Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Nov 2023 · 2 min read

धूतानां धूतम अस्मि

#sahityutsavdrarunkumarshastri
आज प्रातः काल में उठते समय एक विचार जो कि गीता के श्लोक 10/36 व भगवान श्री कृष्ण के वचन – धूतं छलयतामास्मि- अर्थात मैं छ्ल करने वालों में जुआ हूँ , के अन्तर्गत वर्णित है , अनायास याद आ गई ।
ये बात भगवान ने अपनी दिव्य विभूतियों का वर्णन करते समय कही है । इस बात को हमें संदर्भ के अनुसार समझना होगा । यथार्थ में जुआ लालच और लोभ का मूर्तरूप है । किन्तु उसमें सर्वव्यापक भगवद सत्ता का जो अल्पांश उपस्थित है उसे देखना होगा । उस की उपस्थिति जीने की उस आशा के रूप में दृष्टवय जो दांव हारते हुये खिलाड़ी के मन में अत्यधिक प्रबल होती जाती है यही भाव श्री भगवान ने उपरोक्त वचनों के माध्यम से सकारत्मकता को इंगित करते हुए अपनी सत्ता की उपस्थिति के लिये कहा है । प्रभू के इस वचन को मन से आत्मा से व कर्म के होने में छह कारक तत्वों अर्थात तीन प्रेरक तत्व ( ज्ञान , ज्ञेय, परिज्ञाता) और 3 कर्म संग्रह अर्थात कर्म को सम्पादन करने वाले तत्व ( करण, कर्म और कर्ता ) जो तृगुनात्मक विवेचना द्वारा ही उस कर्म में आपका सहभाग करते है से समझना होगा । श्री गीता जी में भगवान के सम्पूर्ण वचन व उसमें प्रस्तुत अर्थ भाव आदि सभी श्लोक शुरु से लेकर अन्त तक एक के बाद एक सतत रूप से श्री प्रभू के वचनो से जुड़े हैं इसलिए हम गीता को बीच से पढ़ कर समझ ही नही सकते । उसका सम्पूर्ण पठन पाठन कर के आत्मसात करना होगा तभी श्री गीता जी में वर्णित प्रभु भाव को समझ सकते। ओमं श्री भगवते वासुदेवाय नम: ।

1 Like · 334 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
।।श्री सत्यनारायण व्रत कथा।।प्रथम अध्याय।।
।।श्री सत्यनारायण व्रत कथा।।प्रथम अध्याय।।
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
ग़ज़ल:- रोशनी देता है सूरज को शरारा करके...
ग़ज़ल:- रोशनी देता है सूरज को शरारा करके...
अरविन्द राजपूत 'कल्प'
Canine Friends
Canine Friends
Dhriti Mishra
2411.पूर्णिका
2411.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
जुनून
जुनून
नवीन जोशी 'नवल'
आत्मविश्वास की कमी
आत्मविश्वास की कमी
Paras Nath Jha
माँ
माँ
SHAMA PARVEEN
*थर्मस (बाल कविता)*
*थर्मस (बाल कविता)*
Ravi Prakash
कहीं खूबियां में भी खामियां निकाली जाती है, वहीं कहीं  कमियो
कहीं खूबियां में भी खामियां निकाली जाती है, वहीं कहीं कमियो
Ragini Kumari
अपनों को दे फायदा ,
अपनों को दे फायदा ,
sushil sarna
यह अपना रिश्ता कभी होगा नहीं
यह अपना रिश्ता कभी होगा नहीं
gurudeenverma198
जीवन में सफलता छोटी हो या बड़ी
जीवन में सफलता छोटी हो या बड़ी
Dr.Rashmi Mishra
जर्जर है कानून व्यवस्था,
जर्जर है कानून व्यवस्था,
ओनिका सेतिया 'अनु '
बेटी
बेटी
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
वैसा न रहा
वैसा न रहा
Shriyansh Gupta
संवेदनाएं
संवेदनाएं
Buddha Prakash
तन्हायी
तन्हायी
Dipak Kumar "Girja"
लहर तो जीवन में होती हैं
लहर तो जीवन में होती हैं
Neeraj Agarwal
हम तो फूलो की तरह अपनी आदत से बेबस है.
हम तो फूलो की तरह अपनी आदत से बेबस है.
शेखर सिंह
3 *शख्सियत*
3 *शख्सियत*
Dr .Shweta sood 'Madhu'
Bus tumme hi khona chahti hu mai
Bus tumme hi khona chahti hu mai
Sakshi Tripathi
चलो मौसम की बात करते हैं।
चलो मौसम की बात करते हैं।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
आजादी..
आजादी..
Harminder Kaur
“SUPER HERO(महानायक) OF FACEBOOK ”
“SUPER HERO(महानायक) OF FACEBOOK ”
DrLakshman Jha Parimal
पुर-नूर ख़यालों के जज़्तबात तेरी बंसी।
पुर-नूर ख़यालों के जज़्तबात तेरी बंसी।
Neelam Sharma
मईया का ध्यान लगा
मईया का ध्यान लगा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
वोट का लालच
वोट का लालच
Raju Gajbhiye
'सवालात' ग़ज़ल
'सवालात' ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
चांद बिना
चांद बिना
Surinder blackpen
"फितरत"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...