रभात*
3356.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3356.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
बेमेल शादी!
बेमेल शादी!
कविता झा ‘गीत’
Loading...