Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Nov 2023 · 1 min read

“नंगे पाँव”

“नंगे पाँव”
नंगे पाँव चलता हूँ, जीवन के सफर में,
नंगे बदन चलता हूँ, कपड़े नही है तन में।
रास्तों पर खड़ा, मैं खो जाता हूँ खुद में,
नंगे पाँव चलता हूँ ,सच्चे आत्मा की खोज में।

कभी कांपता हूँ ठंड में, कभी जलता हूँ गर्मी में,
नंगे पाँव चलता हूँ, जीवन के हर मौसम में।
मेरी आँखों में सपने, मेरे दिल में उम्मीद,
नंगे पाँव चलता हूँ, गाते हुए जीवन के गीत।।

पुष्पराज फूलदास अनंत

3 Likes · 3 Comments · 228 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरे हैं बस दो ख़ुदा
मेरे हैं बस दो ख़ुदा
The_dk_poetry
****प्रेम सागर****
****प्रेम सागर****
Kavita Chouhan
नाम बदलने का था शौक इतना कि गधे का नाम बब्बर शेर रख दिया।
नाम बदलने का था शौक इतना कि गधे का नाम बब्बर शेर रख दिया।
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
रंगों के पावन पर्व होली की आप सभी को हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभ
रंगों के पावन पर्व होली की आप सभी को हार्दिक बधाइयाँ एवं शुभ
आर.एस. 'प्रीतम'
मेरे फितरत में ही नहीं है
मेरे फितरत में ही नहीं है
नेताम आर सी
छन-छन के आ रही है जो बर्गे-शजर से धूप
छन-छन के आ रही है जो बर्गे-शजर से धूप
Sarfaraz Ahmed Aasee
"बोलते अहसास"
Dr. Kishan tandon kranti
💐 Prodigy Love-25💐
💐 Prodigy Love-25💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दोहा
दोहा
प्रीतम श्रावस्तवी
लहर
लहर
Shyam Sundar Subramanian
मै ठंठन गोपाल
मै ठंठन गोपाल
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
शौक या मजबूरी
शौक या मजबूरी
संजय कुमार संजू
मेरे उर के छाले।
मेरे उर के छाले।
Anil Mishra Prahari
मैं अक्सर उसके सामने बैठ कर उसे अपने एहसास बताता था लेकिन ना
मैं अक्सर उसके सामने बैठ कर उसे अपने एहसास बताता था लेकिन ना
पूर्वार्थ
*कभी  प्यार में  कोई तिजारत ना हो*
*कभी प्यार में कोई तिजारत ना हो*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
■ आज का आह्वान
■ आज का आह्वान
*Author प्रणय प्रभात*
कहने को सभी कहते_
कहने को सभी कहते_
Rajesh vyas
निरुपाय हूँ /MUSAFIR BAITHA
निरुपाय हूँ /MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
Fantasies are common in this mystical world,
Fantasies are common in this mystical world,
Sukoon
मेरी जिंदगी में मेरा किरदार बस इतना ही था कि कुछ अच्छा कर सकूँ
मेरी जिंदगी में मेरा किरदार बस इतना ही था कि कुछ अच्छा कर सकूँ
Jitendra kumar
23/02.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/02.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
शातिरपने की गुत्थियां
शातिरपने की गुत्थियां
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
बाबू
बाबू
Ajay Mishra
Childhood is rich and adulthood is poor.
Childhood is rich and adulthood is poor.
सिद्धार्थ गोरखपुरी
मुझे आज तक ये समझ में न आया
मुझे आज तक ये समझ में न आया
Shweta Soni
स्मृतियों का सफर (23)
स्मृतियों का सफर (23)
Seema gupta,Alwar
वचन दिवस
वचन दिवस
सत्य कुमार प्रेमी
*पुरानी रंजिशों की भूल, दोहराने से बचना है (हिंदी गजल/ गीतिक
*पुरानी रंजिशों की भूल, दोहराने से बचना है (हिंदी गजल/ गीतिक
Ravi Prakash
" मन मेरा डोले कभी-कभी "
Chunnu Lal Gupta
अपनी टोली
अपनी टोली
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
Loading...