Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Feb 2024 · 1 min read

“धूप-छाँव” ग़ज़ल

ख़याल इक, जो युगों से, मुझे सताता है।
सिवाय उसके क्यूँ, कुछ भी न मुझे भाता है।

गर्मजोशी की जहाँ में नहीं कमी, फिर भी,
सर्द रातों मेँ, उसका ध्यान, मुझे आता है।

जाँ ये हाज़िर है, सलामत उसे ख़ुदा रक्खे,
भले ही रीत, वो बिलकुल नहीं निभाता है।

कैसे कह दूँ कि मुझे प्रीत नहीं है उससे,
उसी की याद मेँ तो, दिल ये, सुकूँ पाता है।

रास आता है, तग़ाफ़ुल भले ही, ज़ालिम को,
गीत पर दिल, न जाने क्यूँ, उसी के गाता है।

छाँव देने मेँ, वृक्ष अग्रणी हैं, मान लिया,
उसकी ज़ुल्फ़ों का पर,झुरमुट तो,गज़ब ढाता है।

कोई तस्वीर, मकम्मल भी हो कैसे “आशा”,
धूप के सँग-सँग, साया भी, चला जाता है..!

सलामत # कुशलपूर्वक, safe, in good health
तग़ाफ़ुल # उपेक्षा करना, to neglect
मकम्मल # पूर्ण, complete

##————##————##————##

Language: Hindi
5 Likes · 5 Comments · 124 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
View all
You may also like:
मैं जिससे चाहा,
मैं जिससे चाहा,
Dr. Man Mohan Krishna
🇭🇺 झाँसी की वीरांगना
🇭🇺 झाँसी की वीरांगना
Pt. Brajesh Kumar Nayak
हमारे रक्षक
हमारे रक्षक
करन ''केसरा''
दु:ख का रोना मत रोना कभी किसी के सामने क्योंकि लोग अफसोस नही
दु:ख का रोना मत रोना कभी किसी के सामने क्योंकि लोग अफसोस नही
Ranjeet kumar patre
* बाँझ न समझो उस अबला को *
* बाँझ न समझो उस अबला को *
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
सत्य की खोज
सत्य की खोज
लक्ष्मी सिंह
*फितरत*
*फितरत*
Dushyant Kumar
यादों से कह दो न छेड़ें हमें
यादों से कह दो न छेड़ें हमें
sushil sarna
हारो बेशक कई बार,हार के आगे झुको नहीं।
हारो बेशक कई बार,हार के आगे झुको नहीं।
Neelam Sharma
नहीं घुटता दम अब सिगरेटों के धुएं में,
नहीं घुटता दम अब सिगरेटों के धुएं में,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
भ्रष्टाचार
भ्रष्टाचार
Juhi Grover
मन में संदिग्ध हो
मन में संदिग्ध हो
Rituraj shivem verma
*
*"तुलसी मैया"*
Shashi kala vyas
बारिश की संध्या
बारिश की संध्या
महेश चन्द्र त्रिपाठी
पिछली भूली बिसरी बातों की बहुत अधिक चर्चा करने का सीधा अर्थ
पिछली भूली बिसरी बातों की बहुत अधिक चर्चा करने का सीधा अर्थ
Paras Nath Jha
" लहर लहर लहराई तिरंगा "
Chunnu Lal Gupta
तेरा ही हाथ है कोटा, मेरे जीवन की सफलता के पीछे
तेरा ही हाथ है कोटा, मेरे जीवन की सफलता के पीछे
gurudeenverma198
ये दूरियां मजबूरी नही,
ये दूरियां मजबूरी नही,
goutam shaw
कुछ दिन से हम दोनों मे क्यों? रहती अनबन जैसी है।
कुछ दिन से हम दोनों मे क्यों? रहती अनबन जैसी है।
अभिनव अदम्य
किसी से दोस्ती ठोक–बजा कर किया करो, नहीं तो, यह बालू की भीत साबित
किसी से दोस्ती ठोक–बजा कर किया करो, नहीं तो, यह बालू की भीत साबित
Dr MusafiR BaithA
बदली मन की भावना, बदली है  मनुहार।
बदली मन की भावना, बदली है मनुहार।
Arvind trivedi
"चाँद को देखकर"
Dr. Kishan tandon kranti
नमन माँ गंग !पावन
नमन माँ गंग !पावन
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
*सियासत हो गई अब सिर्फ, कारोबार की बातें (हिंदी गजल/गीतिका)*
*सियासत हो गई अब सिर्फ, कारोबार की बातें (हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
तन्हाई बड़ी बातूनी होती है --
तन्हाई बड़ी बातूनी होती है --
Seema Garg
नामुमकिन
नामुमकिन
Srishty Bansal
बहुत तरासती है यह दुनिया जौहरी की तरह
बहुत तरासती है यह दुनिया जौहरी की तरह
VINOD CHAUHAN
🙅ख़ुद सोचो🙅
🙅ख़ुद सोचो🙅
*प्रणय प्रभात*
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जन्म दिवस
जन्म दिवस
Aruna Dogra Sharma
Loading...