Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 May 2023 · 1 min read

धोखा खाना क्या बुरा, धोखा खाना ठीक (कुंडलिया )

धोखा खाना क्या बुरा, धोखा खाना ठीक (कुंडलिया )
————————————————————–
धोखा खाना क्या बुरा , धोखा खाना ठीक
धोखा खाकर थूकिए , गुस्सा जैसे पीक
गुस्सा जैसे पीक , दूसरों को मत देना
यह ही है उपहार , ठीक औरों से लेना
कहते रवि कविराय ,आदमी समझो चोखा
दिल का है जो साफ , नहीं देता है धोखा
:::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::::
रचयिता: रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर ,उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

455 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
नटखट-चुलबुल चिड़िया।
नटखट-चुलबुल चिड़िया।
Vedha Singh
जीवन में कोई भी युद्ध अकेले होकर नहीं लड़ा जा सकता। भगवान राम
जीवन में कोई भी युद्ध अकेले होकर नहीं लड़ा जा सकता। भगवान राम
Dr Tabassum Jahan
*नए दौर में पत्नी बोली, बनें फ्लैट सुखधाम【हिंदी गजल/ गीतिका】
*नए दौर में पत्नी बोली, बनें फ्लैट सुखधाम【हिंदी गजल/ गीतिका】
Ravi Prakash
भगतसिंह: एक जीनियस
भगतसिंह: एक जीनियस
Shekhar Chandra Mitra
उन दरख्तों पे कोई फूल न खिल पाएंगें
उन दरख्तों पे कोई फूल न खिल पाएंगें
Shweta Soni
पुराने पन्नों पे, क़लम से
पुराने पन्नों पे, क़लम से
The_dk_poetry
आधुनिक भारत के कारीगर
आधुनिक भारत के कारीगर
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
ठंडक
ठंडक
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
शिक्षार्थी को एक संदेश🕊️🙏
शिक्षार्थी को एक संदेश🕊️🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
आज बहुत दिनों के बाद आपके साथ
आज बहुत दिनों के बाद आपके साथ
डा गजैसिह कर्दम
Ek galti har roj kar rhe hai hum,
Ek galti har roj kar rhe hai hum,
Sakshi Tripathi
55 रुपए के बराबर
55 रुपए के बराबर
*Author प्रणय प्रभात*
अहंकार अभिमान रसातल की, हैं पहली सीढ़ी l
अहंकार अभिमान रसातल की, हैं पहली सीढ़ी l
Shyamsingh Lodhi Rajput (Tejpuriya)
उनके जख्म
उनके जख्म
'अशांत' शेखर
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
"अन्तर"
Dr. Kishan tandon kranti
मतदान
मतदान
Kanchan Khanna
लहरों ने टूटी कश्ती को कमतर समझ लिया
लहरों ने टूटी कश्ती को कमतर समझ लिया
अंसार एटवी
ग़ज़ल
ग़ज़ल
विमला महरिया मौज
सड़कों पर दौड़ रही है मोटर साइकिलें, अनगिनत कार।
सड़कों पर दौड़ रही है मोटर साइकिलें, अनगिनत कार।
Tushar Jagawat
कैसा
कैसा
Ajay Mishra
माँ तुम सचमुच माँ सी हो
माँ तुम सचमुच माँ सी हो
Manju Singh
मौहब्बत जो चुपके से दिलों पर राज़ करती है ।
मौहब्बत जो चुपके से दिलों पर राज़ करती है ।
Phool gufran
रसीले आम
रसीले आम
नूरफातिमा खातून नूरी
बिना मांगते ही खुदा से
बिना मांगते ही खुदा से
Shinde Poonam
सिया राम विरह वेदना
सिया राम विरह वेदना
Er.Navaneet R Shandily
दो सहोदर
दो सहोदर
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
* वक्त  ही वक्त  तन में रक्त था *
* वक्त ही वक्त तन में रक्त था *
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
Prapancha mahila mathru dinotsavam
Prapancha mahila mathru dinotsavam
jayanth kaweeshwar
Loading...