Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Aug 2022 · 1 min read

नंद के घर आयो लाल

नंद के घर आयो लाल

जननी थी देवकी और वासुदेव की संतान

निकल पड़े वासुदेव धरकर इक टोकरी में

सौंपने नंद को बालगोपाल

मुखड़े पर थी इक प्यारी मुस्कान

दिखा रही थी यमुना रूप विकराल

आंधी तूफ़ान एक तरफ थे

फिर भी वासुदेव हिम्मत न हारे

चल रहे थे कान्हा को थामे

पीछे शेषनाग भी रखवाली करते

वासुदेव के संग विचरते

गोकुल में दोनों आये

यशोदा को दियो लल्ला थमाए

वापस पहुंच चुपके से मथुरा आये

जकड़ बेड़ियों में दियो बैठाय

दरबान जागे बात ये कंस तक

दियो पहुचाय

देख रहा कंस आँखे फाड़कर

अचरज करता तलवार तानकर

था गोकुल पहुंच चुका बालक वो जानकर

गोकुल में फ़ैल गई खुशियां सारी

देखते थे सब लल्ला को बारी बारी

सबने मिलकर जश्न मनाया

जग का उद्धार करने कृष्णा इस धरती पर आया ।

“कविता चौहान”
स्वरचित एवं मौलिक

Language: Hindi
273 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हर एक चेहरा निहारता
हर एक चेहरा निहारता
goutam shaw
खुद को संभाल
खुद को संभाल
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
👌2029 के लिए👌
👌2029 के लिए👌
*प्रणय प्रभात*
पीपल बाबा बूड़ा बरगद
पीपल बाबा बूड़ा बरगद
Dr.Pratibha Prakash
शुभ प्रभात मित्रो !
शुभ प्रभात मित्रो !
Mahesh Jain 'Jyoti'
कृष्ण प्रेम की परिभाषा हैं, प्रेम जगत का सार कृष्ण हैं।
कृष्ण प्रेम की परिभाषा हैं, प्रेम जगत का सार कृष्ण हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
मन नहीं होता
मन नहीं होता
Surinder blackpen
गुफ्तगू
गुफ्तगू
Naushaba Suriya
खुल जाये यदि भेद तो,
खुल जाये यदि भेद तो,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नयी नवेली
नयी नवेली
Ritu Asooja
*ख़ास*..!!
*ख़ास*..!!
Ravi Betulwala
न्याय होता है
न्याय होता है
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
*सभी कर्मों का अच्छा फल, नजर फौरन नहीं आता (हिंदी गजल)*
*सभी कर्मों का अच्छा फल, नजर फौरन नहीं आता (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
13. पुष्पों की क्यारी
13. पुष्पों की क्यारी
Rajeev Dutta
मंत्र  :  दधाना करपधाभ्याम,
मंत्र : दधाना करपधाभ्याम,
Harminder Kaur
गर कभी आओ मेरे घर....
गर कभी आओ मेरे घर....
Santosh Soni
* राष्ट्रभाषा हिन्दी *
* राष्ट्रभाषा हिन्दी *
surenderpal vaidya
कोरोना और मां की ममता (व्यंग्य)
कोरोना और मां की ममता (व्यंग्य)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
तुम्हारा दिल ही तुम्हे आईना दिखा देगा
तुम्हारा दिल ही तुम्हे आईना दिखा देगा
VINOD CHAUHAN
"स्वतंत्रता दिवस"
Slok maurya "umang"
मैं भी डरती हूॅं
मैं भी डरती हूॅं
Mamta Singh Devaa
कभी सरल तो कभी सख़्त होते हैं ।
कभी सरल तो कभी सख़्त होते हैं ।
Neelam Sharma
हाथ में कलम और मन में ख्याल
हाथ में कलम और मन में ख्याल
Sonu sugandh
होके रुकसत कहा जाओगे
होके रुकसत कहा जाओगे
Awneesh kumar
मेरे हाथों से छूट गई वो नाजुक सी डोर,
मेरे हाथों से छूट गई वो नाजुक सी डोर,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
******** प्रेम भरे मुक्तक *********
******** प्रेम भरे मुक्तक *********
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
टॉम एंड जेरी
टॉम एंड जेरी
Vedha Singh
*प्रकृति-प्रेम*
*प्रकृति-प्रेम*
Dr. Priya Gupta
अगर किसी के पास रहना है
अगर किसी के पास रहना है
शेखर सिंह
Loading...